जगदलपुर। नगरनार स्टील प्लांट को एनएमडीसी से डी-मर्ज (अलग करने) की प्रक्रिया आगे बढ़ने लगी है। एनएमडीसी द्वारा 23 हजार 140 करोड़ रुपये के तीन मिलियन टन सालाना उत्पादन क्षमता के नगरनार स्टील प्लांट के विनिवेशीकरण की स्थिति में राज्य सरकार द्वारा खरीदकर संचालित करने के संदर्भ में विधानसभा में शासकीय संकल्प पारित किया गया है। एनएमडीसी मुख्यालय हैदराबाद से नगरनार स्टील प्लांट प्रबंधन को 30 दिसंबर को एक पत्र भेजा गया है, जिसमें स्टील प्लांट की स्थापना के लिए जारी स्वीकृतियों, स्थापना लाइसेंस, जमीन अधिग्रहण से जुड़े ग्रामसभा द्वारा पारित प्रस्तावों, कंपनी के विरुद्घ हाई कोर्ट गए मामलों सहित अन्य दस्तावेज मुख्यालय भेजने को कहा गया है।

पत्र में बताया गया है कि डी-मर्जर के लिए एनएमडीसी द्वारा जे. सागर एसोसिएट को कानूनी सलाहकार नियुक्त किया गया है। दस्तावेज केंद्र सरकार को भी भेजे जाएंगे। बता दें कि 28 दिसंबर को विधानसभा में स्टील प्लांट के विनिवेशीकरण का फैसला निरस्त करने की मांग को लेकर शासकीय संकल्प सर्वसम्मति से पारित किया गया था। विधानसभा में चर्चा करते मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने घोषणा की थी कि नगरनार स्टील प्लांट का केंद्र ने निजीकरण किया तो छत्तीसगढ़ सरकार इसे खरीदेगी। केंद्र सरकार ने डी-मर्जर के लिए इस साल मार्च और विनिवेशीकरण की प्रक्रिया पूरी करने सितंबर तक की समय-सीमा तय की है। विनिवेशीकरण की प्रक्रिया पूरी होने से पहले जुलाई अंत में स्टील प्लांट से उत्पादन शुरू करने की योजना पर काम तेजी से शुरू किया जा चुका है।

यह जानकारियां मांगी गईं

एनएमडीसी ने पत्र के साथ मांगे गए दस्तावेजों की एक सूची संलग्न की है। इसके अनुसार नगरनार स्टील प्लांट के संबंध में कार्पोरेट डाक्यूमेंट एंड डिक्लरेशन, छत्तीसगढ़ सरकार के साथ इस संदर्भ में हुए पत्राचार की प्रतियां, नगरनार स्टील प्लांट की स्थापना, परिचालन शुरू करने को लेकर सरकार से या सरकार की किसी एजेंसी से या रेगुलेटर के साथ यदि पत्राचार किया गया है, तो उसकी प्रतियां, स्टील प्लांट के संदर्भ में यदि किसी को पावर आफ अटार्नी नियुक्त किया गया हो तो उसकी जानकारी आदि एक दर्जन बिंदु शामिल हैं। स्टील प्लांट के अधिशासी निदेशक प्रशांत दास से इस संबंध में चर्चा करने पर उन्होंने कहा कि कंपनी मुख्यालय के साथ पत्रों का आदान-प्रदान सामान्य कामकाज का हिस्सा है।

11 को दिल्ली में होगी समीक्षा बैठक

जानकारी के अनुसार 11 जनवरी को केंद्रीय इस्पात मंत्रालय ने नगरनार स्टील प्लांट को लेकर समीक्षा बैठक बुलाई है। बैठक में डी-मर्जर, विनिवेशीकरण और स्टील प्लांट के कमीशनिंग की तैयारी पर चर्चा हो सकती है। बैठक में एनएमडीसी मुख्यालय हैदराबाद के अलावा नगरनार स्टील प्लांट प्रबंधन से जुड़े वरिष्ठ अधिकारी भाग लेंगे। नगरनार स्टील प्लांट की स्थापना के लिए एनएमडीसी द्वारा एनएमडीसी स्टील लिमिटेड के नाम से दो जनवरी 2015 को नई कंपनी बनाई है। इस कंपनी का मुख्यालय नगरनार में है। एनएमडीसी ने अपनी इस सब्सिडियरी कंपनी का पंजीयन छत्तीसगढ़ में कराया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस