जांजगीर- चांपा। जिला जेल जांजगीर में कोरोना ने कहर बरपा दिया है। सात दिन पहले दो बंदियों की तबीयत खराब होने पर कोविड जांच कराई गई थी जिसमें दोनों की रिपोर्ट पाजिटिव आई थी। दूसरे दिन 6 बंदियों की पिᆬर जांच कराई गई जिसमें 4 बंदी संक्रमित मिले। इसके बाद जिला जेल में हडकंप मच गया। जेल अधीक्षक, व स्टापᆬ सहित 150 बंदियों की एंटीजन और आरटीपीसीआर से जांच की गई जिसमें से 45 बंदी संक्रमित मिले वहीं 45 बंदियों की रिपोर्ट आना बाकी है। एक बंदी की हालत गंभीर है उसे इलाज के लिए एक्सक्लूजिव कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं शेष बंदियों को जेल के अलग - अलग बैरक में आइशोलेट किया गया है। जेल अधीक्षक का इलाज बिलासपुर के एक निजी अस्पताल में चल रहा है।

जिले में कोरोना संक्रमण का रफ्तार बढ़ते ही जा रहा है। कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ने के साथ ही इससे मरने वालों के आकड़े भी बढ़ रहे हैं। कोरोना ग्रामीण क्षेत्रों व शहरों के बाद अब सरकारी कार्यालयों तक पहुंच गया है। कोरोना ने जिला जेल में एक बार पिᆬर दस्तक दे दिया है। पिछले साल सितंबर महीने में कोरोना से जिला जेल के 45 बंदी संक्रमित हुए थे। 16 सितंबर को 14, 17 सितंबर को 16 और 18 सितंबर को 15 बंदी संक्रमित मिले थे। इस साल पिᆬर जेल के बंदी संक्रमित मिल रहे हैं। दरअसल 30 अप्रैल को दो बंदियों की तबीयत खराब होने पर उन्हें इलाज के लिए जिला अस्पताल भेजा गया था। दोनों बंदियों की यहां कोरोना जांच की गई जिसमें दोनों की रिपोर्ट पाजिटिव आई। दूसरे दिन पिᆬर 6 बंदियों को जिला अस्पताल भेजकर कोरोना जांच कराई गई तो उनमें से 4 बंदी संक्रमित मिले। इसके बाद जेल प्रशासन में हडकंप मच गया। जेल प्रशासन द्वारा सीएमएचओ को पत्र लिखकर जेल के बंदियों की कोरोना जांच कराने की मांग की गई। जिस पर स्वास्थ्य विभाग के द्वारा जेल में कैंप लगाकर जेल अधीक्षक व स्टापᆬ और बंदियों सहित 150 लोगों की जांच की गई। जिनमें से एंटीजन से जिन स्टापᆬ और बंदियों की जांच की गई थी उसमें से जिला जेल के अधीक्षक और 3 सिपाही और 1 हवलदार सहित 50 लोगों की रिपोर्ट पाजिटिव आई। वहीं आरटीपीसीआर सैंपल की रिपोर्ट अभी नहीं आई है। इस दौरान 3 मई को एक बंदी को आक्सीजन लेवल में कमी पाए जाने पर उसे इलाज के लिए कोविड अस्पताल जांजगीर में भर्ती कराया गया है। वहीं शेष बंदियों को जेल के अलग - अलग बैरक में रखा गया है। बंदियों को स्वास्थ्य विभाग के द्वारा दी गई दवाओं से वहां के पᆬार्मासिस्ट की देखरेख में इलाज किया जा रहा है।

अब टोकन सिस्टम से होगी कोरोना जांच

जिले के सभी कोविड जांच सेंटर्स में फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करवाने एवं जनसुविधा को ध्यान में रखते हुए टोकन सिस्टम लागू किया गया है। जिला चिकित्सालय परिसर स्थित फीवर क्लीनिक जांच सेंटर में सुबह 8 से दोपहर 3 बजे तक जांच की जाएगी तथा जिले के शेष जांच सेंटर्स में सुबह 9 से दोपहर 3 बजे तक कोरोना की जांच की जाएगी। आमजनों से अपील की गई है कि वे कोविड जांच सेंटर में टोकन सिस्टम से ही जांच कराएं। कोरोना संक्रमण बढ़ने के साथ ही जिला अस्पताल जांजगीर, बीडीएम अस्पताल चांपा और सभी 9 ब्लाक मुख्यालय के सीएचसी सेंटरों में बनाए गए कोविड जांच केंद्रों में बड़ी संख्या में लोग कोरोना जांच कराने के लिए पहुंच रहे थे। इससे अव्यवस्था हो रही थी। संक्रमितों के संपर्क में स्वस्थ्य व्यक्ति भी आ जा रहे थे। ऐसे में अब टोकन सिटस्म लागू किया गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags