जांजगीर-चांपा (नईदुनिया न्यूज)। छत्तीसगढ़ व्यवसायिक परीक्षा मंडल द्वारा महिला एवं बाल विकास विभाग के पर्यवेक्षकों की भर्ती परीक्षा आज दो पालियों में आयोजित की गई। पहली पाली सुबह 9 बजे से दोपहर 12ः15 बजे तक और द्वितीय पाली में दोपहर 2 बजे से शाम 5ः15 तक परीक्षा हुई। पहली पाली में खुली सीधी भर्ती परीक्षा में 9001 और दूसरी पाली परीसीमित भर्ती परीक्षा में 964 परीक्षार्थी शामिल हुए। दोनों पाली मिलाकर 802 परीक्षार्थी अनुपस्थित रहे।

महिला एवं बाल विकास विभाग में पर्यवेक्षकों के रिक्त पदों में भर्ती के लिए छत्तीसगढ़ व्यवसायिक परीक्षा मंडल द्वारा रविवार को परीक्षा आयोजित की गई। पहली पाली की परीक्षा के लिए जिले में 28 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। पहली पाली में 9600 परीक्षार्थी पंजीकृत थे। इनमें से 9001 परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल हुए। जबकि 599 परीक्षार्थी अनुपस्थित थे। इसी तरह दूसरी पाली में कुल 1167 परीक्षार्थी पंजीकृत थे। इनमें से 964 लोगों ने परीक्षा दी। कोरोना संक्रमण को देखते हुए परीक्षार्थियों को बिना मास्क के परीक्षा केंद्रों में प्रवेश नहीं दिया जा रहा था। वहीं संक्रमित परीक्षार्थियों के लिए अलग से कमरे की व्यवस्था की गई थी। परीक्षा के लिए टीसीएल कालेज जांजगीर, जाज्वल्यदेव कन्या महाविद्यालय, कृषि महाविद्यालय, पालेटेकनिक महाविद्यालय, डाईट जांजगीर, शासकीय बहु उद्देशीय उमावि क्रमांक - 2 खोखरा भांठा, शासकीस कन्या उमावि खोखरा, शासकीय कन्या उमावि जांजगीर, सरस्वती शिशु मंदीर नैला, ज्ञानदीप उमावि, ज्ञानभारती उमावि, ज्ञानोदय उमावि, ज्ञानज्योति उमावि, विवेकानंद उमावि, ज्ञानरोशनी लोक कल्याण संस्थान खोखरा, जय भारत अंग्रेजी माध्यम जांजगीर, केशरी शिक्षा समिति खोखरा, शासकीय उमावि में बनारी, शासकीय उमावि तिलई, शासकीय उमावि, दिल्ली पब्लिक स्कूल घुठिया, महारानी लक्ष्मीबाई शासकीय उमावि चांपा, शासकीय उमावि बरपाली चांपा, सरस्वती शिशु मंदिर चांपा, लायंस इंगलिस उमावि चांपा, शासकीय उमावि भोजपुर, शासकीय उमावि सिवनी-चांपा और बालक शासकीय उमावि चांपा को केंद्र बनाया गया थाा। कोरोना संक्रमण को देखते हुए एक टेबल में एक परीक्षार्थी के बैठने की व्यवस्था की गई थी । इसके चलते जिले में केंद्रों की संख्या बढ़ाई गई थी। जिला मुख्यालय जांजगीर के अलावा चांपा, बनारी, तिलई और आसपास के स्कूलों को केंद्र बनाया गया था। परीक्षा समाप्ति के बाद शहर में परीक्षार्थी और उनके स्वजन सभी मार्गों में नजर आए।

गलत उत्तर अंकित करने पर कटेगा एक चौथाई अंक

परीक्षार्थियों ने बताया कि व्यवसायिक परीक्षा मंडल द्वारा पूछे गए सवाल औसत दर्जे के थे। महिला एवं बाल विकास विभाग से जुड़ी योजनाओं एवं गतिविधियों को लेकर एक - एक अंक के 40 सवाल पूछे गए थे। सामान्य मानसिक योग्यता एवं सामान्य ज्ञान के 80 अंकों के 80 सवाल के अलावा सामान्य हिंदी एवं छत्तीसगढ़ी भाषा का सामान्य ज्ञान, सामान्य अंग्रेजी और सामान्य गणित से जुड़े कुल 100 प्रश्न पूछे गए। प्रत्येक प्रश्न के दो अंक निर्धारित थे। गलत उत्तर अंकित करने पर निर्धारित अंक का एक चौथाई अंक काटे जाने के प्रावधान के कारण परीक्षार्थियों ने उन्हीं सवालों को हल करना जरूरी समझा जिसका जवाब वे सही तरीके से जानते थे। द्वितीय पाली में पर्यवेक्षक भर्ती के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं की परीक्षा हुई।

लिंक रोड में लगा जाम

सुबह की पाली में 9 हजार से अधिक परीक्षार्थियों के परीक्षा में शामिल होने पहुंचने की वजह से लिंक रोड में परीक्षा छूटने पर करीब आधे घंटे तक जाम की स्थिति निर्मित हो गई। दरअसल लिंक रोड के मुख्यमार्ग में संचालित विवेकानंद उमावि, ज्ञानभारती उमावि, ज्ञान ज्योति ज्ञानदीप उमावि को परीक्षा केंद्र बनाया गया था। परीक्षा छूटने पर चारों केंद्र से एक साथ परीक्षार्थी बाहर निकले इसके चलते लिंक रोड में जाम की स्थिति निर्मित हो गई थी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local