जांजगीर- चांपा । बैंक आफ बड़ौदा के एक खाताधारक से एक लाख 42 हजार अचानक गायब हो गए। बैंक मैनेजर से इस पर पीड़ित ने सवाल जवाब किया तो उसे चलता कर दिया गया। पीड़ित अब दर-दर की ठोकरें खाने मजबूर हैं। इधर पुलिस भी इस मामले में रिपोर्ट लिखने तैयार नहीं हो रही । जिसके चलते पीड़ित ने लिखित आवेदन एसपी को सौंपा है। मामला सिटी कोतवाली क्षेत्र के नेताजी चौक का है। सिवनी निवासी अजय कुमार बरेठ ने अपनी बेटी पावनी कुमार बरेठ के नाम से बैंक आफ बड़ौदा शाखा जांजगीर में 6 जुलाई 2022 को एक लाख 42 रूपए जमा किया था। वह इतनी रकम में कुछ रकम निकालने के लिए जब गुरूवार को बैंक पहुंचा तो उसका खाता निल बता रहा था। इस संबध में जब वह ब्रांच मैनेजर से पूछताछ करने गया तो ब्रांच मैनेजर का कहना है कि 23 जुलाई को नेफ्ट के माध्यम से रवि नाम के व्यक्ति

के नाम से इंडस्लैंड बैंक में उक्त राशि ट्रांसफर होना बताया। यह सुनकर अजय कुमार ने बैंक मैनेजर से सवाल जवाब किया तो उसे चलता कर दिया गया। पीड़ित अब दर-दर की ठोकरें खाने मजबूर हैं। इधर पुलिस भी इस मामले में रिपोर्ट लिखने तैयार नहीं हो रही । जिसके चलते पीड़ित ने लिखित आवेदन एसपी को सौंपा है। मामला सिटी कोतवाली क्षेत्र के नेताजी चौक का है। सिवनी निवासी अजय कुमार बरेठ ने अपनी बेटी पावनी कुमार बरेठ के नाम से बैंक आफ बड़ौदा शाखा जांजगीर में 6 जुलाई 2022 को एक लाख 42 रूपए जमा किया था। वह इतनी रकम में कुछ रकम निकालने के लिए जब गुरूवार को बैंक पहुंचा तो उसका खाता निल बता रहा था। इस संबंध में जब वह ब्रांच मैनेजर से पूछताछ करने गया तो ब्रांच मैनेजर का कहना है कि 23 जुलाई को नेफ्ट के माध्यम से रवि नाम के व्यक्ति के नाम से इंडस्लैंड बैंक में उक्त राशि ट्रांसफर होना बताया। यह सुनकर अजय कुमार बरेठ के जमीन से पांव ही खिसक गए। अजय कुमार का कहना था कि वह रवि नाम के व्यक्ति को जानता पहचनता तक नहीं तो आखिर उसके खाते में इतनी बड़ी राशि कैसे ट्रांसफर हो गई। ब्रांच मैनेजर ने मामले की रिपोर्ट दर्ज कराने की नसीहत दी। जब पीड़ित अजय बरेठ सिटी कोतवाली गया तो वहां एपुआईआर नहीं लिखी गई और मामला नैला क्षेत्र का होना बताकर उसे चलता कर दिया। अजय फिर नैला चौकी पहुंच गया। नैला चौकी प्रभारी ने उसे पिुर जांजगीर थाना भेज दिया। जिससे थक हारकर पीड़ित ने एसपी से शिकायत की।

एसपी से की पुरियाद तब हुई एपुआईआर

सिटी कोतवाली में एपुआईआर नहीं लिखे जाने पर पीड़ित पुरियाद लेकर एसपी विजय अग्रवाल के पास गया। एसपी के निर्देश के बाद कोतवाली पुलिस ने अज्ञात खाताध्ाारक के नाम से अपराध दर्ज किया है। एसपी ने ज्वाइन करते ही साफ-साफ कह दिया था कि पीड़ित की समस्या थाना स्तर पर ही सुलझाई जाए, ताकि फरियादी एसपी कार्यालय तक न पहुंचे। लेकिन उनके आदेश के बाद भी धोखाधड़ी की रिपोर्ट लिखाने पीड़ित को चक्कर काटना पड़ गया।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close