जांजगीर-चाम्पा। नईदुनिया प्रतिनिधि। शासन के निर्देश पर नगरीय निकाय व पंचायत चुनाव के लिए मतदाताओं का सत्यापन कार्य 14 अक्टूबर तक कराए जाने का निर्देश दिया गया, मगर विधानसभा जांजगीर-चाम्पा के कई कर्मचारियों द्वारा सत्यापन कार्य की एक भी कई आनलाइन एंट्री नहीं की गई, जबकि कुछ बीएलओ द्वारा महज 2 से 10 मतदाताओं की आनलाइन एंट्री कर औपचारिकता निभा दी गई। ऐसे में निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी द्वारा निर्वाचन में लापरवाही बरतने वाले लगभग 40 बीएलओ का अक्टूबर का वेतन रोकने का निर्देश जारी किया है। हालांकि आयोग द्वारा आनलाइन एंट्री की तिथि सप्ताह भर बढ़ाई गई है।

राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देश पर सभी नगरीय निकाय व पंचायतों में नये मतदाताओं के नाम जोड़ने व अन्यत्र कारणों से गांव में निवास नहीं करने वाले मतदाताओं की पहचान कर इसका सत्यापन करने का निर्देश दिया गया। आयोग के निर्देश पर जिले के सभी विधानसभा क्षेत्र में कार्य जारी है। निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार सभी मतदाताओं का सत्यापन कर आनलाइन एंट्री कराया जाना है। निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार प्रत्येक मतदाताओं की आनलाइन एंट्री सत्यापन एनवीएसपी डॉट इन, हाईब्रिड बीएलओ एप, सीएससी सेंटर व अन्य माध्यमों से कराया जाना है। आयोग के निर्देशानुसार इसकी जिम्मेदारी बीएलओ को दी गई है और उन्हें 14 अक्टूबर तक आनलाइन सत्यापन कराये जाने का निर्देश दिया गया था। जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा जांजगीर-चाम्पा विधानसभा क्षेत्र के कुल 2 लाख 8 हजार 449 मतदाताओं के आनलाइन सत्यापन कार्य की जिम्मेदारी बीएलओ को दी गई, मगर यहां बीएलओ के द्वारा निर्वाचन जैसे गंभीर कार्यों में रूचि नहीं दिखाई गई। यहां 15 अक्टूबर की ईव्हीपी रिपोर्ट के अनुसार जांजगीर चाम्पा विधानसभा क्षेत्र के 2 लाख 8 हजार 449 मतदाताओं में से मात्र 39 हजार 885 का ही सत्यापन हुआ था। यहां निर्वाचन कार्य में लगे बूथ लेवल अधिकारियों द्वारा सत्यापन कार्य में रूचि नहीं ली गई। यहां प्रशासन द्वारा लगातार उनके मोबाइल के मैसेज, वाट्सअप, प्रशिक्षण सहित अन्य सोशल मीडिया के माध्यम से उन्हें जानकारी व निर्देश दिया गया, मगर इनमें से कई बीएलओ द्वारा एक भी सत्यापन कार्य नहीं किया गया, हालांकि इनमें से कुछ लोगों ने महज 1 से लेकर 10 मतदाताओं का सत्यापन कार्य कर खानापूर्ति कर दी। मामले की गंभीरता को देखते हुए निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी द्वारा कार्य में लापरवाही बरतने वाले लगभग 30 से 40 बीएलओ को कारण बताओ नोटिस जारी किया, मगर संबंधित बीएलओ द्वारा संतोषप्रद जवाब नहीं दिया गया। इसके चलते निर्वाचन जैसे गंभीर कार्य में लापरवाही बरतने वाले लगभग 30 से 40 बीएमओ को निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी द्वारा अक्टूबर माह का वेतन रोकने का निर्देश जारी किया है।

इन शिक्षकों का रूकेगा वेतन

अनिल सिंह कंवर, लव कुमार चौहान, अजयकांत तिवारी, चैतराम प्रधान, रामगोपाल राठौर, संतोष कुमार यादव, नवनीत कुमार पटेल, प्रेम चंद देवांगन, सुनील कुमार, अंकित राठौर, खुशराम खूंटे, सतीश कश्यप, भूपेन्द्र नेमी, शैलेन्द्र कुमार तम्बोली, बिहारी लाल शर्मा, शेषनारायण राठौर, दीपक कुमार थवाईत, कमलेश कुमार साहू, धनंजय कुमार राठौर, कृष्ण गोपाल, विवेक कुमार राठौर, भवानी प्रसाद कौशिक, प्रणव सिंह, अनंतराम गोंड़ सहित बम्हनीडीह ब्लाक के दर्जन भर से अधिक शिक्षकों का अक्टूबर माह का वेतन रोकने का आदेश संबंधित बीईओ को दिया गया है।

एसडीएम कार्यालय कर्मचारी पर लगाया दुर्व्यवहार का आरोप

एसडीएम कार्यालय में पदस्थ श्रीमती भुवनेश्वरी गौतम द्वारा वाट्सअप ग्रुप में 14 अक्टूबर को बीएलओ के कार्यों के संबंध में सूचना दी गई। यहां एसडीएम कार्यालय से मिले सूचना के आधार पर सभी बीएलओ एसडीएम कार्यालय पहुंचे और सत्यापन कार्य में नेटवर्क, सर्वर में आ रही दिक्कतों के संबंध में जानकारी देते हुए कार्य में असमर्थता जताई गई। यहां कर्मचारियों का आरोप है कि इस दौरान श्रीमती गौतम द्वारा कर्मचारियों से दुर्व्यवहार किया गया। साथ ही उनके खिलापᆬ कार्रवाई कराने की बात कही गई। ऐसे में कर्मचारियों ने श्रीमती गौतम के खिलापᆬ शिकायत कर बीएलओ कार्य से मुक्त करने की मांग की।

''निर्वाचन आयोग के अनुसार निर्धारित तिथि तक आनलाइन सत्यापन कार्य पूर्ण किया जाना था, मगर लगभग 30 से 40 बीएलओ द्वारा कार्य में लापरवाही बरती गई। इनमें से कई बीएलओ द्वारा एक भी आनलाइन एंट्री नहीं की गई, जबकि कुछ लोगों द्वारा महज आनलाइन एंट्री की खानापूर्ति की गई। यहां कार्य में लापरवाही बरतने वाले बीएलओ का अक्टूबर माह का वेतन रोकने का निर्देश जारी किया गया है।

बजरंग दुबे

एसडीएम चांपा व निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी

Posted By: Nai Dunia News Network