सक्ती । (नईदुनिया न्यूज)। जनपद सीईओ अपने कर्तव्यों की अनदेखी करते हुए मनमानी कर रहे हैं। जनपद के सामान्य सभा की बैठक में पारित प्रस्तावों को दरकिनार करते हुए लोकतांत्रिक व्यवस्था का मख़ौल उड़ा रहे हैं। जनपद अध्यक्ष राजेश राठौर ने आरोप लगाते हुए बताया कि सामान्य सभा की बैठक में पारित 15 वें वित्त की राशि से स्वीकृत कार्यों की प्रशासकीय स्वीकृति के लिए लगातार जनपद सदस्यों को घुमाया जा रहा है। लगातार जनपद अध्यक्ष द्वारा गांव के विकास कार्यों को लेकर जनपद सदस्यों द्वारा मांग पर अनुविभागीय अधिकारी राजस्व की अध्यक्षता वाली वर्किंग कमेटी की बैठक में स्वीकृत कार्ययोजना के क्रियान्वयन के लिए लगातार जनपद सीईओ डीएस यादव से आग्रह किया जा रहा है बावजूद इसके उन्होंने मनमानी करते हुए कमेटी के निर्णयों को नहीं माना जा रहा है। ज्ञात हो कि पूर्व में भी जनपद सीईओ द्वारा अपने पद का दुरुपयोग करते हुए लाखों रुपए फर्जी तरीके से आहरण करने का आरोप जनपद अध्यक्ष द्वारा लगाया गया था। जिसके संबंध में सभी दस्तावेज जनपद अध्यक्ष राजेश राठौर द्वारा कलेक्टर एवं जिला पंचायत सीईओ को भी शिकायत पत्र के साथ दी गई थी। मगर आज तक पूर्व सीईओ द्वारा किए गए गबन की जांच उधााधिकारियों द्वारा नहीं की गई है।

'' वर्किंग कमेटी द्वारा तैयार किए गए 15 वें वित्त के कार्ययोजना के बाद जनपद के सामान्य सभा द्वारा ग्रामीण क्षेत्र के विकास के लिए 127 कार्य लगभग 2.5 करोड़ की लागत का अनुमोदन किया गया जिसके बाद उक्त समस्त कार्यों का प्राक्कलन एवं तकनीकी स्वीकृति सीईओ द्वारा कराया गया। लेकिन जब सदस्यों द्वारा उक्त सभी कार्यों की प्रशासकीय स्वीकृति की बात की गई तो उनके द्वारा टालमटोल करते हुए हर बार अलग - अलग कारण बताते हुए सदन द्वारा प्रस्तावित अनुमोदित एवं तकनीकी स्वीकृति प्राप्त गांव के विकास कार्य को बाधित किया जा रहा है।

राजेश राठौर, जनपद अध्यक्ष सक्ती

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local