जांजगीर-चांपा (नईदुनिया न्यूज)। रक्षा बंधन पर्व को लेकर दुविधा जैसी कोई स्थिति नहीं है। त्योहार 11 अगस्त को ही मनाया जाएगा। इस दिन बहनें शुभ मुहूर्त पर भाईयों की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधेंगी।

प्रतिवर्ष श्रावण शुक्ल पूर्णिमा को रक्षाबंधन का पर्व मनाया जाता है। इसमें अपराह्व व्यापिनी तिथि ली जाती है। रक्षाबन्धन व श्रावणी कार्य में भद्रा वर्जित है। इस वर्ष विक्रम संवत्‌ 2079 मे ं कई ं पंचांगों में रात्रि में रक्षा बन्धन लिखा है। इसे राष्ट्रीय महासचिव अखिल भारतीय ज्योतिष परिषद्दिल्ली के आचार्य कृष्ण दत्त शर्मा ने अव्यवहारिक बताया है। सिद्धान्तिक दृष्टि से भी उचित नहीं है। उनका कहना है कि मकर राशि पर चन्द्रमा होने के कारण भद्रा पाताल लोक में चली गई है। स्वर्गें पातालगा शुभा (मुमार्तण्ड) स्वग र्े भद्रा धन ंधान्य ं पाताले च धनागमः। मृत्युलोक े यदाभ्रदा कार्यसिद्धिस्तदा नहि॥ (मुहूर्त प्रकाश) इस तरह भद्रा दोष का परिहार हो जाएगा। भारतीय ज्योतिष की सर्वमान्य धर्म सम्मत केतकी चित्रापक्षीय सूक्ष्म काल गणना केअनुसार इस वर्ष विक्रम संवत्‌ 2079 में श्रावण शुक्ला पूर्णिमा 11 अगस्त को सुबह 10 बजकर 39 मिनट से आरंभ होकर अगले दिन यानि 12 अगस्त को प्रातः 7 बजकर 5 मिनट तक ही ( त्रिमुहूर्त्ताल्पा) रहेगी। साकल्यापादित पूर्णिमा का अस्तित्व नहीं होने से 12 अगस्त कोरक्षाबंधन नहीं हो सकता। उपरोक्त नियमानुसार सभी शुक्ल एवं कृष्ण यजुर्वेदियों का उपाकर्म, श्रावणी, हेमाद्रि संकल्प, ऋषितर्पण भी 11 अगस्त को ही होगा। अतः गुरूवार 11 अगस्त को सुबह 10 बजकर 39 मिनट पर श्रवण पूजन के उपरांत शाम 5 बजे तक रक्षा बन्धन शास्त्र सम्मत व शुभ रहेगा। इसी तरह स्थानीय ज्योतिषयों ने भी 11 अगस्त को ही रक्षाबंधन मनाने की बात कही है। डा. अनिल तिवारी ने बताया कि भद्रा जिस लोक में रहती है वहीं प्रभावी रहती है। जब भद्रा स्वर्ग या पाताल लोक में होगी तब पृथ्वी लोक के लिए फलदायी रहेगी। उन्होंने कहा कि किसी भी अफवाह और आधी अधूरी जानकारी से भ्रमित न हों और 11 अगस्त को ही पूरे दिन भर रक्षाबंधन का पर्व मनाएं।

सज गया है राखी का बाजार

रक्षाबंधन को लेकर जगह जगह राखी का बाजार सज गया है। जिला मुख्यालय जांजगीर के कचहरी चौक में राखी की दुकानें लग गई है। चावल, रूद्राक्ष, रंगीन मोती, स्टोन, ऊन से बनी राखियां बिक रही है। बाजार में पांच रूपए से लेकर दो सौ रूपए तक की राखी उपलब्ध है।

जैसे - जैसे पर्व नजदीक आते जा रहा है। वैसे वैसे बाजार में भीड़ बढ़ती जा रही है। कपड़ा, राखी की दुकानों में ग्राहकों की भीड़ उमड़ रही है। वहीं रक्षाबंधन को लेकर मिठाई दुकान वाले भी विभिन्न प्रकार की मिठाई तैयार कर रहे हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close