जशपुरनगर। हृदय रोग और कुपोषण से जुझ रही डेढ़ साल की मासूम के इलाज में स्वास्थ्य विभाग की गंभीर लापरवाही उजागर हुई है। बच्ची के इलाज के लिए दर—दर भटक रही पीड़िता की मां ने इलाज की आस लगाए कलेक्टर से गुहार लगाया है। मामला जिले के कुनकुरी तहसील का है।

कलेक्टर जनदर्शन में आई मासूम श्रुति की मां विनिता मिंज की मां ने बताया कि दिसम्बर माह में श्रुति की तबियत बिगड़ने पर उसे इलाज के लिए कुनकुरी के हॉली क्रॉस अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां चिकित्सकों ने जांच के बाद परिजनों को श्रुति के ह्दय में छेद होने की जानकारी देते हुए जल्दी से रायपुर ले जाकर इलाज कराने की सलाह दी थी।

इसके बाद यह मासूम कुपोषण का शिकार हो गई। विनिता के मुताबिक गांव की मितानीन के माध्यम से श्रुति को कुपोषण के इलाज के लिए जिला चिकित्सालय में स्थित सुपोषण केंद्र में भर्ती कराया गया। यहां इलाज के दौरान विनिता ने चिकित्सकों को श्रुति के ह्दय में छेद होने की जानकारी दी।

जानकारी में सुपोषण केन्द्र के चिकित्सकों ने चिरायु के प्रभारी को इसकी सूचना दी। सूचना पर चिरायु के अधिकारियों ने विनिता से कुछ दस्तावेज लेकर जल्द इलाज का भरोसा दिया। लेकिन 6 माह गुजर जाने के बाद भी श्रुति को चिकित्सकीय सहायत नहीं मिल पाई है। इससे इस मासूम को गंभीर शरीरिक परेशानियों से जूझना पड़ रहा है।

Posted By: Sandeep Chourey