जांजगीर-चांपा। (नईदुनिया न्यूज)। इस बार रक्षाबंधन पर बहनें अपने भाइयों के कलाई पर अलसी, केला, अमारी (पटसन), चेच भाजी व भिंडी के रेशे से निर्मित राखी बांधेगी। बलौदा ब्लाक अंतर्गत ग्राम पंचायत जाटा के आश्रित ग्राम बहेराडीह के गंगे मईय्या स्व सहायता समूह की महिलाएं ऊन के स्थान पर इन सभी के रेशे से राखी बना रही हैं। समूह की लेखापाल पुष्पा यादव ने बताया कि बाजार में कई तरह की राखी मिलती है लेकिन इस तरह की राखी कहीं भी नहीं मिलेगी। समूह में नई गतिविधियों को शामिल करने के उद्देश्य से इस तरह की नवाचार किया गया है। इसी तरह अकलतरा ब्लाक के कापन में एडीईओ बैजनाथ राठौर व पीआरपी ओमेश्वरी साहू के नेतृत्व में मां सिद्घि महिला ग्राम संगठन व भारत माता महिला ग्राम संगठन के महिलाओं को अलसी केला भिंडी अमारी व चेच भाजी के रेशे से राखी बनाने का प्रशिक्षण दिया गया है। इस तरह की राखी जिले में पहली बार बनाई जा रही है। जिले के 65 वर्षीय सिवनी चांपा के प्रगतिशील किसान रामाधार देवांगन ने अलसी समेत भिंडी, अमारी व चेच भाजी के रेशे से अब तक कपड़ा बनाने का ही काम किया था लेकिन अब केले के तने से रेशे से कपड़ा बनाने तथा छत्तीसगढ़ राज्य के सभी 28 जिले के आरसेटी में ग्रामीण आजीविका मिशन बिहान के महिला स्व सहायता समूह की महिलाओं को प्रशिक्षण देने वाले बहेराडीह के युवा कृषक रेस्टोरेशन फाउंडेशन के सचिव दीनदयाल यादव के मार्गदर्शन में अलसी व केला के रेशे से कपड़ा बनाने का काम करने वाले रामाधार देवांगन और दीनदयाल यादव अब राखी बनाने के काम में अपने साथ साथ ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को भी शामिल कर रहे हैं। इस कारोबार से बिहान समूह की महिलाओं को अच्छा आमदनी हो सकती है। वहीं बड़े पैमाने पर रेशे के लिए बलौदा ब्लाक के माडल गौठान बहेराडीह के पोषण वाटिका समेत अकलतरा के तिलई गोठान व चारागाह में भिंडी अमारी व चेच भाजी की खेती बिहान समूह की महिलाओं व गोठान समिति के सहयोग से शुरू किया गया है।

राजधानी में कल लगाई जाएगी राखी की प्रदर्शनी

राजधानी रायपुर स्थित लाभांडी के पीएनबी ट्रेनिंग सेंटर पर अलसी केला व अन्य रेशे से यहा के बिहान समूह द्वारा निर्मित राखी का प्रदर्शनी 7 अगस्त को लगाई जाएगी। वहीं जिले के सभी जनपद पंचायत मुख्यालय व जिला मुख्यालय पर राखी को बेचने के लिए बिहान बाजार का आयोजन किया जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local