जांजगीर-चांपा। नईदुनिया प्रतिनिधि। गुरूवार को 'हेलो नईदुनिया' कार्यक्रम में डा. अनिल कुमार जगत एमडी मेडिकल स्पेशलिस्ट ने हृदय रोग, बीपी, शुगर व अन्य सीजनल रोग से संबंधी समस्याओं के बारे में पाठकों के सवालों के जावब दिए। डॉ. जगत ने उन्हें बीमारियों के निदान के साथ ही उनसे बचाव के बारे में कई उपयोगी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि हमारी जीवनशैली में बदलाव होने के कारण हम कई बीमारियों से घिर गए हैं। अब हमें जीवनशैली में कुछ नए बदलाव करने होंगे, नहीं तो बीमारियों का घर बन जाएंगे। उन्होंने कहा कि सुबह लगभग आधा घंटा व्यायाम करें। इससे डायबिटीज, ब्लड प्रेशर कंट्रोल रहेगा। इस मौसम में वायरल संक्रमण भी होता है। इससे बचाव के लिए प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएं। इसके लिए विटामिन, प्रोटिन, पᆬाइवर, मिनरलयुक्त भोजन लें। उन्होंने कहा कि विश्व में प्री-मेच्योर डेथ की संख्या 4 करोड़ 10 लाख सालाना है। जो गैर संचारी रोगों बीपी, शुगर, किडनी की बीमारी कैंसर व सड़क दुर्घटनाओं में होती है। हम अगर जागरूक हैं तो इनमें से बहुत सी मौते रोकी जा सकती हैं। लेकिन लोग अपने शरीर के प्रति भी लापरवाह हैं। लोगों में सक्रियता की कमी, आहार का सही नहीं होना, नींद की कमी के कारण ज्यादातर बीमारी हो रहे हैं। प्रत्येक व्यक्ति को 6 से 7 घंटा नींद लेना चाहिए। साथ ही भोजन में जंग पᆬूड डिब्बा बंद खाद्य पदार्थो से परहेज करें और प्रोटिन, वसा, मिनरल, पᆬाइवर तथा कार्बोहाइड्रेड युक्त भोजन लेना चाहिए। इससे न केवल हम स्वस्थ रहेंगे, बल्कि शरीर की प्रति रोधक क्षमता भी बढ़ेगी। उन्होंने हैलो नईदुनिया में लोगों द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब विस्तारपूर्वक दिया और उन्हें संतुष्ट किया। खान-पान, आहार-विहार की भी जानकारी दी गई।

सवालः गैस की समस्या है यह कैसे ठीक होगा। यदुनंदन सिंह,बलौदा

जवाबः सुबह के नाश्ते में सलाद, अंकुरित चना, मूंग, पᆬाइवर युक्त भोजन करें। कुल भोजन का 50 प्रतिशत नाश्ते में, 30 प्रतिशत दोपहर की भोजन में और 20 प्रतिशत रात के खाने में होना चाहिए।

सवालः बार-बार बुखार आता है क्या करना चाहिए। देवेश शर्मा,तिलई

जवाबः बार-बार बुखार आ रहा है तो मलेलिया व टाइपᆬाइड की जांच कराएं। अगर कपᆬ की शिकायत भी है तो एक्सरे कराना पड़ेगा।

सवालः शरीर के लिए पैकेट पᆬुड कितना लाभदायी या हानिकारक हैं। नरेन्द्र मित्तल, बलौदा

जवाबः खासकर बच्चों के लिए जो पैकेट में चिप्स व कुरकुरे आते हैं वह हानिकारक है। इसके अलावा कोल्ड्रिंक भी सेहत के लिए नुकसानदायक है।

सवालः डाट्स का उपचार चल रहा है मांस पेशियों में खिंचाव महसूस होता है। पी राठौर, नवगवां

जवाबः टीबी की दवा में ऐसा होता है। अगर ज्यादा समस्या है तो एक बार जिला अस्पताल आकर संबंधित डॉक्टर को दिखाएं।

सवालः बदलते मौसम में खान-पान कैसा होना चाहिए। टोमेश कश्यप, जांजगीर

जवाबः हर मौसम में भोजन संतुलित हो हरी सब्जी, दाल, सलाद व पᆬलों को भोजन में शामिल करें। ज्यादा चटपटा व तीखा तथा तेलयुक्त भोजन से परहेज करें।

सवालः मेरी उम्र 65 साल है एंजियोप्लास्टि हो चुका है, पेशाब बार-बार होता है। ठाकुर गिरी गोस्वामी, अड़भार

जवाबः आपको अपना शुगर जांच कराना पड़ेगा। साथ ही यूरिन संबंधी टेस्ट की भी आवश्यकता है। शुगर बढ़ने से भी बार-बार पेशाब होता है।

सवाल : हार्ट अटैक की क्या लक्षण हैं। राकेश राठौर,खोखरा

जवाब : सीने में दर्द जो बाएं कंधे की तरफ जाए, जबड़े में दर्द हो, यह हार्ट अटैक के लक्षण हैं। इस तरह के केस में इमरजेंसी दवाएं दे सकते हैं, तुरंत डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।

सवालः मुंह के अंदर में गांठ हो गया है, क्या करना चाहिए। विजय आदित्य, खरौद

जवाबः इसके लिए ओरल टेस्ट कराना होगा। गांठ कहां पर हुआ है गाल के भीतरी हिस्से में या तालू में कि मशूड़े में देखकर ही बताया जा सकता है।

सवालः मेरी उम्र 29 साल है मुझे शुगर है। किस तरह नियंत्रित होगा। आशीष श्रीवास, शिवरीनारायण

जवाबः शुगर पर खान-पान व व्यायाम के साथ नियंत्रण रखा जा सकता है। रोज सुबह लगभग आधा घंटा एक्सरसाइज करें।भोजन में मीठा चीजों से परहेज करें। हरी सब्जी व सलाद का उपयोग करें। नमक भोजन में दिनभर में 5 ग्राम से अधिक नहीं होना चाहिए।

सवालः हमेशा सर्दी, खॉसी रहता है साथ ही गले में दर्द होता है। यशवंत राठौर, खोखरा

जवाबः इसके लिए गले व टांसिल की जांच करानी होगी। खॉसी अगर लंबे समय से हो रही है और कपᆬ की शिकायत हो तो एक्सरे कराना पड़ सकता है।

सवालः हृदय रोग, शुगर और बीपी से कैसे बचें । विजय साहू, तुस्मा

जवाबः हर व्यक्ति को 30 साल के बाद साल में कम से कम एक बार बीपी, शुगर की जांच कराते रहना चाहिए। इससे समय पर बीमारी का पता चलेगा और उपचार से उस पर काबू पाया जा सकता है।

सवाल : हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है, सीढ़ियां चढ़ने में सांस फूलने लगती है। प्रेमकुमार साहू, कोरबा

जवाब : यह हृदय रोग के लक्षण हैं, एक बार डॉक्टर से चेकअप करा लें, कुछ जांच कराई जाती हैं। इससे हृदय रोग का पता चल जाता है।

सवाल : एंजाइना की समस्या है, तेज दर्द होने लगता है। रितिक कश्यप, सलखन

जवाब : दिल को ब्लड सप्लाई करने वाली नसों में ब्लॉकेज से यह समस्या हो सकती है, इसकी जांच करा लें, ब्लॉकेज ज्यादा है तो एंजियोप्लास्टी की जाती है।

सवाल : हृदय रोगियों को नमक कितना खाना चाहिए। पवन कुमार सिदार, सारागांव

जवाब : हृदय रोगियों को नमक का सेवन कम करना चाहिए, इसके लिए डॉक्टर से भी परामर्श ले लें।

सवाल : उम्र 40 साल के करीब है, ब्लड प्रेशर बढ़ा रहता है। राजकुमार प्रधान, नवागांव

जवाब : मोटापा, तनाव सहित आराम तलब जिंदगी से हाई ब्लड प्रेशर की समस्या हो रही है। इस तरह के केस में जीवनशैली में बदलाव से ब्लड प्रेशर कंट्रोल हो सकता है।

सवालः दिल के लिए धूमपान कितना खतरनाक है। रामकुमार कैवर्त्य, सिंघुल

जवाबः उनके पास हार्ट के जितने मरीज आते हैं उसमें 30 फीसद मरीज ऐसे होते हैं जिनको 35 साल से कम उम्र में हार्ट अटैक हुआ था। इसमें अधिकांश तनाव का शिकार थे और धूम्रपान करते थे। धूमपान से हृदय के काम करने की क्षमता कम हो जाती है।

सवालः अगर सीने में दर्द हो तो क्या करें। अखिलेश यादव, जांजगीर

जवाबः अगर आपको अचानक सीने में तेज दर्द होता है तो इसे नजर अंदाज न करें। दर्द होने पर सबसे पहले काम छोड़कर बैठ जाएं। तुरंत डिसप्रिन की गोली पानी में घोलकर लें। बिना समय व्यर्थ किए हृदय रोग विशेषज्ञ को दिखाएं।

सवालः स्वस्थ्य हृदय के लिए व्यायाम का कितना महत्व हैं। संजय कश्यप, पोड़ी

जवाबः हृदय रोगों का खतरा कम करने के लिए जरूरी है उधा रक्तचाप और उधा कॉलेस्ट्रोल के स्तर को कम करना। स्वस्थ हृदय के लिए व्यायाम बेहद जरूरी है। जरूरी नहीं है कि इसके लिए जिम जाया जाए। प्रतिदिन 30 से 45 मिनट तक टहलें। वजन को नियंत्रित रखें। दिन भर में जितना हो सके पैदल चलने का प्रयास करें। कम से कम सात घंटे की नींद लें।

सवालः बर्गर,पिज्जा सेहत के लिए कितना घातक है। नवीन कुमार, सक्ती

जवाबः हृदय रोग विशेषज्ञ ने बताया कि पहले दिल की बीमारी 40 साल की उम्र पार करने वालों को होती थी। मगर, अब बधो भी इसकी चपेट में आ रहे हैं। इसका कारण है तनाव और गलत जीवनी शैली। अभिभावक इस पर ध्यान दें। बधाों पर पढ़ाई को लेकर दवाब न डालें। उन्हें घर का खाना खिलाएं। पिज्जाा-बर्गर से फैट बढ़ता हैं। इससे कम उम्र में कोलेस्ट्रोल बढ़ रहा है।

सवालः थोड़ा चलने पर सीने में दर्द होने लगता है। बीड़ी, सिगरेट पीने पर पसीना आता है। प्रदीप कुमार, अकलतरा

जवाबः सबसे पहले धूमपान छोड़े। हृदय की स्थिति जानने के लिए ईको और टीएमटी जैसी जांच होती हैं। इन जांच को कराकर हृदय रोग विशेषज्ञ से मिलें।

सवालः मेरे बड़े भाई की बाईपास सर्जरी हुई थी। एंजियोप्लास्टी भी हो चुकी है। अब बैठे-बैठे भी सांस फूलती है। संतराम पटेल, पाली

जवाबः एक बार दोबारा ईको करा लें। इससे दिल की सही स्थिति के बारे में पता चल सकेगा। एक बार अस्थमा की जांच भी करा लें।

सवालः वजन बहुत ज्यादा है। थोड़ा चलने पर सांस फूलने लगती है। कहीं हार्ट की प्रॉब्लम तो नहीं। संतोष, खोखरा

जवाबः वजन ज्यादा होना सही नहीं है। पेट के आसपास ज्यादा वजन होने पर सांस लेने में तकलीफ होती है। लाइफ स्टाइल सही कीजिए। 45 मिनट रोज टहलिए।

सवालः गाड़ी चलाते समय च-र आते हैं। ब्लड प्रेशर कम हो जाता है। अवधराम डनसेना, लखुर्री

जवाबः जो लक्षण बताए, उससे हार्ट प्रॉब्लम नहीं लगती। लंबे समय तक भूखे न रहें। पानी ज्यादा पीएं। डाइट को संतुलित करें। मल्टी विटामिन भी ले सकते हैं।

सवालः डायबिटीज की दि-त है। नसों में भी दर्द रहता है, नींद कम आती है। घनश्याम कुम्हार, भठली

जवाबः डायबिटीज के कारण पैरों में दर्द रहता है। डायबिटीज कंट्रोल रखें। विशेषज्ञ डॉक्टर को दिखाकर दवाएं चेक करा लें। अगर फिर भी कोई दि-त हो तो ब्लड प्रेशर, पल्स और ईसीजी करा लें।

सवालः थोड़ा तेज चलने पर सांस फूल जाती है। ब्लड प्रेशर भी बढ़ रहा है। सिर में दर्द रहता है। तेरसराम, पामगढ़

जवाबः बीपी की जांच कराएं। लगातार बीपी बढ़ने पर इसे कंट्रोल करने के लिए दवा लें।

डॉक्टर ने ये भी दिए सुझाव

डा. अनिल कुमार जगत ने इस दौरान पाठकों के लिए कुछ महत्वपूर्ण सुझाव स्वस्थ हृदय के लिए दिए। उन्होंने कहा कि कम तेल, घी वाले आहार का सेवन करें। ज्यादा वसा युक्त भोजन हृदय की ओर जाने वाली धमनियों के रास्ते में रुकावट पैदा करता है, जिससे हृदय की समस्याएं बढ़ जाती हैं। भोजन में हरी सब्जी, दालें और सलाद का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग करें। अगर आपके घर में किसी को पहले से हृदय रोग की समस्या है और आपका भी ब्लड प्रेशर हाई रहता है तो आप विशेषज्ञ डॉक्टर से मिलकर जांच करा लें। ब्लड प्रेशर और कॉलेस्ट्रोल की जांच समय-समय पर कराते रहें। इसके अलावा एंजियोग्राफी से दिल की स्थिति का पता लगाया जा सकता है। कोरोनरी आर्टरी डिजीज का आम लक्षण है एंजाइना या छाती में दर्द। एंजाइना का छाती में भारीपन, असमान्यता,दबाव, दर्द, जलन, ऐंठन या दर्द के अहसास के रूप में पहचाना जा सकता है। कई बार इसे अपच या हार्टबर्न समझने की गलती कर देते हैं। एंजाइना का दर्द कंधे, बांह, गर्दन, गला, जबड़ा, पीठ में भी महसूस किया जा सकता है। इसके अलावा हार्ट अटैक में बहुत ज्यादा कमजोरी, घबराहट, रुक-रुककर सांस आना, दिल की धड़कनों का तेज या अनियमित होना, पसीना-उल्टी के लक्षण होते हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan