सक्ती (नईदुनिया न्यूज)। दिव्यांग जनों के लिए शिक्षा एवं दिव्यांगों के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले शासकीय हाई स्कूल परसदा खुर्द विकास खंड सक्ती व्याख्याता एल बी राजेन्द्र कुमार बेहरा पुरुस्कार से सम्मानित किया गया। सर्वोत्तम दृष्टि बाधित दिव्यांग कर्मचारी पुरस्कार वर्ष 2020 का पुरस्कार राजेन्द्र कुमार को दिया गया है। राजेन्द्र बेहरा कोरोना संक्रमित होने के कारण समाज कल्याण विभाग द्वारा उनके पुत्र राहूल बेहरा को पुरस्कार दिया गया।

विश्व विकलांग दिवस के अवसर पर गुरुवार 3 दिसंबर फिजिकल रिफरल रिहैबिलिटेशन सेन्टर माना कैंप रायपुर में राज्य स्तरीय सम्मान समारोह का आयोजन हुआ । जिसमें महिला एवं बाल विकास तथा समाज कल्याण मंत्री श्रीमती अनिला भेड़िया और कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने दिव्यांग जनों के लिए उत्कृष्ट कार्य करने वालों को पुरस्कृत किया । विकास खंड सक्ती के ग्राम देवरी निवासी राजेन्द्र कुमार बेहरा राजेन्द्र कुमार बेहरा यह वह नाम है जिन्होने अपनी निशक्तता को सफलता के लिए कभी आड़े हाथ, आने नहीं दिया । वे निरंतर कठिन परिश्रम, दृढ संकल्प पर विश्वास करते है। वे सामान्य एवं दृष्टि बाधित बधाों के बेहतर शिक्षा एवं सर्वांगीण विकास के लिए निरंतर प्रयासरत हैं । बेहरा बचपन से ही जिज्ञासु एवं चंचल प्रवृत्ति के रहे हैं । इनकी प्राथमिक स्तर की शिक्षा शासकीय दृष्टि एवं श्रवण बाधितार्थ विद्यालय जुनी लाईन, बिलासपुर में तथा पूर्व माध्यमिक स्तर की शिक्षा शासकीय दृष्टि एवं श्रवण बाधितार्थ विद्यालय शैलेन्द्र नगर रायपुर में हुई है । तत्पश्चात हाई स्कूल एवं हायर सेकेण्डरी की शिक्षा शासकीय दृष्टि एवं श्रवण बाधितार्थ विद्यालय भेड़ाघाट रोड, जबलपुर से प्राप्त किये । शासन के विशेष विद्यालय में शिक्षा - दीक्षा के फलस्वरूप उनकी शारीरिक, मानसिक, सांस्कृतिक, सामाजिक, व्यावसायिक एवं सर्वांगीण विकास हुआ ।ब्रेल लिपि एवं मोबिलिटी शिक्षा में कुशल होकर वे दृष्टि बाधित होकर भी अकेले निर्भिक होकर जबलपुर आवागमन करते थे । खेल - कूद में वे राज्य स्तरीय शतरंज प्रतियोगिता में अविभाजित मध्यप्रदेश में शतरंज के चैम्पियनशिप का गौरव प्राप्त किया है ।तथा राष्ट्रीय दृष्टिहीन क्रिकेट प्रतियोगिता में मध्यप्रदेश राज्य का प्रतिनिधित्व उनके द्वारा किया गया । उन्हें सामाजिक सुरक्षा पेंशन, निःशक्तजन छात्रवृत्ति, निशक्तजन कृत्रिम अंग प्रदाय योजना, निःशक्तजन विवाह प्रोत्साहन योजना एवं अन्य योजनाओं के तहत निरंतर लाभ मिलता रहा, हायर सेकेण्डरी उत्तीर्ण होने के पश्चात वे पूर्णतः स्वावलंबी हो चुके थे । वे स्नातक की शिक्षा अध्ययन के दौरान ही शासकीय सेवा, शिक्षाकर्मी वर्ग - 03 के रूप में नियोजित हो गए । उन्होंने स्नातक एवं स्नातकोत्तर की शिक्षा शास.जवाहर लाल नेहरू महाविद्यालय से प्राप्त की । स्नातकोत्तर की शिक्षा हिन्दी साहित्य एवं राजनीति शास्त्र में अर्जित कर दिव्यांगों के कल्याणार्थ निरंतर कार्य की ओर अग्रसर है, वे छत्तीसगढ़ दृष्टि बाधित दिव्यांग संघ का गठन कर दिव्यांगजनों के सहयोग, दिव्यांगजन सामूहिक विवाह कार्यक्रम का आयोजन, दिव्यांगों का सशक्तिकरण एवं नवाचार के लिए सम्मेलन, दृष्टि बाधितों को सूचना प्रौद्योगिकी यथा एन्ड्रायड एक्सेसिबिलिटी जैसे विषयों पर कार्यशाला आयोजित कर दृष्टि बाधितों को पारंगत किया ।साथ ही छत्तीसगढ; की सांस्कृतिक धरोहर लोक गीत एवं लोक नृत्य की विधा में अपने विद्यालय की छात्र - छात्राओं को प्रशिक्षित करते हुए राज्य स्तरीय एवं राष्ट्रीय स्तर की युवा महोत्सव में सहभागिता का गौरव दिलाया है । उपसंचालक समाज कल्याण विभाग टी पी भावे ने बताया कि जिले से शिक्षक राजेन्द्र कुमार बेहरा एवं दृष्टिबाधित के क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ संस्था पामगढ़ संस्था प्रमुख दूजे राम ज्योति को सम्मानित करते हुए 5001 रुपए का चेक प्रशस्ति पत्र सील्ड दिया गया । समाज कल्याण विभाग की ओर से प्रतिवर्ष दिव्यांग जनों को एवं उत्कृष्ट कार्य करने वाले संस्थाओं को यह पुरस्कार दिया जाता है ।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस