जांजगीर-चांपा (नईदुनिया न्यूज)। नाबालिग का अपहरण कर दुष्कर्म करने वाले आरोपित को विशेष न्यायाधीश पाक्सो खिलावन राम रिगरी ने 20 वर्ष सश्रम कारावास और साढ़े 6 हजार रूपए अर्थदंड से दंडित किया।

अभियोजन के अनुसार 27 अक्टूबर 2020 को रात 9 बजे मुलमुला थाना क्षेत्र के ग्राम मुरली डीह निवासी ऋषिकुमार मिर्रीउर्फ चीनी (28) पिता दादूराम रात करीब 9 बजे एक नाबालिग को शादी का झांसा देकर बाइक में बैठाकर अपने साथ ले गया और जंगल में स्थित एक पुराने मकान में उससे दुष्कर्म किया। इसके बाद उसे कुछ दूर ले जाकर रास्ते में छोड़ दिया और फरार हो गया। पीड़िता वहां से पैदल घर पहुंची और आपबीती माता-पिता को सुनाई। स्वजन उसे लेकर थाना पहुंचे और रिपोर्ट दर्ज कराया गया । पुलिस ने ऋषिकुमार मिर्री के खिलाफ भादवि की धारा 363, 366 क 376 व धारा 6 पाक्सो एक्ट के तहत अपराध दर्ज किया और आरोपित को गिरफ्तार कर उसे जेल भेजा गया। विवेचना के बाद अभियोग पत्र न्यायालय में पेश किया गया। मामले की सुनवाई के दौरान अभियोजन पक्ष ने कहा कि नाबालिग का शारीरिक शोषण गंभीर सामाजिक अपराध है। इसलिए अभियुक्त को कठोर सजा दी जाए। न्यायालय ने ऋषिकुमार को अपहरण व दुष्कर्म का दोषी करार देते हुए धारा 363 के लिए 3 वर्ष सश्रम कारावास व 5 सौ रूपए अर्थदंड , 366 के लिए 5 वर्ष कारावास व 1 हजार रूपए अर्थदंड , धारा 376 (2) ढ व धारा 6 पाक्सो एक्ट के लिए 20 वर्ष सश्रम कारावास व 5 हजार रूपए अर्थदंड की सजा सुनाई। अर्थदंड नहीं देने पर 130 दिन अतिरिक्त कारावास भुगताए जाने का आदेश दिया। अभियोजन की ओर से विशेष लोक अभियोजक पाक्सोचंद्र प्रताप सिंह ने पैरवी की ।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close