जशपुरनगर। नगरपालिका के अध्यक्ष पद को लेकर भाजपा में मची उठापटक पर कांग्रेस की नजर टिकी हुई है। कांग्रेस को जिले में भाजपा के इस एकमात्र नगरीय निकाय में पत्थलगांव में हुए सत्ता पलट के खेल को दोहराने की संभावना तलाश रही है। वहीं भाजपा की नगर सरकार पर लग रहे निष्क्रियता और गड़बड़ी के आरोप को लेकर भी कांग्रेस अब मोर्चा खोलने की तैयारी शुरू कर दी है।

बीते कुछ दिनों ने इंटरनेट मीडिया में नगरपालिका अध्यक्ष नरेशचंद्र साय को बदले जाने की चर्चा जोरो से चल रही है। दावा किया जा रहा है कि उनकी निष्क्रियता से पार्टी और नगर सरकार की प्रभावित होती छवि को लेकर उन्हें हटाएं जाने की मांग भाजपा के पार्षदों ने पार्टी के सामने रखी है। हालांकि मंगलवार को प्रेस कांफ्रेंस आयोजित कर उपाध्यक्ष राजेश गुप्ता सहित भाजपा के पार्षदों ने अध्यक्ष नरेशचंद्र साय को लेकर किसी भी प्रकार के असंतोष के दावे को सिरे से नकार दिया है। उनका कहना था कि स्वास्थ्यगत कारणों से नरेशचंद्र साय,ढाई साल के कार्यकाल में जनसंपर्क नहीं कर पाए। लेकिन नगर सरकार कोरोना काल और इसके बाद नगरवासियों की समस्या के निराकरण और विकास के लिए सक्रिय रही है। 20 सदस्यीय नगरपालिका परिषद में 17 पार्षदों के साथ भाजपा पूर्ण बहुमत लेकर नगर सरकार की सत्ता में बैठी हुई है। बहुमत के हिसाब से भाजपा को कोई खतरा नहीं है। लेकिन पत्थलगांव के दर्ज पर पार्षदों के पाला बदलने से सरकार डगमगा सकती है।

कांग्रेस ने शुरू की मोर्चाबंदी

भाजपा में चल रहे इस अंदरूनी खींचतान के बीच कांग्रेस ने भी निविदा और निर्माण कार्यो में हुई गड़बड़ी को लेकर भाजपा को घेरने की तैयारी शुरू कर दी है। सूत्रों के अनुसार जल्द ही कांग्रेस इन मुद्दों को लेकर नगरपालिका का घेराव कर सकती है। हालांकि नगर सरकार में कांग्रेस की स्थिति बेहद कमजोर है। 20 सदस्यों वाली इस पार्षद में कांग्रेस की सिर्फ एक पार्षद है। एल्डरमैन नियुक्त होने का लाभ भी अब तक कांग्रेस,नगर पालिका में नहीं उठा पाई है।

पत्थलगांव में हो चुका है सत्ता पलट

नगरपालिका जशपुर में चल रहे राजनीतिक घमासान में लोगों की दिलचस्पी इसी साल पत्थलगांव के नगर पंचायत में हुई सत्ता पलट के बाद और बढ़ गई है। जानकारी के लिए बता दें कि नगर पंचायत पत्थलगांव मे श्रीमती सुचिता एक्का पूर्ण बहुमत के साथ भाजपा की ओर से नगर पंचायत अध्यक्ष के पद पर आसीन हुई थी। लेकिन पार्षदों के असंतोष के कारण अविश्वास प्रस्ताव हार कर न केवल उन्हें सत्ता से बाहर होना पड़ा बल्कि भाजपा को भी यहां सत्ता गंवानी पड़ी थी। फिलहाल इस नगर पंचायत में कांग्रेस की श्रीमती उर्वशी सिंह नगर पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी सम्हाली हुई है। जाहिर है कांग्रेस के लिए भाजपा के सबसे मजबूत गढ़ जशपुर में इस खेल को दोहराना आसान नहीं होगा।

नगरपालिका अध्यक्ष को बदलने की मांग पार्टी के सामने आई थी। इस पर विचार और अंतिम निर्णय के लिए पूर्व सांसद रणविजय सिंह जूदेव को अंतिम अधिकार दे दिया गया है।

रोहित साय,जिलाध्यक्ष,भाजपा,जशपुर

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close