जशपुरनगर। नईदुनिया न्यूज। शिक्षा सत्र 2019-20 का तीन माह बीतने के बावजूद जिले में अब तक पांच हजार स्कूली बच्चों को जाति प्रमाण पत्र नहीं मिल पाई है। इन बच्चों को जाति प्रमाण पत्र उपलब्ध कराने के लिए अब जिला प्रशासन स्कूलों में ही शिविर लगाएगा। जाति प्रमाण पत्र जारी करने में हो रही लेट लतीपᆬी बुधवार को कलेक्टर कार्यालय के सभागार में आयोजित समीक्षा बैठक में उजागर हुआ है। बैठक में स्कूली बच्चों के जाति प्रमाण पत्र जारी करने की स्थिति की विकासखंडवार समीक्षा की गई । कलेक्टर ने 1 नवम्बर से पूर्व जशपुर ब्लॉक के शत्‌ प्रतिशत्‌ पात्र स्कूली बच्चों को प्रमाण-पत्र जारी करने के कार्य को पायलेट प्रोजेक्ट के रूप में पूरा करने के निर्देश दिए।उल्लेखनीय है कि शासन द्वारा इस वर्ष जशपुर जिले में 16086 स्कूली बच्चों का प्रमाण-पत्र जारी किया जाना है। जिसके विरूद्ध अब तक 10404 जाति-प्रमाण पत्र जारी किए जा चुके है। कलेक्टर ने संबंधित एसडीएम को शेष जाति-प्रमाण पत्र जारी करने के लिए स्कूलों में कैम्प लगाने के निर्देश दिए। बैठक में छात्रावासों के निरीक्षण के स्थिति की भी समीक्षा की गई। कलेक्टर ने जिले में निर्मित गौठानों का जियो-टैगिंग करने तथा गौठानों में ही पोल्ट्री पालन के लिए भी प्लानिंग करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। पतराटोली में भी गौठान के निर्माण का प्रालन तैयार कर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने जिले के हार्ड बाजारों में हेल्थ कैम्प लगाने तथा भू-अर्जन के मुआवजा भुगतान के लंबित मामलों की समीक्षा की। कलेक्टर निलेशकुमार महादेव क्षीरसागर ने कलेक्टोरेट सभाकक्ष में आयोजित समय-सीमा की बैठक में विभागवार लंबित पत्रों की गहन समीक्षा करते हुए सभी विभाग के अधिकारियों को तत्परता से इनका निराकरण सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने बैठक में मुख्यमंत्री जनचौपाल से मिले पत्रों के निराकरण की स्थिति की भी जानकारी संबंधित विभाग के अधिकारियो ंसे ली। उन्होंने संबंधित अधिकारियों से स्पष्ट रूप से कहा कि जनचौपाल एवं शासन स्तर से प्राप्त होने वाले पत्रों के निराकरण में किसी भी तरह की लेट-लतीफी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने जन चौपाल से प्राप्त होने वाले आवेदन जिनका निराकरण जिला स्तर से संभव है । उसे दो दिवस के भीतर निराकृत कर रिपोर्ट देने के निर्देश अधिकारियों को दिए। कलेक्टर ने कहा कि जनचौपाल से प्राप्त ऐसे आवेदन एवं निर्माण के कार्य जिनका निराकरण राज्य स्तर से होना है। उसका प्रस्ताव तत्काल संबंधित विभाग के राज्य स्तरीय कार्यालय भेजें।

अब जशपुर के ईई को भी थमाया नोटिस

कलेक्टर ने बैठक में बिना सूचना बैठक से गैर हाजिर रहने तथा निर्माण कार्यों को समयावधि में पूर्ण कराने में उदासीनता बरतने को लेकर नाराजगी जताई और उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। इससे पहले इसी विभाग के पत्थलगांव के ईई एम आर चारी के विरूद्व कार्रवाई करते हुए अनुशासनात्मक कार्रवाई करने की अनुशंसा प्रदेश शासन से की गई है। ईई श्री चारी पर कार्रवाई की गाज कोतबा-लवाकेरा और कोतबा-बागबहार सड़क के रख रखाव और निर्माण कार्यो की गुणवत्ता व समय सीमा के पालन में लापरवाही पर की गई है।

---------