सक्ती (नईदुनिया न्यूज)। कोविड 19 महामारी काल की इस संकट घड़ी में शासन द्वारा प्रतिबंधित गुटखा गुड़ाखू तथा सिगरेट इत्यादि सामानों का भंडारण कर विक्रय करने से नगर के बड़े व्यापारी बाज नहीं आ रहे हैं। छोटे पान दुकान वालों पर तो रोक लगा दी गई है मगर छूट के दायरे में आने वाले बड़े प्रतिष्ठानों में ये प्रतिबंधित समान धड़ल्ले से बिक रहे हैं। मुनाफा कमाने के फेर में सोना चांदी से लेकर मेडिकल व्यापारी भी इस धंधे में उतर गए हैं। वहीं स्थानीय प्रशासन द्वारा इन बड़े व्यापारियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है जिसके कारण उनके हौसले बुलंद हैं। प्रतिबंधित सामानों को ये व्यापारी अपने निजी ट्रांसपोर्ट से लाकर गोदामों में डंप कर रखें हैं और ऊंचे दामों पर बिक्री कर रहे हैं। नगर में ऐसे कई दुकानदारों को आसानी से चिन्हांकित किया जा सकता है जो इस प्रकार के धंधे में लिप्त हैं। दुकान में कार्रवाई के भय से घर से काम चला रहे हैं। कोरोना संक्रमण का यह दौर इन व्यापारियों के लिए किसी सुनहरे अवसर से कम नहीं है।

कपड़ा व्यापारी बना गुडाखू का थोक विक्रेता

नगर के बुधवारी बाजार का एक बड़ा कपड़ा व्यापारी अब गुडाखू का थोक व्यापारी बन गया है। प्रतिबंधित सामान गुडाखू, गुटखा, सिगरेट इत्यादि में फायदा अधिक होने के कारण कपड़ा व्यापारी ने अब इन सामानों की खरीद बिक्री का व्यवसाय प्रारंभ कर दिया है। बुधवारी बाजार में खुलेआम उसके द्वारा गुडाखू भारी मात्रा में स्टॉक कर थोक में बिक्री की जा रही है।

नगर की फैक्ट्री में बन रहा है गुड़ाखू

गुड़ाखू की मांग अत्यधिक होने के कारण नगर के एक गुड़ाखू फैक्ट्री के द्वारा वर्तमान में गुड़ाखू का उत्पादन प्रारंभ कर बेचा जा रहा है। कुछ दिनों पूर्व इसकी सूचना थाने में दी गई थी तब फैक्ट्री कोबंद भी कराया गया था। लेकिन बाद में पुनः उत्पादन चालू कर दिया गया है तथा खुलेआम गुड़ाखू विक्रय किया जा रहा है।

बिलासपुर - खरसिया से पहुंच रहा है सामान

किराना व्यापारी बिलासपुर-रायपुर इत्यादि शहरों से गल्ला सामान एवं प्रतिबंधित गुड़ाखू , गुटखा धड़ल्ले से लाना ले जाना कर रहे हैं। जिसके लिए वेअपने निजी संसाधनोंका उपयोग कर रहे हैं। प्रतिबंधित पान मसाला एवं गुटखा नगर में निजी ट्रांसपोर्ट के माध्यम से बिलासपुर ,खरसिया से आसानी से पहुंच रहा है। प्रशासन को इस संबंध में जानकारी भी दी जाती है मगर छोटे व्यापारियों पर कार्रवाई करके प्रशासन अपनी इतिश्री कर लेता है।

नाकेबंदी के बाद भी कैसे पहुंच रहा सामान

कोरोना वायरस की रोकथाम और बचाव के लिए प्रशासन द्वारा जिले की सभी सीमाओं में बेरिकेट्स लगाकर नाकेबंदी की गई है। वहीं इन स्थानों में निगरानी के लिए पुलिस के जवानों के साथ ही राजपत्रित अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है। इसके बाद भी बिलासपुर, रायपुर और रायगढ़ जिले से नगर में प्रतिबंधित सामान कैसे पहुंच रहा है। इसमें पुलिस और प्रशासन की मिली भगत से इंकार नहीं किया जा सकता है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना