जशपुरनगर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिला चिकित्सालय में इलाज के दौरान हुई महिला की मृत्यु का मामला गंभीर होने लगा है। इस मामले की निष्पक्ष जांच के लिए मृतिका के पति ने जांच दल गठित करने की मांग की है। कलेक्टर के नाम पर एसडीएम को सौपें गए ज्ञापन में घटना के समय ड्यूटी में उपस्थित चिकित्सक और नर्स के व्यवहार और दिए गए दवा व इंजेक्शन की विशेष रूप से जांच करने का अनुरोध किया है।

विवाद 3 अगस्त को उस समय उठा जब बुखार के इलाज के लिए जिला चिकित्सालय के महिला वार्ड में भर्ती शहर के भागलपुर निवासी श्रीमती प्रभा नायक (22) की बुधवार की रात को अचानक तबियत बिगड़ गई थी। मृतिका के पति अविनाश नायक का आरोप है कि प्रभा नायक की तबियत इलाज के दौरान एक स्लाइन चढ़ाने के बाद बिगड़ी। उन्होनें महिला की बिगड़ती हुई हालत की जानकारी ड्यूटी कर रहे चिकित्सक डा अग्रवाल और नर्सो की दी। लेकिन उन्होनें समय पर ध्यान देने की जगह उन्हें डांट कर वापस भेज दिया। जब तक डाक्टर वार्ड में आए प्रतिभा की तबियत काफी बिगड़ चुकी थी। मरीज की गंभीर स्थिति को देखते हुए डा अग्रवाल ने एक के बाद एक 6 इंजेक्शन दिए और आईसीयू के लिए रेफर कर वार्ड से चले गए। आईसीयू में ले जाने के दौरान ही प्रभा की मृत्यु हो गई। महिला की मृत्यु से गुस्साएं स्वजनों और शहर के स्थानीय लोगों ने बुधवार की रात को ही जमकर हंगामा मचाया था। चिकित्सक डा अग्रवाल पर नशे की हालत में ड्यूटी करने इलाज में लापरवाही और गलत इलाज करने का आरोप लगाते हुए अस्पताल परिसर में बैठ कर नारेबाजी करने लगे। हंगामा की सूचना पर एसडीएम बालेश्वर राम, तहसीलदार विकास जिंदल ओैर एसडीओपी आरएस परिहार अस्पताल पहुंचे थे। काफी देर तक अधिकारियों ने नाराज लोगों को समझाइश देने की कोशिश की। लेकिन आक्रोशित लोग मृतिका के परिवार को 50 लाख की क्षतिपूर्ति राशि और मामले की जांच पर अड़े रहे। आखिर में अधिकारियों के मामले की जांच के आश्वासन के बाद मामला शांत हुआ था।

पोस्टमार्टम और बिसरा रिपोर्ट का इंतजार

मृतिका प्रभा नायक के पति अविनाश ने इस पूरे मामले की शिकायत कोतवाली पुलिस से की है। शिकायत में उन्होने इस पूरे मामले की जांच कर इलाज में लापरवाही करने वाले चिकित्सक और चिकित्साकर्मियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने का अनुरोध किया है। कार्रवाई के लिए कोतवाली पुलिस मृतिका को पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है। जिला चिकित्सालय के सिविल सर्जन डा आरएन केरकेट्टा ने नईदुनिया को बताया कि पोस्टमार्टम के लिए तीन चिकित्सकों की टीम बनाई गई थी। संक्षिप्त रिपोर्ट शुक्रवार की शाम तक मिलने की उम्मीद है। उन्होनें बताया कि रिपोर्ट मिलने पर उच्च अधिकारियों के निर्देशानुसार मामले में कार्रवाई की जाएगी। वहीं इस मामले में मृतिका के बिसरा जांच की रिपोर्ट की भी प्रमुख भूमिका हो सकती है। हालांकि यह रिपोर्ट मिलने में समय लग सकता है। बिसरा को संरक्षित कर जांच के लिए रायपुर भेजा जाता है।

जांच दल गठित करने की मांग

मृतिका के पति अविनाश नायक ने कलेक्टर के नाम पर एसडीएम बालेश्वर राम को सौपें गए ज्ञापन में इस पूरे मामले की जांच के लिए अलग दल गठित करने का अनुरोध किया है। अधिवक्ता देवधन नायक ने बताया कि इस ज्ञापन में अविनाश नायक ने पत्नी की इलाज में दिए गए दवा के रिएक्शन,डाक्टर अग्रवाल द्वारा एक के बाद 6 इंजेक्शन दिए जाने और आईसीयू में शिफ्ट किए जाने में हुई लापरवाही की जानकारी देते हुए,बिंदुवार जांच करा,दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है।

उच्च अधिकारियों के निर्देश पर मृतिका प्रभा नायक के पोस्टमार्टम के लिए तीन सदस्यीय दल गठित किया गया है। शुक्रवार शाम तक शार्ट पीएम रिपोर्ट मिलने की उम्मीद है।

डा आरएन केरकेट्टा,सिविल सर्जन,जिला चिकित्सालय,जशपुर।

---------

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close