जांजगीर-चांपा (नईदुनिया न्यूज)। नहर किनारे की सरकारी जमीन पर लोगों ने अवैध कब्जा कर न केवल बाउंड्री वाल बनाई बल्कि घर तक बना लिया है। बीटीआई चौक मेन रोड से नहरिया बाबा मंदिर की ओर जाने वाले नहर किनारे की जमीन पर वहां रहने वाले लोगों ने अवैध कब्जा कर लिया है। नगरपालिका ने नगर के बरसाती पानी को बाहर निकालने के लिए नाली बनवाई है, इस नाली पर भी लोगों ने कब्जा कर लिया है। इसके अलावा नहर से लगी हुई सिंचाई विभाग की जमीन को भी लोगों ने नहीं छोड़ा है। सोमवार को सिंचाई विभाग की टीम ने नाप जोख करते हुए अतिक्रमण हटाने के लिए करीब 50 घरों को चिन्हित किया है। मंगलवार को भी विभाग की टीम द्वारा नापजोख की जाएगी।

जिला मुख्यालय जांजगीर के बीच से बड़ी नहर गुजरी है। इस नहर के दोनों ओर पार बनाए गए हैं। नहरिया बाबा के भक्तों के मंदिर जाने के लिए सीसी रोड भी बनाई गई है। इस सड़क पर लोगों की नजर लग गई है। यहीं पर से पालिका द्वारा नगर के बरसाती पानी को निकालने के लिए नाला भी बनाया गया है। इस नहर के नीचे जमीन खरीदने वालों ने जमीन तो निजी व्यक्ति से खरीदी। जब खरीदी तो नहर की हद की जमीन व पालिका के नाले से दूर अपना घर बनाया। बाद में इस जमीन पर अब पास में घर बनाकर रहने वाले लोगों की नजर लग गई है। लोगों ने अपने लिए रास्ता नहर की ओर ही खोल लिया है। निस्तारी के लिए पालिका द्वारा बनाई गई नाली को पाटकर अपने लिए आने जाने का रास्ता बना लिया गया, तब किसी ने आपत्ति नहीं जताई तो ऐसे लोगों के हौसले बुलंद हो गए हैं। अब नहर की जमीन पर कब्जा कर उसमें बाउंड्री भी बना लिए हैैं। इस रास्ते में करीब दो दर्जन से अधिक मकान बने हैं जिन्होंने या तो बेजा कब्जा कर घर बना लिया है या फिर दूसरों की देखा देखी बाउंड्रीवाल खड़ी कर दी है। बड़े वाहन भी सड़क में ही खड़े कर दिए जाते हैं। सिंचाई विभाग के उप अभियंता के एस तंवर ने बताया कि सिंचाई विभाग की जमीन नहर के बीच से लेकर दाहिनी तट पर कुल 93 फीट है। वहीं कोपिंग से 57 फीट नाप कर अवैध कब्जे पर मार्क किया जा रहा है। लोगों ने सिंचाई विभाग की जमीन पर अपने घरों का बाउंड्रीवाल और सीढ़ियों का निर्माण किया है। कुछ मकान मालिकों ने 5 फीट तो कुछ ने 10 से 15 फीट सिंचाई विभाग की जमीन को अपने कब्जे में कर रखा है।

6 साल पहले हटाया गया था अतिक्रमण

नहर किनारे का अतिक्रमण हटाने की मांग करते हुए 6 साल पहले उधााधिकारियों से शिकायत की गई थी। जिस पर तत्कालीन कलेक्टर ओपी चौधरी ने जांजगीर एसडीएम व नगरपालिका के सीएमओ को नहर किनारे से अतिक्रमण हटाने के निर्देश दिए थे। इसके बाद नगरपालिका द्वारा अतिक्रमण करने वाले करीब 30 लोगों को नोटिस दी गई थी। नोटिस के बाद भी जब लोगों ने कब्जा नहीं छोड़ा तो नगरपालिका का अतिक्रमण हटाओ दस्ता तत्कालीन एसडीएम आशीष टिकरिहा, तहसीलदार मोनिका वर्मा, सीएमओ सौरभ शर्मा के नेतृत्व में जेसीबी लेकर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की गई थी।

''सोमवार को उप अभियंता के एस तंवर की टीम ने नहरिया बाबा मंदिर पहुंच मार्ग में नाप जोख की है। मंगलवार को भी नापजोख की जाएगी। जिन लोगों ने विभाग की जमीन पर अतिक्रमण किया है उनके खिलापᆬ कार्रवाई की जाएगी। जल्द ही बायीं तट पर भी नापजोख की जाएगी। बायीं तट पर भी दर्जनों लोगों ने अवैध कब्जा किया हुआ है और वह तट और उस ओर मौजूद सड़क दाहिनी तट से भी सकरी है।

डीएस खूंटे, एसडीओ, हसदेव नहर जल संसाधन विभाग

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local