जगदलपुर। वन विभाग के उत्पादन शाखा द्वारा माचकोट, भानपुरी तथा जगदलपुर वन परिक्षेत्र में कूप कटाई की गई है परंतु तीन महीना 13 दिनों तक पेडत काटने वाले ढाई हजार मजदूरों को छः महीने बाद भी दो करोड रुपए का भुगतान नहीं किया गया है। लंबे समय से मजदूरी भुगतान नहीं होने से पेडत काटने वाले ग्रामीण नाराज है और अब वे आंदोलन के मूड में है।

बस्तर वनमंडल अंतर्गत उत्पादन शाखा द्वारा जगदलपुर, माचकोट और भानपुरी वन परिक्षेत्र अंतर्गत साल, सागौन, बीजा सहित विभिन्ना प्रजाति के इमारती वृक्षों की कटाई की गई है। इस कार्य हेतु तीनों रेंज में ढाई हजार मजदूरों को पेडत काटने का कार्य सौंपा गया था। पेडत काटने का कार्य कुल तीन महीना 13 दिन तक चला।

काटी गई लकितयों को काष्ठ डिपो तक भी पहुंचा दिया गया है परंतु कूप कटाई के छः महीने बाद के भी दो हजार पांच सौ मजदूरों को दो करोडत रुपए का भुगतान नहीं हो पाया है। विभागीय सूत्रों ने बताया कि गत नौ महीने से उत्पादन शाखा द्वारा कराए गए किसी भी कार्य हेतु विभागीय चेक प्रदान नहीं किया गया है। इस कारण यह स्थिति निर्मित हुई है।

व्यापक चर्चा

इस संदर्भ में उत्पादन शाखा के रेंजर अमर सिंह ने बताया कि मजदूरी भुगतान हेतु वनमंडलाधिकारी स्टाइलो मंडावी तथा सीसीएफ शाहिद खान से व्यापक चर्चा हुई है। अधिकारियों ने पीसीसीएफ कार्यालय रायपुर से चर्चा कर ली है। चेक मिलते ही मजदूरों का भुगतान कर दिया जाएगा। इधर लंबे समय से मजदूरी नहीं मिलने से नाराज विभिन्ना गांवों के मजदूरों ने वनमंडलाधिकारी कार्यालय आकर आंदोलन करने की बात भी कह दी है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local