जांजगीर-चांपा । Australian earthworms भारतीय पर आस्ट्रेलियाई केचुएं भारी पड़ रहे हैं। जी हां, बात चौकाने वाली जरूर है, लेकिन भारतीय केचुओं पर आस्ट्रेलियाई केचुओं ने अपनी उत्पादकता से धमक कायम कर दी है। भारतीय केचुओं की तुलना में आस्ट्रेलियाई केचुएं न केवल ज्यादा जैविक खाद का उत्पादन करते है, बल्कि वे लंबे समय जीवित भी रहते है, जबकि भारतीय केचुओं की उत्पादन क्षमता और जीवन भी कम होता है।

लिहाजा, छत्तीसगढ़ के जांजगीर चांपा जिले के एक युवा किसान ने आस्ट्रेलियाई केचुओं को अपनाया और बेहतरीन जैविक खाद तैयार की। धीरे-धीरे खाद व केचुओं की बढ़ रही मांग और बिक्री से वह आत्मनिर्भर बनने की राह पर निकल पड़ा है।

जिले के बहेराडीह गांव के युवक दीनदयाल यादव ने आस्ट्रेलियाई केचुआ पालकर कोरोना काल में लगभग डेढ़ लाख रुपये की वर्मीकंपोस्ट व केचुएं की बिक्री की है। दरअसल, भारतीय केचुएं की अपेक्षा आस्ट्रेलियाई केचुएं से खाद जल्दी व अधिक मात्रा में तैयार होती है, वहीं उसकी कीमत भी बाजार में दो सौ रुपए अधिक है। दरअसल, कृषि महाविद्यालय के प्राध्यापक डा. केडी महंत और रेस्टोरेशन फाउंडेशन के सीईओ जे बसवा राज से जानकारी लेकर किसान दीनदयाल यादव आस्ट्रेलियाई केचुआ पालकर वर्मीकंपोस्ट बनाने का काम कर रहे हैं।

किसान दीनदयाल ने बताया कि आस्ट्रेलियाई केचुआ गोबर में भी जिंदा रह सकता है, जबकि भारतीय केचुआ गोबर में जल्दी मर जाता है। इस केचुआ पालन व वर्मीकंपोस्ट बनाने का प्रशिक्षण हरिद्वार में लिया और गांव में अपने घर पर ही वर्मीकंपोस्ट तैयार करते है।

मौजूदा समय में गोठान में भी उनके केचुए व वर्मीकंपोस्ट की मांग है। इन केचुए की कीमत इन दिनों सात सौ रुपये प्रति किलोग्राम है, जबकि भारतीय केचुए की कीमत पांच सौ रुपये किलो है। दीनदयाल ने बताया कि उसने गांव की कई महिला समूहों को इसका प्रशिक्षण भी दिया है। वे भी वर्मीकंपोस्ट तैयार कर रही हैं। घर में दो बायोगैस है, उससे निकले अपशिष्ट का उपयोग वर्मीकंपोस्ट बनाने में किया जाता है।

बेहतर लाभदायक प्रयोग

भारतीय केचुए वर्मीकंपोस्ट को तैयार करने की बजाय जमीन में घुसकर मिट्टी को भुरभुरी बनाते हैं। आस्ट्रेलियाई केचुआ आकार में भी लंबे और फुर्तीले होते हैं। आस्ट्रेलियन प्रजाति के यह केचुए 90 दिनों में गोबर की खाद व मिट्टी को खाद में तब्दील कर देते है। - प्रहलाद सिंह, सहायक प्राध्यापक एवं कृषि वैज्ञानिक, शासकीय कृषि महाविद्यालय जांजगीर

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan