जशपुरनगर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। दूसरे राज्यों से गांजा सहित अन्य मादक पदार्थों की तस्करी को रोकने के लिए अब जिले के अंतरराज्यीय सीमा पर सीसीटीवी कैमरा युक्त जांच नाका स्थापित किया जाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर डीजीपी डीएम अवस्थी ने प्रदेश के सभी जिले के एसपी को कार्रवाई करने का आदेश जारी किया है। जानकारी के मुताबिक जारी निर्देश में कहा गया है कि सीमावर्ती राज्यों से आने वाले मार्गों में चेकपोस्ट लगाकर पर्याप्त संख्या में सशस्त्र बल की भी तैनाती की जाएगी।

उल्लेखनीय है कि जिले के फरसाबहार,जशपुर और मनोरा ब्लाक में अंतरराज्यीय सीमा स्थित है। मनोरा और जशपुर ब्लाक से झारखंड की सीमा लगी हुई है,वहीं दुलदुला,फरसाबहार ब्लाक की सीमा ओडिशा और झारखंड दोनों राज्यों की सीमा को छूती है। गांजा तस्करी का सबसे बड़ा रास्ता फरसाबहार ब्लाक से हो कर गुजरता है। यहां ओडिशा के लवाकेरा में परिवहन विभाग का एक जांच बेरियर मौजूद है। लेकिन इसकी भूमिका सिर्फ वाहनों के टैक्स संबंधी दस्तावेजों की जांच तक सिमटी हुई है। वहीं ओडिशा और झारखंड की सीमा पर स्थित सिंगीबहार में वनविभाग ने जांच नाका लगाया हुआ है। लेकिन इस बेरियर में भी सिर्फ वनोपज की आवाजाही की जांच की जाती है। जशपुर ब्लाक की बात की जाए तो छत्तीसगढ और झारखंड की सीमा पर स्थित शंख में आरटीओ और कृषि विभाग का जांच नाका स्थित है। लेकिन इस बेरियर में भी वाहनों की टैक्स संबंधी दस्तावेजों की ही जांच की जाती है। जाहिर है,अवैध मादक द्रव्यों की धरपकड़ के लिए पुलिस प्रशासन,पूरी तरह से मुखबीरों के सूचना पर आश्रित है। बीते कुछ महिनों के दौरान प्रदेश भर में शराब और गांजा की हुई भारी मात्रा में जब्ती ने शासन प्रशासन के होश उड़ा दिए हैं। जानकारों का कहना है कि छत्तीसगढ के मुकाबले ओडिशा और झारखंड में अंग्रेजी शराब सस्ती मिलने के कारण,तस्कर काफी सक्रिय रहते हैं। जिससे प्रदेश सरकार को हर माह करोड़ों के राजस्व का नुकसान होता है।

सीसीटीवी कैमरा युक्त होगें बेरियर

मादक पदार्थों का अवैध परिवहन रोकने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा स्थापित किए जा रहे विशेष जांच नाके पर सशस्त्र पुलिस जवानों के साथ तीसरी आंख की निगरानी की व्यवस्था की जाएगी। पीएचक्यू से जारी किए गए निर्देश पर इस बात का विशेष उल्लेख किया गया है। सीसीटीवी कैमरे की मदद से बेरियर क्रास कर आने जाने वाले वाहनों की फुटेज का रिकार्ड निर्धारित समय तक सुरक्षित रखा जाएगा। इससे किसी हादसे या आपराधिक घटना के होने पर पुलिस को जांच और अपराधी तक पहुंचने में भी मदद मिल सकेगी। गांजा तस्करी के लिहाज से जिले के तपकरा,बागबहार,फरसाबहार,पत्थलगांव,कांसाबेल थाना को संवेदनशील माना जाता है। सरकार के आदेश के बाद पुलिस प्रशासन जांच नाका तैनात करने की तैयारी में जुटा हुआ है।

पीएचक्यू से इस संबंध में निर्देश मिलें हैं। तैयारी की जा रही है। पहले ओडिशा की सीमा पर बेरियर लगाया जाएगा।

विजय अग्रवाल,एसपी जशपुर

--

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local