बलौदा (नईदुनिया न्यूज )। ब्लाक में स्वास्थ्य विभाग की व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है। क्षेत्र के कई उपस्वास्थ्य केंद्रों में ताला लगा हुआ है। वही समय में 108 की सेवा उपलब्ध नहीं होने से गर्भवती महिलाओं को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। शनिवार को एक गर्भवती महिला प्रसव पीड़ा कराह से परेशान थी। डायल 108 की सुविधा नहीं मिल पाई । उपस्वास्थ्य केंद्र में ताला बंद होने से जिंदगी और मौत से जूझ रही महिला को सरपंच ने अपने वाहन में बैठाकर 15 किलोमीटर दूर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि बलौदा ब्लाक में स्वास्थ्य सुविधा का क्या हाल है।

बलौदा ब्लाक के ग्राम पंचायत पोंच में शनिवार को एक महिला प्रसव पीड़ा से परेशान थी। वहां के उपस्वास्थ्य केंद्र में ताला लगा हुआ था । महिला के स्वजन व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता डायल 108 की सहायता के लिए फोन किए, लगभग तीन घंटे के बाद भी डायल 108 नहीं पहुंची । स्वजन ने इस बात की जानकारी सरपंच रमाकांत साहू को दी। सरपंच तत्काल प्रसव से पीड़ित महिला को अपनी कार में बैठाकर 15 किलोमीटर दूर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र गतवा लेकर गए और वहां उसे भर्त्ती कराया । लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के लिए उपस्वास्थ्य केंद्र पोंच को राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा आयुष्मान भारत, हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर में उन्नायन किया गया है। लेकिन केंद्र सरकार की इस व्यवस्था को स्वास्थ्य विभाग पलीता लगाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा है । जब लोगों को सुविधाएं ही नहीं मिल रही है तो यहां उपस्वास्थ्य केंद्र खोलने का क्या औचित्य है। ब्लाक के ग्राम पंचायत पोंच व देवरी के उपस्वास्थ्य केंद्र के आरएचओ को पिछले दो साल से सक्ती ब्लाक में अटैच में रखा गया है । तब से इन केंद्रों में हमेशा ताला लगा रहता है। लोगो को इलाज के लिए भटकना पड़ता है। शिकायत के बाद भी आरएचओ को वापस नही किये जाने से जनप्रतिनिधियों में आक्रोश है। स्वास्थ्य विभाग के संचालक के आदेश के बाद भी बलौदा बीएमओ कार्यालय में संलग्नीकरण समाप्त नहीं किया गया है। संचालक स्वास्थ्य सेवाएं द्वारा कई बार सीएमएचओ और बीएमओ को निर्देश देकर संलग्न कर्मचारियों को उनके मूल पदस्थापना स्थान में भेजने का निर्देश जारी किया गया है, ताकि मैदानी अमला प्राथमिक और उपस्वास्थ्य केन्द्र में अपनी सेवा दें सकें। मगर अभी तक पोंच व देवरी की आरएचओ को मूल स्थान में वापस नहीं किया गया है।

'' पोंच और देवरी के आरएचओ को पिछले दो साल से सक्ती ब्लाक में अटैच में रखा गया है। कई बार समस्या से जिला अधिकारी को अवगत कराया गया है, लेकिन दोनों का अभी तक अटैच समाप्त नहीं किया गया है। इसके चलते दोनों ही स्थानों में अक्सर ताला लगा रहता है। जिसके चलते सुविधा क्षेत्रवासियों को नहीं मिल पाती है।

श्रीकेश गुप्ता

बीएमओ, बलौदा

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close