जांजगीर-चांपा (नईदुनिया न्यूज)। जिले के ऐसे कई गांव है, जहां के किसानों को आठ से दस किलोमीटर की दूरी तय कर धान बेचने के लिए जाना पड़ता है। इसके चलते उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ता है। मगर इस साल से इन किसानों को परेशानियों का सामना करना नहीं पड़ेगा। जिला सहकारी बैंक द्वारा जांजगीर और सक्ती क्षेत्र के 15 गांवों में नए खरीदी केंद्र खोलने का प्रस्ताव भेजा गया है। खरीदी केंद्र खुल जाने पर किसानों को मात्र दो से तीन किलोमीटर की ही दूरी तय करनी पड़ेगी। इससे जहां किसानों का खर्च कम होगा वहीं उन्हें राहत मिलेगी।

राज्य सरकार ने इस वर्ष एक नवंबर से समर्थन मूल्य में धान खरीदी करने का निर्णय लिया है। जिले में भी धान खरीदी को लेकर जिला सहकारी बैंक ने तैयारी शुरू कर दी है। किसानों की मांग पर हर वर्ष खरीदी केंद्रों की संख्या बढ़ाई जाती है। पिछले वर्ष भी किसानों की सुविधा के लिए दर्जन भर नए खरीदी केंद्र खोले गए थे। जिससे खरीदी केंद्रों की संख्या बढ़कर 238 हो गई थी। वहीं इस वर्ष राज्य सरकार द्वारा लोगों की समस्याओं के लिए गांव गांव में जन चौपाल का आयोजन किया गया था। जनचौपाल में किसानों ने धान बेचने के लिए उन्हें हर वर्ष आठ से दस किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती थी और इससे होने वाली परेशानी को देखते हुए उन्होंने जनचौपाल में नए खरीदी केंद्र खोले जाने की मांग को लेकर आवेदन दिया था। प्राप्त आवेदनों के आधार पर जिला सहकारी बैंक ने नए धान खरीदी केंद्र खोले जाने का प्रस्ताव शासन को भेजा है। नए केंद्र खुल जाने के बाद किसानों को आठ से दस किलोमीटर की दूरी तय कर धान बेचने के लिए जाना नहीं पड़ेगा और न ही इसके चलते उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। जिला सहकारी बैंक द्वारा जांजगीर और सक्ती क्षेत्र के 15 गांवों में नए खरीदी केंद्र खोलने का प्रस्ताव भेजा गया है। खरीदी केंद्र खुल जाने पर किसानों को मात्र दो से तीन किलोमीटर की ही दूरी तय करनी पड़ेगी। इससे जहां किसानों का खर्च कम होगा वहीं उन्हें राहत मिलेगी। 15 नए उपार्जन केंद्रों की स्वीकृति मिलने के बाद जांजगीर-चांपा और सक्ती जिले में समर्थन मूल्य पर की जाने वाली धान खरीदी केंद्रों की संख्या 239 से बढ़कर 253 हो जाएगी।

परिवहन लागत कम होगी और समय बचेगा

नए केंद्र खुलने से किसानों को कम दूरी तय करनी होगी साथ ही परिवहन लागत कम होगी। केंद्रों की संख्या कम होने से अलग अलग तिथि में अलग - अलग पारी में गांव के किसानों से धान खरीदा जाता था। किसान नंबर आने के बाद केंद्र जरूर पहुंचते थे, लेकिन भीड़ होने के कारण उन्हें धान वापस लाना पड़ता था। या वहां धान की रखवाली करनी पड़ती थी। लेकिन अब वे समय पर केंद्र पहुंचेंगे और धान भी जल्द बिकेगा।

इन गांवा में खुलेंगे नए खरीदी केंद्र

जांजगीर समिति के पीथमपुर, सिवनी समिति के पाली, पहरिया समिति के करमंदा, तुलसी समिति के उदयभांठा, बलौदा समिति के नवगंवा, सेमरा समिति के चोरभठ्ठी, शिवरीनारायण समिति के तुस्मा, झालरौंदा समिति के आमापाली, जर्वे सक्ती समिति के धनपुर, अकलतरा समिति के अर्जुनी और झलमला, सलखन समिति के पोड़ीराछा और हसौद समिति के लालमाटी में नए धान खरीदी केंद्र खोले जाने के लिए प्रस्ताव भेजा गया है।

दोनों जिले में समिति व खरीदी केन्द्रों के आंकड़े

वर्तमान में जांजगीर-चांपा व सक्ती जिला मिलाकर 196 सेवा सहकारी समितियों के अंतर्गत 239 धान खरीदी केन्द्र हैं। जबकि जांजगीर-चांपा जिले में 101 समिति व 123 खरीदी केन्द्र तथा सक्ती जिले में 95 समिति व 116 खरीदी केन्द्र हैं। प्रस्ताव को अगर स्वीकृति मिल जाती है तो जांजगीर-चांपा जिले में 12 व सक्ती जिले में 3 नए खरीदी केन्द्र खुलेंगे।

'' जन चौपाल में मिले आवेदन के आधार पर जांजगीर-चांपा व सक्ती जिले के सेवा सहकारी समिति के अंतर्गत 15 नए उपार्जन केन्द्र खोले जाने के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा गया है।

शत्रुहन सिंह पैकरा

सहायक नोडल अधिकारी

जिला सहकारी बैंक जांजगीर

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close