जांजगीर-चांपा। नईदुनिया न्यूज

प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत 8 करोड़ एलपीजी कनेक्शन के कार्य को पूरा करने के लिए, गैस कंपनियों ने उन ग्राहकों से नए केवायसी फॉर्म का संग्रह शुरू किया है, जिन्हें इस योजना के तहत पूर्व में एलपीजी कनेक्शन नहीं दिया गया था। सरकार ने इएमपीयूवाय के 2 तहत उन सभी लाभार्थियों को नया एलपीजी कनेक्शन प्रदान करने के आदेश पारित किए हैं, जिनके पास राशन कार्ड है और योजना के तहत पहले गैस कनेक्शन नहीं दिया गया है। सभी पात्र लाभार्थी जिनके पास गैस कनेक्शन नहीं है, वे पास के वितरक से संपर्क कर सकते हैं और उन्हें उज्जवला कनेक्शन दिया जाएगा।

सभी इंडेन वितरक गैस कनेक्शन न होने वाले लाभार्थियों से केवाइसी फॉर्म लेने के लिए गांववार शिविर भी कर रहे हैं। प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत गैस कनेक्शन प्राप्त करने के लिए लाभार्थी को राशन कार्ड और परिवार के सभी वयस्क सदस्य का आधार कार्ड देना होगा, जिनकी उम्र 18 वर्ष से अधिक है। इसके अलावा, सरकार द्वारा निर्धारित 14 बिंदु घोषणा प्रारूप को भी भरना होगा। इसके अलावा प्रधानमंत्री उज्जवला योजना अंतर्गत जिन पात्र उपभोक्ताओं ने गैस सिलेंडर पूर्व में लिए है,उन उपभोक्ताओं के पास रिफील करवाने के लिए पैसे नहीं है वह उपभोक्ता सम्बंधित गैस एजेंसी में जहाँ से उनका कनेक्शन जारी हुआ है वहां 14.2 किलो वाला सिलेंडर जमा कर उसके बदले में 5 किलो वाला सिलेंडर ले सकते है। इन छोटे सिलेंडर की सप्लाई घर बैठे उपभोक्ताओं को मिल सकेगी। उक्ताशय के निर्देश पेट्रोलियम मंत्रालय,भारत सरकार के निर्देश पर सम्बंधित ऑयल कंपनियों ने अपने अपने एलपीजी वितरको को जारी कर इसका पालन करने को कहा है। प्रधानमंत्री उज्जवला योजना अंतर्गत गैस सिलेंडर उन उपभोक्ताओं को जारी किया गया है,जो गरीबी रेखा के अंतर्गत आते है। मेहनत मजदूरी करके अपना जीवन यापन करते है। कई बार उनके पास रिफील भरवाने के लिए पैसे नहीं होते जिसके चलते वह लोग गैस सिलेंडर के स्थान पर घर में लकड़ी,कोयला,गोबर का कंडा जैसे परम्परागत साधनों से खाना बनाते हैं। जिससे उनके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। ऐसे में उन्हें दमा,श्वॉस जैसी जटिल बीमारियों से गुजरना पड़ता है। इसी सब को ध्यान में रखते हुए पेट्रोलियम मंत्रालय ने सभी गैस कंपनियों को ग्राहक की इच्छा के अनुसार 14.2 किलोग्राम के सिलेंडर से 5 किलोग्राम के सिलेंडर की अदला-बदली करने का निर्देश दिया है।