जांजगीर-चांपा। (नईदुनिया न्यूज)। नाबालिग को शादी का प्रलोभन देकर उसके साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपित को विशेष न्यायाधीश (पाक्सो) खिलावन रिगरी ने 20 वर्ष सश्रम कारावास व 5 हजार रूपए अर्थदण्ड से दण्डित किया।

अभियोजन के अनुसार बलौदा थाना अंतर्गत रसौटा निवासी किरण कुमार यादव की पहचान 7 जुलाई 2020 से लगभग तीन वर्ष पूर्व क्षेत्र के एक किशोरी से हुई। इस दौरान किरण कुमार नाबालिग को शादी का प्रलोभन दिया और उसके साथ दुष्कर्म किया। कई बार वह किशोरी के साथ दुष्कर्म करता रहा, लेकिन किरण किशोरी से शादी न कर किसी अन्य युवती से शादी कर ली और किशोरी से बातचीत करना बंद कर दिया। वर्ष 2020 में आरोपित पुनः किशोरी से बातचीत करने लगा और अपनी पत्नी को छोड़कर पिᆬर से उससे शादी करने का प्रलोभन देकर उसके साथ दुष्कर्म करने लगा। वहीं किशोरी द्वारा उस पर शादी करने का दबाव बनाने लगी, मगर हर बार वह टाल मटोल करने लगा। लगातार उसकी प्रताड़ना से तंग आकर 6 जुलाई 2020 को पीड़िता उसके घर जाकर उसके जानकारी वारदात की जानकारी दी और इसकी शिकायत थाना पहुंचकर पुलिस से की। पुलिस ने प्रार्थिया की रिपोर्ट पर आरोपित किरण कुमार यादव के खिलापᆬ जुर्म दर्ज कर उसे गिरफ्तार किया और अभियोग पत्र न्यायालय में पेश किया। मामले की सुनवाई के दौरान मिले साक्ष्यों के आधार पर न्यायालय ने आरोपित रसौटा निवासी किरण कुमार यादव पिता शत्रुहन लाल यादव को नाबालिग के साथ दुष्कर्म करने का दोषी पाया। न्यायालय ने आरोपित को भादवि की धारा 376 (2) (ढ) एवं धारा 6 पाक्सो एक्ट के तहत 20 वर्ष के सश्रम कारावास व 5 हजार रूपए अर्थदंड से दण्डित किया। अर्थदण्ड की राशि जमा नहीं करने पर 100 दिन का सश्रम कारावास अलग से भुगताए जाने का आदेश दिया गया। अभियोजन की ओर से विशेष लोक अभियोजक (पाक्सो) चंद्र प्रताप सिंह ने पैरवी की।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local