जांजगीर-चांपा । कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा ने अफरीद, सोंठी और पिपरदा और गोविंदा में गोठान का निरीक्षण किया। अफरीद में बनाए जा रहे अतिरिक्त शेड को देखकर उन्होंने नाराजगी जताते हुए कहा कि पहले से शेड होने के बाद भी नए की जरूरत क्या है। उन्होंने दो साल से बन रहे श्ोड को देखकर कहाकि एक छोटा सा शेड नहीं बनवा पा रहे हैं। जबकि दो साल में कई घर बन जाते हैं। उन्होंने कहा कि इस तरह शासन का पैसा बर्बाद क्यों कर रहे हो। यहां न तो ठीक से मुर्गी पालन हुआ, न मशरूम उत्पादन हुआ। सरकार इतनी सुविधाएं दे रही है। पैसे का सदुपयोग करना सीखिए और यहां के लोगों को आगे बढ़ाइए। कलेक्टर ने आरईएस एवं ग्राम सचिव को तीन माह के भीतर निर्माण पूरा करने अन्यथा कार्रवाई के लिए तैयार रहने की बात कहते हुए स्व-सहायता समूह के सदस्यों को आजीविका गतिविधियों को बढ़ाने कहा। कलेक्टर सिन्हा ने बम्हनीडीह ब्लाक के अफरीद में गोठान का अवलोकन किया। यहां गोठान समिति के अध्यक्ष पारसनाथ और स्व-सहायता समूह की महिलाओं से चर्चा करते हुए उन्होंने मवेशियों की संख्या को बढ़ाने और गोबर खरीदी करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने मुर्गी पालन करने वाली महिलाओं से चर्चा की तो उन्होंने बताया कि दर्जनों मुर्गियां बीमारी से मर गई। जिससे उन्हें अभी आमदनी नहीं हो पाई। कलेक्टर ने पशुधन विकास के अधिकरियों को अच्छी नस्ल की मुर्गियां देने और समय-समय पर यहां बीमारियों के जांच करने के निर्देश दिए। उन्होंने यहां बिगड़े सोलर को बनवाने, मुर्गी शेड में जाली लगाने के निर्देश देते हुए गांव की सरपंच चिंताबाई को भी गोठान को व्यवस्थित कर विकसित करने और आमदनी बढ़ाने की दिशा में कार्य करने कहा। कलेक्टर ने ग्राम गोविंदा और पिपरदा में भी गोठान को विकसित करने, वर्कंिग और मवेशियों के क्षेत्र का अलग रखने, समूह की महिलाओं को आयमूलक गतिविधियों के माध्यम से आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रेरित किया।

दो शिक्षकों के प्रशिक्षण पर जाने से हुए नाराज

कलेक्टर सिन्हा ने ग्राम गोविंदा में प्राथमिक शाला का आकस्मिक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने प्रधान पाठक के कक्ष में जाकर उपस्थिति रजिस्टर की जांच की। यहां के दो शिक्षकों के ट्रेनिंग में होने पर नाराजगी जताते हुए कहा कि ऐसे में विद्यार्थियों को एकमात्र शिक्षक कैसे पढ़ा पायेंगे। उन्होंने जिला शिक्षा अध्ािकारी और बीईओं को तत्काल मोबाइल पर फोन लगाकर इस संबंध में निर्देश दिए और कहा कि स्कूली विद्यार्थियों की पढ़ाई का नुकसान किसी कीमत पर न हो, इसका ध्यान रखा जाए।

बरगद के नीचे लगाई चौपाल

कलेक्टर सिन्हा ने ग्राम गोविंदा में बरगद पेड़ के नीचे चौपाल लगाकर गोठान से जुड़ी स्व-सहायता समूह की महिलाओं को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि गांव में ग्रामीण आद्यौगिक पार्क की स्थापना कर सभी को रोजगार से जोड़ने पहल की जा रही है। हैण्डलूम के साथ मछली उत्पादन, मुर्गी पालन, मशरूम उत्पादन के साथ मसाला उद्योग, अचार, पापड़, बड़ी बनाने जैसी गतिविधियां से जुड़कर अपनी आमदनी को बढ़ा पाएंगी। कलेक्टर ने यहां मल्चिंग, पाली हाउस बनाने, फलदार वृक्ष लगाने के निर्देश भी दिए।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close