जांजगीर-चांपा। सफाई मित्र सुरक्षा चैलेंज अवार्ड के लिए जांजगीर और सक्ती जिले के 15 नगरीय निकायों में से एकमात्र अकलतरा नगर पालिका को दूसरी बार पुरस्कार दिया गया है। जबकि पिछली बार चार नगरीय निकाय नगर पालिका अकलतरा, चांपा, नगर पंचायत शिवरीनारायण और चंद्रपुर को थ्री स्टार रेटिंग के तहत पुरस्कार मिला था। मगर इस बार तीनों निकाय पिछड़ गए हैं।

नगर पालिका चांपा, अकलतरा, नगर पंचायत शिवरीनारायण और चंद्रपुर को सफाई मित्र सुरक्षा चैलेंज अवार्ड के लिए नामित किया गया था। इन नगरीय निकायों को वैक्यूम इंपिटियर मशीन से सैप्टिक टैंक की सफाई और लोगों में इसके प्रति जनजागरूकता बढ़ाने के लिए पुरस्कार दिया गया था। इस योजना का का उद्घेश्य यह है कि सैप्टिक टैंक और सीवर की सफाई हाथों से सीधे उतरकर करने पर कर्मचारियों की मौत होती है। साथ ही यह मानवीय स्वाभिमान के अनुरूप नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने भी इसे विभिन्न निर्णयों में खतरनाक और अमानवीय बताया है। इसलिए सरकार ने सैप्टिक टैंक और सीवरों की यांत्रिक सफाई को बढ़ावा देने के लिए सफाई मित्र सुरक्षा चैलेंज अभियान 19 नवंबर 2020 से शुरू किया गया है। मई 2021 तक प्रतियोगिता में भाग लेने वाले नगरीय निकायों के काम का मूल्यांकन टीम भेजकर किया गया और अब अवार्ड के लिए नामित किया गया है। इस बार स्वच्छता सर्वेक्षण के साथ ही पहली बार हुए सफाई मित्र सुरक्षा चैलेंज को लेकर भी तीनों नगरीय निकायों ने बेहतर काम किया है। इस केटेगरी में इकलतरा, चांपा, शिवरीनारायण और चंद्रपुर को इस अवार्ड के लिए चुना गया था। मगर इस बार जांजगीर और सक्ती जिले के 4 नगर पालिका और 11 नगर पंचायतों में से केवल नगर पालिका अकलतरा का चयन पु्री गार्बेज सिटी पुरस्कार के लिए हुआ है। 30 सितंबर को दिल्ली में आयोजित अवार्ड कार्यक्रम में थ्री स्टार रेटिंग पुरस्कार दिया गया।

यह होता है चयन का मापदंड

इस कैटेगरी के अंतर्गत परखा जाता है कि सीवरेज में काम करने वाले वर्करों की सेफ्टी को लेकर क्या स्थिति और किस तरह से उनके सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं। नगर पालिका में सैप्टिक टैंक की सफाई के लिए वैक्यूम इंपिटियर मशीन के साथ ही अन्य सुरक्षा इंतजाम वर्करों के लिए किए गए। सबसे खास बात है कि कोई भी काम हाथों से नहीं किया जा रहा है। पूरा सिस्टम मशीन के द्वारा ही आपरेट किया जाता है। चेंबर खोलने के बाद सफाई की पूरी प्रक्रिया पाइप के माध्यम से की जाती है। इसके अलावा पूरे सुरक्षा उपकरण भी मौजूद होते हैं कि जरूरत पड़ने पर उनका इस्तेमाल किया जा सके।

जांजगीर नैला नपा सफाई में फिसड्डी

सफाई मित्र सुरक्षा चैलेंज अवार्ड के लिए जिला मुख्यालय के नगर पालिका जांजगीर -नैला को भी शामिल होना था। मगर सापु - सफाई से यह नगर कोसों दूर है। यहां नियमित कचरे का उठाव नहीं होता है। ई रिक्शे भी कबाड़ होने लगे हैं। वार्ड क्रमांक 3, 6, 7, 8, 14, 15, 17 सहित अन्य वार्डो में कचरे का ढेर लगा हुआ है। पिछली बार स्वच्छता रैकिंग तो मिला था लेकिन उसे बरकरार रखने पालिका गंभीर नहीं है। यहां प्लेसमेंट के कर्मचारी बड़ी संख्या में हैं मगर सफाई नियमित रूप से नहीं होती ।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close