जशपुरनगर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में कोरोना संक्रमण एक बार फिर दस्तक दे रहा है। स्वास्थ्य विभाग ने एक सप्ताह के दौरान 13 संक्रमितों को चिन्हांकित किया है। संक्रमितों की बढ़ती हुई संख्या को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने अपनी कोरोना व्यवस्था को नए सिरे से संवारने का काम शुरू कर दिया है। कंट्रोल रूम और आइसोलेशन वार्ड के साथ गंभीर मरीजों के लिए अलग से आईसीयू की व्यवस्था भी की जा रही है। लेकिन बूस्टर डोज की सुस्त रफ्तार और कोरोना प्रोटोकाल में बरती जा रही लापरवाही,स्वास्थ्य विभाग के लिए बड़ी समस्या साबित हो रही है।

जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा रंजित टोप्पो ने नईदुनिया को बताया कि बीते 24 घंटे के दौरान जिले में 4 संक्रमितों की पहचान की गई है। इनमें से तीन संक्रमितों की पहचान अस्पताल के ओपीडी वार्ड में जांच के दौरान हुई है। इससे पहले बुधवार को और गुरूवार को तीन तीन मरीज संक्रमित पाएं गए थे। स्वास्थ्य विभाग के रिकार्ड के अनुसार गुरूवार 23 जून की स्थिति में जिले में 14 कोरोना संक्रमित हैं। इन सभी को होम आईसोलेशन में रख कर इलाज किया जा रहा है।

शुरू हुआ वायरोलाजी लैब,मिलेगी राहत -

लगभग डेढ़ साल तक तकनीकी कारणों से अधर में लटके रहने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने आखिर वायरोलाजी लैब को शुरू कर दिया है। सीएमएचओ ने बताया कि इस लैब में प्रतिदिन 300 आरपीसीआर जांच करने की क्षमता है। इस समय प्रतिदिन सौ से डेढ़ सौ जांच की जा रही है। इस लैब के शुरू हो जाने से स्वास्थ्य विभाग के साथ मरीजों को बड़ी राहत मिली है। अब तक आरटीपीसीआर जांच के लिए नमूनों को रायगढ़ भेजा जाता था। यहां कोरोना के पहली और दूसरी लहर के दौरान रायगढ़ और जांजगीर जिलों के सैंपल की जांच होने के कारण रिपोर्ट आने में तीन से चार दिन का समय लग जाता था। इसके साथ ही सैंपल को रायगढ़ तक भेजने में राशि और संसाधन भी लगाना पड़ता था। अब जमा किए गए नमूनों की रिपोर्ट 24 से 48 घंटे के अंदर ही मिलने लगी है।

संसाधनों को संवारने में जुटा स्वास्थ्य विभाग

बीते कुछ महिनों से जिले में कोरोना का ग्राफ शून्य में सिमटा हुआ था। इसे देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने शासन के निर्देश का पालन करते हुए कोविड केयर सेंटर को बंद कर चुका है। जिला कोविड सेंटर में फिर से मातृ शिशु केयर यूनिट को चालू कर दिया गया है। लेकिन बीते कुछ दिनों से कोरोना के बढ़ते आंकड़े को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने संसाधनों को फिर से शुरू कर दी है। सीएमएचओ डा टोप्पो ने बताया कि शुक्रवार से कोविड कंट्रोल रूम को शुरू किया जा रहा है। इसके साथ ही जिला चिकित्सालय में 10 बेड का आइसोलेशन वार्ड और आईसीयू वार्ड की व्यवस्था की जा रही है ताकि गंभीर मरीज के आने पर इलाज की व्यवस्था की जा सके।

बूस्टर डोज की सुस्त रफ्तार से बढ़ी परेशानी

कोरोना की बढ़ती रफ्तार को रोकने के लिए केन्द्र व राज्य सरकार ने टीकाकरण अभियान में पूरी ताकत झोंक दी थी। इसका बेहतर परिणाम भी देखने को मिला था। लेकिन संक्रमण दर में आई भारी गिरावट के बाद लोग टीकाकरण में लापरवाही बरतते नजर आ रहें हैं। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार जिले में बूस्टर डोज अब तक 26 प्रतिशत लोगों ने ही ली है। सीएमएचओ ने बताया कि जिले को 1 लाख 3233 डोज बूस्टर डोज लगाने का लक्ष्‌य शासन से मिला था। इसके विरूद्व 12 साल से लेकर बुजुर्ग तक सभी वर्ग के लोगों को मिलाकर 26477 डोज ही लगाया जा सका है। उन्होनें बताया कि जिले में कोरोनारोधी टीका,पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है।

एक नजर आंकड़ों पर

बीते 24 घंटे में पाए गए मरीज - 04

जिले में कुल सक्रिय केस की संख्या - 13

अब तक पाए गए कुल संक्रमित - 26056

स्वस्थ्य होने वाले मरीजों की संख्या - 31273

संक्रमण से हुए कुल मौत - 215

वर्जन

संक्रमण की बढ़ती संख्या को देखते हुए कंट्रोल रूम और आईसोलेशन वार्ड को फिर से शुरू किया जा रहा है। जिलेवासियों से अपील है कि कोरोना गाइड लाइन का पालन करें और टीका अवश्य लगवाएं।

-डा रंजित टोप्पो,सीएमएचओ,जशपुर।

-----------

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close