जांजगीर-चांपा (नईदुनिया न्यूज)। शहर में ज्यादातर बैंक प्रमुख मार्गों में है, जहां लेन - देन करने पहुंचे उपभोक्त ा अपने वाहनों को सड़क पर ही बेतरतीब ढंग से रख देते हैं। जिसकी वजह से यातायात व्यवस्था प्रभावित होती है। मगर इस समस्या के निराकरण के तरपᆬ न पालिका ध्यान दे रही है और न यातायात पुलिस कोई पहल कर रही है। बैंक प्रबंधन को तो पिᆬर और कोई मतलब नहीं है। इस समस्या के चलते लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। कई बार जाम लग जाती है जिसमें लोग पᆬंसकर परेशान होतेे हैं।

जिला औद्योगिकरण की ओर अग्रसर है इस वजह से यहां बैंकों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। सभी राष्ट्रीय बैंक की शाखाएं यहां संचालित हो रही हैं। जिला मुख्यालय जांजगीर व चांपा के मुख्य मार्गों में अधिकांश बैंक हैं। करीब सभी बैंक किराए के भवन में संचालित में है। इन बैंकों से रोज करोड़ों रुपए का लेन-देन होता है। इसके बावजूद पार्किंग की व्यवस्था के लिए बैंक प्रबंधन गंभीर नहीं है और न ही स्थानीय व जिला प्रशासन इस ओर ध्यान दे रहा है। सुबह 10ः30 बजे बैंक खुलती है। जबकि शाम 5 बजे तक बैंकों का कामकाज चलता है। इस अवधि में लेन - देन करने वाले ग्राहकों की भीड़ बैंकों में उमड़ती है। ज्यादातर लोग दो पहिया व चार पहिया वाहनों में बैंक पहुंचते हैं। ये लोग अपने वाहनों को बैंक के सामने रख देते हैं। धीरे-धीरे ये वाहन आधी सड़क को घेर लेता है। जिला मुख्यालय जांजगीर के नेशनल हाइवे 49 में विवेकानंद मुख्य मार्ग पर एसबीआई की मुख्य शाखा और उसके बगल में कोटक महिन्द्रा बैंक की शाखा संचालित है। मुख्य मार्ग होने की वजह से हमेशा दो पहिया, चार पहिया वाहनों के साथ ही भारी वाहनों की दिनभर आवाजाही लगी रहती है। बेतरतीब पार्किंग की वजह से अक्सर जाम का नजारा रहता है। एसबीआई के मुख्य शाखा और कोटक महिन्द्रा बैंक में कई बार बेतरतीब पार्किंग और जाम की वजह से यातयात पुलिस को मौके पर पहुंचकर व्यवस्था बनानी पड़ती है। बैंक में तैनात गार्ड भी लोगों से अपने वाहनों को व्यवस्थित रखने का आग्रह करता है। इसके बावजूद व्यवस्था में सुधार नहीं हो रहा है, जबकि जाम में फंसकर लोग ही परेशान होते हैं। मगर इस समस्या को दूर करने के तरपᆬ न पालिका ध्यान दे रही है और न ही यातायात पुलिस कोई पहल कर रही है। बैंक प्रबंधन को तो पिᆬर कोई सरोकार ही नहीं है।

नो पार्किंग का बोर्ड भी गायब

जिला मुुख्यालय जांजगीर में एसबीआई बैंक के सामने अव्यवस्थित पार्किंग से होने वाली समस्या को देखते हुए नगर पालिका ने दो साल पहले बैंक के सामने नो पार्किंग का बोर्ड लगाकर अपनी औपचारिकता निभाई थी वहीं जाम लगने पर यातायात पुलिस अपने एक जवान को मौके पर भेजकर व्यवस्था बनाकर जिम्मेदारी निभा लेती है। लेकिन आए दिन की होने वाली इस समस्या के स्थायी निराकरण के लिए नगर पालिका और यातायात विभाग दोनों ध्यान नहीं दे रही है । व्यवस्था नहीं बनाने के चलते बैंकों में जाने वाले ग्राहकों को और जाम में पᆬंसने वाले आम लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। वहीं अब तो नगर पालिका द्वारा लगाया गया नो पार्किंग का बोर्ड भी गायब हो गया है।

सड़क पर दुकानों का सामान

जिला मुख्यालय जांजगीर में व्यापारी अपने दुकान का आधा सामान सड़क पर निकाल देते हैं इसकी वजह से सड़क की चौड़ाई कम हो जाती है। भारी वाहनों के गुजरने से छोटे वाहन चालकों को साइड लेने के लिए जगह नहीं होती है। कई बार इसके चलते बाइक और कार चालक बड़े वाहनों की चपेट में आ जाते हैं। दुकान के बाहर सामान रखने वाले व्यापारियों के खिलापᆬ यातायात पुलिस और नगर पालिका द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की जाती है। साल में जब कोई बड़ा त्यौहार आता है तब पालिका और पुलिस औपचारिकता निभाते हैं इसके बाद सालभर गहरी नींद में सोए रहते हैं।

नैला रोड में आधी सड़क पर व्यापारियों का कब्जा

नैला रोड में नेताजी चौक से लेकर रेलवे स्टेशन तक आधी सड़क पर थोक और चिल्हर व्यापारियों का कब्जा रहता है। मार्ग के दोनों ओर व्यापारियों की दुकानें हैं। व्यापारी अपने दुकान के सामने आधी सड़क को घेर कर सामान बाहर निकालकर रखते हैं। इसके अलावा व्यापारी अपनी वाहनों को भी मार्ग में दोनों ओर खड़ी करके रखते हैं जिसकी वजह से सड़क की चौड़ाई कम हो जाती है। बलौदा और स्टेशन पहुंच मुख्य मार्ग होने की वजह से दिनभर वाहनों की आवाजाही लगी रहती है। दुकानों के सामने सामान निकालने और वाहनों को खड़ी करने की वजह से लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। रसूखदार व्यापारियों के आगे पालिका के अधिकारी कर्मचारी और पुलिस विभाग के अधिकारी नतमस्तक हैं। यही वजह है कि व्यापारियों के खिलापᆬ नगर पालिका और यातायात पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की जाती है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local