जशपुरनगर,नईदुनिया न्यूज। मंगलवार को विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर कलेक्टोरेट मंत्रणा सभाकक्ष में कार्यक्रम का आयोजन किया गया । कार्यक्रम में विधायक विनय भगत, कलेक्टर रितेश कुमार अग्रवाल, पुलिस अधीक्षक डी रविशंकर, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी जितेन्द्र यादव, वनमण्डलाधिकारी जितेन्द्र उपाध्याय, पहाड़ी कोरवा एवं बिरहोर आदिवासी विकास अभिकरण के अध्यक्ष मनकुमार राम, आदिमजाति विभाग के सहायक आयुक्त बीके राजपूत, सूरज चैरसिया, अजय गुप्ता, जनप्रतिनिधि, आदिवासी भाई बंधु बड़ी संख्या में उपस्थित थे। विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर विधायक विनय भगत एवं कलेक्टर रितेश कुमार अग्रवाल ने विशेष पिछड़ी जनजाति पहाड़ी कोरवा के 19 युवाओं को तिलक लगाकर, नियुक्त पत्र सौंपा। जिला प्रशासन ने 667 वन अधिकार पत्र एवं ऋण पुस्तिका, 15 सामुदायिक वन अधिकार पत्र,114 वन संसाधन अधिकार पत्र का वितरण किया गया। अब तक कुल 18 हजार 949 व्यक्तिगत वन अधिकार पत्र, 29 सौ 48 सामुदायिक वन अधिकार पत्र एवं 386 वन संसाधन अधिकार पत्र दिया गया है। 19 पहाड़ी कोरवा शिक्षित युवाओं को नियुक्ति पत्र दिया गया है। जिसमें 8 सहायक ग्रेड 03 है। 10 सहायक शिक्षक, 01 ड्रेसर ग्रेड 02 के पद पर नियुक्ति दिया गया है। वन अधिकार पत्र धारकों के भूमि पर विकास कार्य के लिए वर्ष 2022-23 में मनरेगा से 3121 कार्य के लिए 22.36 करोड़ की राशि स्वीकृति, कृषि एवं उद्यानिकी से 94 हितग्राही को 2.10 लाख की स्वीकृति, क्रेडा व वन विभाग द्वारा 84 हितग्राहियों के लिए 74.86 लाख की स्वीकति दी गई। विधायक विनय भगत ने सभी को विश्व आदिवासी दिवस की हार्दिक शुभकामनांए देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आदिवासियों की संस्कृति, सभ्यता और उनकी प्राकृतिक धरोहर को सहजने का सराहनीय कार्य कर रही है। विशेष पिछड़ी जनजातियों एवं पहाड़ी कोरवा परिवारों के बच्चों को रोजगार मिले इसके लिए 9623 पद स्वीकृत किए गए है। और उनको शिक्षा की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए सार्थक कार्य किया जा रहा है। जशपुर जिले में भी 816 पद स्वीकृत किया गया है। उन्होंनें कहा कि 65 प्रकार की वनोपज की खरीदी करके आदिवासी भाई बंधुओं को आर्थिक सहायता कर रही है। देवगुड़ी को भी संरक्षित करने का कार्य किया जा रहा है। कलेक्टर रितेश कुमार अग्रवाल ने कहा कि सभी जिलों में आदिवासियों के स्वास्थ्य, शिक्षा और उनके उत्थान के लिए कार्य किया जा रहा है। दूरस्थ अंचल के बच्चों को अच्छी शिक्षा का लाभ मिले इसके के लिए आश्रम छात्रावास में प्रवेश दिलाया जा रहा है। विशेष पिछड़ी जनजाति पहाड़ी कोरवाओं को संरक्षित करने के लिए उनकी योग्यता के अनुसार रोजगार दिया जा रहा है। उन्होंने आदिवासी परिवार के महिलाओं को स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देते हुए कहा कि गर्भवती महिलाएं चार बार अपना स्वास्थ्य परीक्षण अनिवार्य रूप से करवाएं। पुलिस अधीक्षक डी रविशंकर कहा कि आज हम सब को संकल्प लेने की आवश्यकता है और अपनी संस्कृति और सभ्यता को संरक्षित करके रखना होगा। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी जितेन्द्र यादव ने आभार प्रदर्शन करते हुए कहा कि अंतिम व्यक्ति तक योजनाओं को पहुंचाने का सार्थक कार्य किया जा रहा है और लोगों को छत्तीसगढ़ शासन की अन्य योजनाओं का लाभ दिया जा रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close