जांजगीर-चांपा (नईदुनिया न्यूज)। जिले में एक बार फिर खरीदी केंद्रों के बाहर असुरक्षित रखे 28 लाख क्िवटल धान पर बारिश का खतरा मंडरा रहा है। मौसम विभाग ने 9 से 13 जनवरी की अवधि में बारिश की चेतावनी दी है। बीते सप्ताह हुई बे-मौसम बारिश से खरीदी केंद्रों में खुले में रखे लाखों क्िवटल धान भीग गया था। जिसके कारण तीन दिनों तक खरीदी बंद करनी पड़ी थी। यदि फिर बारिश हुई तो किसानों और केंद्र प्रभारियों की मुसीबतें बढ़ सकती है।

खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में समर्थन मूल्य पर 239 केंद्रों में धान की खरीदी की जा रही है। खरीदी केंद्रों में धान उपार्जन की धीमी रफ्तार के चलते केंद्रों में धान का अंबार लग चुका है। हालात यह है कि केंद्रों में धान रखने के लिए किसानों को जगह नहीं मिल रही है। ऐसे में यदि बारिश होती है तो केंद्रों में भी खरीदे गए धान और टोकन कटाकर बेचने को लेकर पहुंचे किसानों का धान भीग सकता है। इससे समिति प्रभारियों को खासी नुकसानी का सामना करना पड़ सकता है। केंद्र प्रभारियों का कहना है कि यदि मौसम ने करवट बदली और फिर बारिश शुरू हुई तो जिले के अधिकांश उपार्जन केंद्रों पर रखा धान भीगने से नहीं बच पाएगा। कुछ समितियों पर रखे गए धान की बोरियों की अभी तक सिलाई भी नहीं हुई है और ना ही उसकी स्टैगिंग की गई। समिति प्रबंधकों का कहना है कि परिवहन नहीं होने से स्थिति बिगड़ रही है। इसकी वजह से खरीदी में बाधा उत्पन्ना हो रही है। मौसम विभाग के अनुसार 9 से 13 जनवरी की अवधि में फिर वर्षा संभावित है। कलेक्टर ने असामयिक वर्षा की चेतावनी जारी करते हुए उपार्जन केंद्रों पर समर्थन मूल्य पर उपार्जित धान के बचाय के लिए समस्त खरीदी केंद्र प्रभारियों को उपार्जन केंद्रों में उपार्जित धान को तिरपाल, केप कवर व रस्सी आदि स्टैकिंग के साथ नाली निर्माण की व्यवस्था किए जाने निर्देशित किया गया है। ताकि असामयिक वर्षा से धान न भीगे और खराब न हो जिससे धान विपणन वर्ष में शासन द्वारा निर्धारित समर्थन मूल्य का लाभ प्राप्त हो सकें। उपार्जन व्यवस्थाओं को लेकर कलेक्टर ने उपार्जन समिति सदस्यों के साथ ही सभी सहकारिता व खाद्य निरीक्षकों से कहा है कि किसी भी खरीदी केंद्र में उपार्जित धान बाहर खुलें में न रहें, शीघ्र परिवहन कर धान को चिन्हांकित गोदाम में भंडारित किया जाए। उन्होंने परिवहन गति बढ़ाने के लिए अनुबंधित परिवहनकर्ता के अतिरिक्त अन्य परिवहनकर्ता से भी उठाव कार्य किए जाने के निर्देश दिए हैं। जिले में अब तक समर्थन मूल्य पर 59 लाख 50 हजार 221 क्िवटल धान की खरीदी की गई है। जिसमें से विपणन द्वारा 31 लाख 15 हजार 606 क्िवटल धान का उठाव किया गया है जबकि 28 लाख 34 हजार क्िवटल धान केंद्रों में खुले आसमान के नीचे रखा हुआ हैे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local