जशपुर। पत्थलगांव में तेज रफ्तार बस बाइक सवारों को बचाने की कोशिश में अनियंत्रित हो गई। बाइक को चपेट में लेने के बाद बस भी पलट गई। घटना में बाइक में सवार दो ग्रामीण और बस के गेट पर खड़े एक यात्री की मौत हो गई है। वहीं, पांच लोग घायल हुए हैं। उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घटना बुधवार की शाम पांच बजे ग्राम गोढ़ीकलां के समीप हुई।

जशपुर से अंबिकापुर को जाने वाली राजधानी बस शाम 4.30 बजे पत्थलगांव बस स्टैंड से अंबिकापुर के लिए निकली। ग्राम गोढ़ीकलां के समीप सामने से आ रहे बाइक सवारों को बचाने के चक्कर के प्रयास में चालक ने बस पर नियंत्रण खो दिया। बस सड़क किराने गड्ढे में पलट गई। दुर्घटना में बाइक को तेज ठोकर लगी, उससे बाइक सवार दो ग्रामीण दूर जा गिरे। दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं, बस के गेट पर खड़े होकर सफर कर रहे बलराम लकड़ा(65) के सिर पर गंभीर चोट लगी। उसे अन्य घायलों के साथ इलाज के लिए अस्पताल पहुंचाया गया। उपचार के दौरान बलराम की मौत हो गई। वहीं बाइक सवार दो युवकों की शिनाख्त नहीं हो पाई है। हादसे में घायल चंगे लाल(60), सनकुमारी(30), सनियारो राउत (50), सूरज लकड़ा (6) और सुनीता (30) का इलाज किया जा रहा है। जहां उनकी स्थिति खतरे से बाहर है। पुलिस मामले की विवेचना में जुट गई है।

खराब राजमार्ग के कारण हादसा

बुधवार को हुए सड़क हादसे की वजह राष्ट्रीय राजमार्ग 43 की दुर्दशा को भी माना जा रहा है। पत्थलगांव से अंबिकापुर की ओर जाने वाली बसें आम तौर पर पत्थलगांव के इंदिरा चौक से भाटामुड़ा, करूमहुआ, फुलेता, सुखरापारा मार्ग का उपयोग करती हैं। पत्थलगांव से फुलेता तक जर्जर राजमार्ग और बड़े-बड़े गड्ढों के कारण वाहनों का इस पर चल पाना कठिन हो गया है। छोटे से लेकर भारी वाहन चालक मुख्य मार्ग के बजाय गांव के संकरे रास्तों का इस्तेमाल करते हैं। वर्षा में बगल की मिट्टी गीली हो जाने से वाहनों का रास्ते से उतार पाना खतरनाक होता है। वाहनों के फंसने का भी डर होता है। ऐसे में हमेशा हादसे का खतरा बना रहता है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close