जगदलपुर। पड़ोसी राज्य आंध्रप्रदेश-ओड़िशा के पूर्वी तट के नजदीक बंगाल की खाड़ी में बने चक्रवाती समुद्री तूफान जवाद को देखते हुए वाल्टेयर रेलमंडल ने अगले दो दिनों के लिए तटीय क्षेत्र स्थित स्टेशनों से छूटने और गुजरने वाली 40 से अधिक यात्री ट्रेनों को रद कर दिया है। इनमें बस्तर को रेल यात्री सेवा से जोड़ने वाली भुवनेश्वर-जगदलपुर के बीच संचालित हीराखंड एक्सप्रेस और विशाखापटनम-किरंदुल एक्सप्रेस भी शामिल हैं। तीन दिसंबर को हीराखंड एक्सप्रेस और चार दिसंबर को किरंदुल एक्सप्रेस दोनों ओर से रद रहेगी।

ज्ञात हो कि वर्तमान में किरंदुल एक्सप्रेस का संचालन जगदलपुर से विशाखापटनम के बीच किया जा रहा है। इसी तरह हीराखंड एक्सप्रेस का संचालन यहां से 116 किलोमीटर दूर ओड़िशा के कोरापुट से किया जा रहा है। इस बीच तीन दिसंबर को किरंदुल-कोत्तावालसा रेललाइन के जैपुर रेलखंड में जैपुर-क्षत्रीपुट के बीच रेललाइन दोहरीकरण के अंतर्गत नई लाइन के निरीक्षण के लिए कमिश्नर रेलवे सेफ्टी एस मित्रा के प्रवास को लेकर भी संशय की स्थिति बनती दिख रही है। वाल्टेयर रेलमंडल मुख्यालय से चर्चा करने पर बताया कि गुरुवार शाम तक कमिश्नर रेलवे सेफ्टी के जैपुर-क्षत्रीपुट के बीच दूसरी लाइन के निरीक्षण के लिए प्रवास पर अंतिम निर्णय नहीं लिया सका था।

भारी बारिश हो सकती है

मौसम विभाग द्वारा रेलवे को दी गई सूचना में बताया गया है कि समुद्री तूफान जवाद तीन दिसंबर को रात आंध्रप्रदेश और ओड़िशा के समुद्र तटीय क्षेत्र से टकराएगा। इसका असर चार दिसंबर तक बना रहेगा। इसके असर से तेज हवाओं के साथ मध्यम से भारी बारिश हो सकती है। विशाखापटनम, सिरकाकुलम, विजयनगरम आदि क्षेत्रों में ज्यादा होगा।

पांच दिसंबर तक के लिए रद

ज्ञात हो कि बस्तर आने वाली यात्री ट्रेनें आंध्रप्रदेश और ओड़िसा के पूर्वी तट क्षेत्र स्थित भुवनेश्वर और विशाखापट्नम से आती हैं। उल्लेखनीय है कि ओड़िशा के राउरकेला से जगदलपुर आने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस को झारसुगुड़ा सेक्शन में नान इंटरलाकिंग वर्क के कारण पहले ही पांच दिसंबर तक के लिए रद किया जा चुका है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local