जांजगीर-चांपा (नईदुनिया न्यूज )। राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष तेज कुंवर नेताम की अध्यक्षता में जिला पंचायत सभा कक्ष में विभिन्ना विभाग के जिला अधिकारियों के साथ बाल संरक्षण के मुद्दों पर उन्मुखीकरण कार्यशाला व समीक्षा बैठक आयोजित की गई। जिसमें अध्यक्ष द्वारा बाल अधिकार संरक्षण के संबंध में जानकारी दी गई। अध्यक्ष ने लैंगिक अपराधों से बधाों का संरक्षण अधिनियम 2012 के तहत दर्ज प्रकरणों व निराकरण की समीक्षा करते हुए विशेषतः मुआवजा राशि दिलाने के लिए पुलिस विभाग को निर्देशित किया। उन्होंने जिला शिक्षा अधिकारी को अनिवार्य एवं निःशुल्क शिक्षा अधिनियम 2009 के क्रियान्वय एवं शाला के जर्जर भवनों के मरम्मत कार्य के लिए निर्देशित किया। बैठक में महिला एवं बाल विकास विभाग को संचालित संस्था में निवारसत बधाों को कोविड से बचाव के लिए अनिवार्यतः टीकाकरण एवं बाल विवाह के उन्नामूलन के लिए सभी विभागों से समन्वय कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए। आबकारी विभाग को शराब दुकान शाला के निकट स्थापित न करने एवं नाबालिग बधाों को शराब विक्रय में संलग्न करने पर अनिवार्यतः रोक एवं ऐसा कराने वाले पर किशोर न्याय अधिनियम 2015 आदर्श नियम 2016 के तहत कार्रवाई कराने निर्देशित किया। श्रम विभाग को बाल श्रमिक मिलने की सूचना पर नियोक्ता पर और सभी विभागों को आपस में समन्वय कर बाल संरक्षण के मुद्दो पर कार्रवाई करने निर्देश दिए। बैठक में राज्य बाल संरक्षण आयोग की सदस्य पुष्पा पाटले, आशा संतोष यादव, अगस्टीन बनाडे, सोनल कुमार गुप्ता, आयोग के सहायक संचालक वृजेंद्र सिंह ठाकुर, पूर्व विधायक मोतीलाल देवांगन, दिनेश शर्मा, मंजू सिंह, नीता थवाईत, एसडीओपी पद्मश्री तंवर सहित विभागीय अधिकारी एवं विकासखंड अधिकारी शामिल थे।

बालगृह का किया निरीक्षण

राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष तेज कुंवर नेताम एवं सदस्यों ने संस्था हेल्प एण्ड हेल्प्स समिति बालगृह जांजगीर का निरीक्षण कर संस्था के गतिविधियों एवं पंजियों का अवलोकन किया। अध्यक्ष एवं सदस्यों ने संस्था में संरक्षण प्राप्त बालकों से चर्चा की। इसके पश्चात बाल कल्याण समिति जांजगीर का निरीक्षण एवं बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष, सदस्यों से प्रकरणो एवं उसके निराकरण में आने वाली समस्याओं के संबंध में चर्चा की।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close