जांजगीर-चांपा (नईदुनिया न्यूज)। जिले में चोरों ने आतंक मचा रखा है। चोरों ने प्रतिदिन औसतन एक से अधिक चोरियां की है। जिले के सभी थाना क्षेत्रों में पिछले दस माह में चोरों ने 353 चोरी व 354 नकबजनी की वारदातों को अंजाम दिया है। ग्रामीण क्षेत्र की घरों दुकानों से लेकर शहर की पास कालोनियों को चोरों ने निशाना बनाया है। स्थिति तो यह रही कि चोरों ने सांसद और थानेदार के घरों तक को नहीं बख्शा। यहां तक की पुलिस कालोनी के घरों को भी चोरों ने निशाना बनाया। सिलेसिलेवार हो रही चोरी की इन वारदातों के बाद भी पुलिस चोरों का सुराग नहीं लगा पा रही है। पुलिस अब तक एक भी बड़ी वारदातों के चोरों को पकड़ने में नाकाम रही है। इससे पुलिस के कार्य प्रणाली पर भी सवाल उठ रहे हैं।

जिले के थाना क्षेत्रों में चोरी के आंकड़े लगातार बढ़ती जा रही है। चोरों ने गांव से लेकर शहर तक चोरी की वारदातों को बेखौपᆬ अंजाम दिया है। जनवरी माह से लेकर अक्टूबर तक इस दस महीने की अवधि में एक भी महीना ऐसे नहीं गुजरा कि थाना में चोरी का एक भी मामला दर्ज न हुआ हो। साल के शुरूआत के पहले महीने जनवरी माह में ही 39 चोरियां हुई है। फरवरी महीने में 38, मार्च में 49, अप्रैल में 17, मई में 15, जून में 28, जुलाई में 45, अगस्त में 42, सितंबर में 43 और अक्टूबर महीने में 37 चोरियां हुई है। इस दौरान चोरों ने साइकिल, मोबाइल चुराने से लेकर हाइवा चुराकर पुलिस को चुनौती दी है। चोरों ने छोटे दुकानों का ताला तोड़ने से से लेकर पास कालोनियों के बड़े मकानों को निशाना बनाकर चोरी की कई वारदातों को अंजाम दिया है। मार्च में सांसद गुहाराम अजगले का ताला टूटा था। वहीं इसी महीने के आखिरी सप्ताह में दो आरक्षकों के सूने मकान का ताला तोड़कर चार लाख से अधिक का सामान पार कर दिया था। हालांकि पुलिस अज्ञात चोरों के खिलाफ मामला दर्जकर औपचारिकता निभाती है, लेकिन चोरी के आकड़ों में कमी नहीं आ रही है। मोबाइल और साइकिल चोरी जैसे छोटे - मोटे मामले तो दर्ज भी नहीं हुए हैं। अन्यथा आकड़ा और अधिक होता।

बुधवारी बाजार में लगातार हो रही मोबाइल की चोरी

जिला मुख्यालय के दैनिक हटरी व साप्ताहिक बाजार में मोबाइल चोरी थमने का नाम नहीं ले रहा है। पुलिस द्वारा इन चोरों को पकड़ने कोई प्रयास नहीं किया जाता क्योंकि मोबाइल चोरी का एफआईआर दर्ज करने से पुलिस बचती है। मोबाइल चोरी की रिपोर्ट दर्ज कराने पहुंचने वालों से आवेदन लेकर पुलिस उन्हें पावती दे देती है। उसके बाद इसे ठण्डे बस्ते में डाल दिया जाता है जबकि साइबर सेल में देकर इसे आईएमईआई नंबर से ट्रेस किया जा सकता है लेकिन पुलिस को इससे कोई सरोकार नहीं है। पुलिस थाना से दैनिक सब्जी बाजार की दूरी महज चंद कदमों की है, लेकिन पुलिस मोबाइल चोरों पर कार्रवाई नहीं करती। इसी तरह भीमा तालाब के आसपास सितंबर माह में लगातार साइकिल और बाइक की चोरियों हुई है। ज्यादातर मामले अब भी अनसुलझे हैं।

गश्त की निभाई जा रही औपचारिकता

जिले के विभिन्ना थाना क्षेत्रों में चोरी के आंकड़े लगातार बढ़ रहे हैं। पुलिस द्वारा अपराधिकउ घटनाओं की रोकथाम के लिए अलग-अलग टीम गठित कर पेट्रोलिंग कराई जाती है, मगर विभागीय कर्मचारियों द्वारा गश्त के नाम पर केवल औपचारिकता निभाई जा रही है। नहरिया मंदिर रोड, हाईस्कूल मैदान और डाइट के पीछे रात में रोज असामाजिक तत्वों का जमावड़ा रहता है। यहां भी बीच - बीच में पुलिस को गश्त करने की आवश्यकता है।

सालभर बाद भी जैन मंदिर में हुई चोरी का नहीं लगा सुराग

अकलतरा के जैन मंदिर में हुई चोरी का सालभर बाद भी पुलिस सुराग नहीं लगा पाई है। 17 दिसंबर 2020 को जैन मंदिर के गेट का ताला तोड़कर अज्ञात चोरों ने गर्भगृह में भगवान की मूर्तियों पर चढ़े सोने, चांदी के जेवर व दान पेटी से लगभग 2 लाख रूपए नगद सहित लगभग 10 लाख रूपए का सामान पार कर दिया। चोरी की वारदात सीसीटीवी में कैद हो गई। तत्कालीन आईजी और एसपी द्वारा जांच के लिए दो टीम गठित भी की गई थी मगर अभी तक इस मामले के चोरों को पुलिस पकड़ नहीं पार्ई है। जबकि जैन समाज के लोगों ने नई मूर्तियां लाकर मंदिर में स्थापित भी कर दी है।

लाकडाउन में कम टूटे ताले

अप्रैल और मई महीने में कोरोना संक्रमण पीक पर थी। मगर लाकडाउन के दौरान लोग घरों में रहे इसलिए मई और जून में लाकडाउन के दौरान कम चोरियां हुई। मई में जहां चोरी की 15 रिपोर्ट दर्ज हुई वहीं नकबजनी की संख्या भी 13 ही रही। जबकि जून में चोरी की और नकबजनी की भी 28 रिपोर्ट विभिन्न थाना क्षेत्रों में दर्ज हुई। कोरोना संक्रमण में कमी आने के बाद चोरी और नकबजनी की वारदातें लगातार बढ़ती गई। चोरों ने ज्यादातर सूने घरों को निशाना बनाया।

माह वार चोरी व नकबजनी के आकड़े वर्ष 2021

माह चोरी नकबजनी

जनवरी 39 25

पᆬरवरी 38 44

मार्च 49 42

अप्रैल 17 25

मई 15 13

जून 28 28

जुलाई 4545

अगस्त 42 47

सितंबर 43 38

अक्टूबर 37 48

नोट : आंकड़े पुलिस विभाग के डाटा के अनुसार

'' चोरियां हुई है इससे इंकार नहीं किया जा सकता। जांच के लिए अलग - अलग टीम लगी हुई है। कई स्थानों में चोरी करने वालों की सूचना भी मिली है। पुलिस की टीम लगातार पतासाजी में जुटी है। जल्द ही कुछ मामलों का पर्दापᆬास किया जाएगा।

प्रशांत ठाकुर

एसपी , जांजगीर - चांपा

मकान मालिक व किराएदार के घर से नगदी सहित 8 लाख के जेवर पार

पᆬोटो : 25 जानपी 5 - खुली आलमारी और बिखरे सामान

चांपा। (नईदुनिया न्यूज)। सूने मकानों में अज्ञात चोरों ने धावा बोलकर सोना, चांदी व नगदी सहित 8 लाख रुपए का सामान पार कर दिया। पुलिस ने अज्ञात आरोपित के खिलाफ जुर्म दर्ज का जांच में लिया है। पुलिस के अनुसार चांपा निवासी सेवानिवृत शिक्षक जीवन लाल श्रीवास का रामबांधा तालाब के पास मकान है। उनका बेटा कोंडागांव में नौकरी करता है। इसलिए जीवनलाल श्रीवास अपनी पत्नी सहित कुछ दिन वहां रहने चला गया। 23 नवंबर की शाम पड़ोसियों ने उन्हें सूचना दी कि उनके घर का ताला टूटा हुआ है। इसके बाद जीवन लाल सपरिवार चांपा स्थित मकान पहुंचे। उनके घर के बेडरूम का ताला टूटा था। सामान बिखरे थे और आलमारी से सोने का एक जोड़ी झूमका 15 ग्राम, अंगूठी, बिंदिया व चांदी का पायल दो जोड़ी गायब था। इसके अलावा डेढ़ लाख रूपए नगदी भी वहां नहीं था। उसी मकान में ऊपर किराए में रहने वाले चंद्रशेखर क्षत्रिय के घर का ताला भी टूटा था। यहां से दस तोला सोने के गहने चोरों ने पार कर दिया था। दोनों ने थाने पहुंचकर चोरी की रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस ने अज्ञात चोर के खिलापᆬ भादवि की धारा 457, 380 के तहत अपराध दर्ज किया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local