डा. कोमल शुक्ला

जांजगीर -चांपा। स्कूल शिक्षा विभाग ने शनिवार को बस्ता रहित दिवस घोषित किया है और इस दिन पहली से आठवीं के विद्यार्थियों को योग, साहित्यिक व सांस्कृतिक गतिविधि और खेल कूद का आयोजन करने का निर्देश दिया है। मगर अब भी जिले के अधिकांश स्कूलों में शनिवार को भी विद्यार्थियों को बस्ता लेकर बुलाया जा रहा है। इससे स्कूल शिक्षा विभाग की बैग लेस डे पर मंशा पानी फिर रहा है।

स्कूल शिक्षा विभाग ने इस साल शनिवार को बैग लेस डे बनाने संबंधी निर्देश जारी किया है। इसके तहत पहली से आठवीं के विद्यार्थियों को शनिवार को बिना बैग लिए स्कूल बुलाए जाना है। निर्देशानुसार इस दिन सह संज्ञानात्मक विकास पर जोर दिया जाना है। इसके तहत स्कूलों में व्यायाम, योग, खेलकूद प्रतियोगिता, साहित्यिक सांस्कृतिक गतिविधियां, मूल्य शिक्षा, कला शिक्षा और पाठ्य पुस्तकों के अलावा पुस्तकालय एवं अन्य पठन-पाठन सामग्रियों का उपयोग सुनिश्चित किया जाना है। इसके लिए प्रधान पाठक माह के प्रत्येक शनिवार की गतिविधियों की योजना बनाएगा जिसे सूचना पटल पर प्रदर्शित किया जाएगा। इसके तहत श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले विद्यार्थियों का नाम उनके ड्राइंग, पेंटिंग, निबंध और अन्य कला कृति का प्रदर्शन किया जाना है।

स्कूल में स्थानीय कलाकार, शिल्पकार, उद्यमी, विभिन्न् विभागों में कार्यरत नौकरी पेशा व्यक्तियों को बुलाकर उनके कार्यों से विद्यार्थियों का अवगत कराना और उन्हें प्रेरणा देने का काम भी किया जाना है। इसके अलावा कृषि, जल पर्यावरण, ऊर्जा, पशुसंरक्षण व संवर्धन पर भी परिचर्चा का आयोजन किया जाना है। गणित, विज्ञान , अंग्रेजी क्लब की गतिविधियां आयोजित करने विभिन्न् प्रकार के प्रतियोगी परीक्षाओं की जानकारी देना और करियर काउंसिंलिंग का सत्र आयोजित करने का भी निर्देश है।

सांस्कृतिक गतिविधियों में रंगोली, महेंदी , पुष्प सज्जा, ग्रीटिंग कार्ड बनाना, लोक गीत, नृत्य, कथा,नाटक का आयोजन देशभक्ति गीत गायन वादन, लोक कलाकारों का परिचय, स्थानीय कलाकारोंकी प्रस्तुति, बाल संसद, बाल मेला का आयोजन किया जाना है। इसके अलावा स्थानीय खेल और संस्था में उपलब्ध संसाधन के अनुसार खेल भी कराया जाना है। मगर इस निर्देश का पालन जिले के अधिकांश स्कूलों में नहीं हो रहा है और शनिवार को भी विद्यार्थी बस्ता लेकर स्कूल पहुंच रहे है।

यह शनिवार की समय सारणी

शनिवार को क्या-क्या किया जाना हैइसकी समय सारणी भी स्कूल शिक्षा विभाग ने जारी की है। इसके अनुसार सबसे पहले 20 मिनट प्रार्थना होगी उसके बाद पहले कालखंड में 45 मिनट योग, व्यायाम, दूसरे कालखंड में एक-दूसरे से सीखने व समूह अधिगम की गतिविधि होगी। तीसरेकालखंड में खेलकूद व पुस्तकाल की गतिविधि होगी। फिर 10 मिनट का लघु अवकाश , फिर 40 मिनट का समूह अधिगम होगा, इसके बाद सांस्कृति व साहित्यिक गतिवधियांहोगी। दोनों पालियों के स्कूल के लिए अलग-अलग समय निर्धारित है।

'' संचालनालय से आदेश मिला हैजिसे सभी बीईओ को भी भेजा जा रहा है। अगले शनिवार से सभी प्राइमरी व मिडिल स्कूलों में बस्ता रहित दिवस होगा।

कुमुदिनी द्विवेदी

डीईओ, जांजगीर -चांपा

'' शनिवार को बस्ता रहित दिवस रखने का निर्देश समय-सारणी में ही शामिल है। बीईओ व प्रधान पाठकों को भी इस संबंध में निर्देश दिया गया है। दो-तीन शनिवार के बाद सभी स्कूलों में बैग लेस डे हो जाएगा।

बीएल खरे

डीईओ, सक्ती

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close