सक्ती। (नईदुनिया न्यूज)। जिस काम के लिए राशि निकालकर पूर्व सीईओ द्वारा मरम्मत की औपचारिकता निभा दी गई, उसके चलते मनरेगा कक्ष अब तक बदहाल है। यहां कार्य करने वाले कर्मचारी इससे परेशान हैं क्योंकि हल्की बारिश में भी यहां पानी टपकता है और महत्वपूर्ण दस्तावेज भीग जाते हैं।

ज्ञात हो कि मई माह में सेवानिवृत्ति से पहले गलत ढंग से अपने नजदीकी ठेकेदार को जनपद पंचायत सक्ती के पूर्व सीईओ आरएस साहू द्वारा 7 लाख रुपए का आहरण यह कहकर किया था कि जनपद कार्यालय का मरम्मत और शेड निर्माण कार्य कराया गया है। लेकिन मनरेगा शाखा के कर्मचारी कक्ष के मरम्मत के बाद भी बारिश के पानी के टपकने से परेशान हैं। मनरेगा शाखा में लगभग 5 कंप्यूटर है वहीं 7 आपरेटर हैं और शाखा प्रभारी सहित कुल 10 कर्मचारी यहां बैठते हैं। आलम यह है कि छत का ऐसा कोई जगह नहीं बचा है, जहां से बारिश का पानी ना टपक रहा हो, वहीं कंप्यूटर के पास भी लगातार पानी टपक रहा है। जिससे कंप्यूटर खराब होने की शंका तो है ही साथ ही शार्ट सर्किट की भी पूरी आशंका है। जनपद स्तर के मनरेगा के सभी दस्तावेज उक्त कक्ष में रखा है। इस कक्ष के मरम्मत व शेड निर्माण के नाम से पर पूर्व जनपद सीईओ 7 लाख रुपए एकल हस्ताक्षर से आहरण कर अपने चहेते ठेकेदार को लाभ पहुंचाया था। शिकायत के बाद भी इनके खिलापᆬ कोई कार्रवाई नहीं हुई। इन पर किसी कांग्रेसी नेता का संरक्षण होने की भी चर्चा नगर में है। वहीं वर्तमान सीईओ डीएस यादव के खिलापᆬ सदस्यों ने भी पूर्व सीईओ की तर्ज पर ही कार्य करने का आरोप लगाया है। वे भी 6 से 7 माह में सेवानिवृत्त होने वाले हैं। शिकायत के बाद भी अधिकारियों पर कार्रवाई नहीं होने से लोगों में आक्रोश है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local