पᆬोटो : 11 जानपी 22 - गिरफ्तार आरोपित

जमानत में हुए खर्च की राशि को लेकर हुआ था विवाद, 6 गिरफ्तार

सक्ती। (नईदुनिया न्यूज)। अवैध शराब की बिक्री के मामले में पैरोल पर छूटे दो बंदियों में जमानत लेने में लगे खर्च की बात को लेकर विवाद हो गया और एक ने अपने स्वजनों के साथ मिलकर दूसरे की हत्या कर दी। वारदात के बाद पुलिस ने तत्परता बरतते हुए दो घंटे के भीतर मामले के 6 आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया, जबकि पुलिस मामले के मुख्य आरोपित युवक की पतासाजी में जुटी है।

पुलिस के अनुसार लगभग तीन माह पूर्व आबकारी विभाग द्वारा सक्ती वृत्त में कार्रवाई कर सक्ती निवासी समारू टंडन व राजेश भारद्वाज के खिलाफ कार्रवाई की और उनके खिलाफ धारा 34 (2) के तहत अपराध दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था। लगभग डेढ़ माह पूर्व पैरोल में उन्हें जेल से रिहा किया गया, मगर पेरोल समाप्त होने की अवधि नजदीक आने पर दोनों जांजगीर न्यायालय पहुंचे और उक्त मामले में जमानत ली। इस दौरान उन्होंने मिलकर रूपए खर्च किए। इसी बात को लेकर आज सुबह लगभग साढ़े 9 बजे राजेश भारद्वाज अपने स्वजन सम्मे लाल भारद्वाज, सुंदर भारद्वाज, परदेशी भारद्वाज, दुज राम भारद्वाज, श्याम सुंदर भारद्वाज व मुन्ना भारद्वाज के साथ समारू टंडन के घर के पास पहुंचा। इस दौरान समारू घर की बाड़ी के अंदर आम पेड़ के नीचे चबूतरे में बैठा था। राजेश स्वजनों के साथ मौके पर पहुंचा और उससे जमानत हुए खर्च की राशि 5 हजार रूपए की मांग करने लगा। साथ ही वे रूपए नहीं देने पर उसे जान से मारने की धमकी देने लगे। समारू द्वारा इसका विरोध करने पर राजेश अपने स्वजन उसके साथ गाली गालौज कर मारपीट करने लगे। उनकी आवाज सुनकर समारू की बेटी कुष्याणी टंडन व उसकी बड़ी बहन मौके पर पहुंची और बीच बचाव करने लगी, मगर आरोपित उनके साथ मारपीट करने लगे। कुछ देर बाद आरोपित समारू के साथ लाठी से मारपीट की। जिससे वह गिरकर बेहोश गया। समारू के बेहोश होने के बाद आरोपित मौके से फरार हो गए। इसकी जानकारी मिलने पर उसका भतीजा संदीप कुमार बंजारे पहुंचा और समारू को आनन-फानन में बेहोशी की हालत में स्कूटी से उपचार के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सक्ती पहुंचाया गया। यहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। वारदात के बाद प्रार्थिया कुष्याणी टंडन पिता समारू टंडन की रिपोर्ट पर आरोपित सम्मे लाल भारद्वाज, सुंदर भारद्वाज, परदेशी भारद्वाज, दूज राम भारद्वाज, श्याम सुंदर भारद्वाज व मुन्ना भारद्वाज के खिलाफ भादवि की धारा 302 के तहत जुर्म दर्ज किया और वारदात के कुछ घंटों बाद पुलिस ने घेराबंदी कर आरोपित श्याम सुन्दर भारद्वाज (32) पिता दुजराम, मुन्नाा भारद्वाज (30) पिता दूजराम, परदेशी (28) पिता नोहर साय, सम्मेलाल भारद्वाज (30) पिता दुजराम भारद्वाज, सुन्दर भारद्वाज (35) पिता दूजराम व दूजराम भारद्वाज (65) पिता साधराम भारद्वाज को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया, जहां से उन्हें न्यायिक रिमाण्ड पर जेल भेज दिया गया। वहीं इसकी जानकारी मिलने पर आरोपित राजेश भारद्वाज मौके से फरार हो गया। पुलिस ने आरोपित की पतासाजी में जुटी है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags