जांजगीर - चांपा । जिला मुख्यालय जांजगीर के प्रमुख चौक - चौराहों पर अब सीसीटीवी कैमरे से नजर रखी जाएगी। बढ़ती दुर्घटना और अन्य अपराधों पर नजर रखने के लिए एक बार पिुर जिला पुलिस हाईटेक तकनीक से जुड़ने जा रही है ताकि कम संसाधन में भी शहर की सुरक्षा चाक - चौबंद तरीके से की जा सके। इसके लिए शहर के प्रमुख दस स्थानों पर हाई रिजाल्यूशन के 28 अत्याधुनिक सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं।

शहरों की निगरानी व सुरक्षा के लिए पांच साल पहले जिले के सभी नगरीय निकायों के चौक चौराहों में मिशन सेफ सिटी के तहत हाई रिजाल्यूशन सीसीटीवी कैमरे लगाए गए थे। इसी के तहत जिला मुख्यालय जांजगीर के कचहरी चौक और नेताजी चौक में भी कैमरा लगाए गए थे जो जिले के प्रशासनिक व्यवस्था की भेंट चढ़ गया था। चार साल पहले जून 2018 में तत्कालीन सीएम डा रमन सिंह की विकास यात्रा जब नगर पहुंची थी तब सारे सीसीटीवी कैमरे के तार काट दिए गए और इसके बाद उसे दोबारा नहीं जोड़ा गया। देखरेख के अभाव में सभी कैमरे खराब हो गए। एसपी विजय अग्रवाल ने जिला मुख्यालय के 10 स्थानों पर सीसीटीवी कैमरा लगाने के लिए प्रस्ताव भेजा था। शहर में सीसीटीवी कैमरे लग जाने से शहर के सभी हिस्सों में आसानी से नजर रखी जा सकेगी। एक ही स्थान पर बैठकर पूरे शहर के मुख्य चौक-चौराहों और मोहल्लों पर पुलिस की पैनी नजर रहेगी। किसी भी वारदात के बाद अपराधियों का आसानी से पहचाना किया जा सकेगा। साथ ही स्थिति की गंभीरता को देखते हुए चिन्हांकित स्थानों पर जल्द ही पुलिस बल भेजे जा सकेंगे। इसके पहले शहरों की सुरक्षा को लेकर मिशन सेफ सिटी के तहत पांच साल पहले एएसपी रहते विजय अग्रवाल ने जिला मुख्यालय जांजगीर सहित जिले में प्रवेश करने वाली सीमाओं और नगरीय निकायों के चौक चौराहों में महानगरों की तर्ज पर हाई रिजाल्यूशन सीसीटीवी कैमरे लगवाए थे। इसके तहत जिला मुख्यालय जांजगीर के कचहरी चौक, नेताजी चौक और रेल्वे स्टेशन में हाई रिजाल्यूशन के सीसीटीवी कैमरे लगाए गए थे और यातायात थाना में उसका मानिटर लगाया गया था ताकि 24 घंटे नजर रखी जा सके। तीन साल पहले जून 2018 में तत्कालीन सीएम डा रमन सिंह की विकास यात्रा जब नगर पहुंची थी तब सारे सीसीटीवी कैमरे के तार काट दिए गए और उसे दोबारा नहीं जोड़ा गया और देखरेख के अभाव में सभी कैमरे खराब हो गए थे। न तो उसकी मरम्मत कराई गई और न ही नए कैमरे लगवाए गए। ऐसे में एसपी विजय अग्रवाल ने पद्भार ग्रहण करने के साथ ही जांजगीर शहर के प्रवेश द्वारों के साथ ही चौक चौराहों में सीसीटीवी कैमरा लगाने के लिए प्रस्ताव तैयार कराया और इसके लिए दस स्थानों का चयन किया गया। इस प्रस्ताव की मंजूरी मिलने के बाद कैमरा लगाने का काम शुरू हो गया है।

आरोपितों की पहचान में मिलेगी मदद

जिला मुख्यालय जांजगीर और चांपा शहर में रेल सुविधा होने के कारण इन शहरों में चोरी, डकैती जैसी घटनाओं को अंजाम देकर आरोपित रात में ही फरार हो जाते हैं। जब तक मकान मालिक को पता चले और पुलिस अपनी जांच शुरू करती है तब तक आरोपित जिले से बहुत दूर निकल जाते हैं। किसी प्रकार की कोई पहचान नहीं होने के कारण पुलिस आरोपितों तक पहुंच नहीं पाती थी। कैमरा लग जाने से पुलिस को आरोपितों को पकड़ने में मदद मिलेगी।

दुर्घटनाओं और अन्य अपराधों पर नजर रखने के लिए जिला मुख्यालय जांजगीर के दस स्थानों और प्रमुख चौराहों का चयन सीसीटीवी कैमरा लगाने के लिए किया गया है। सभी चयनित स्थानों पर अत्याध्ाुनिक आईपी बुलेट आऊटडोर नाइट विजन 4 मेगा पिुक्सल सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं। शहर की सुरक्षा के साथ ही अपराध्ाियों को पकड़ने में मदद मिलेगी। मोबाइल से भ्ाी ये कैमरे जुड़े रहेंगे।

विजय अग्रवाल

एसपी, जांजगीर - चांपा

Posted By: Yogeshwar Sharma

छत्तीसगढ़
छत्तीसगढ़
 
google News
google News