जशपुरनगर। Jashpur News: शुक्रवार को जिले में हाथियों का कहर जमकर टूटा। अलग अलग घटानाओं में अतिकायों ने तीन ग्रामीणों को कुचल कर मार डाला। मृतकों को दो महिलाएं शामिल हैं। डीएफओ एसके जाधव ने दो मौत की पुष्टि की है। तीसरी मौत जिले के दुलदुला वनपरिक्षेत्र के पहुंच विहिन गांव की बताई जा रही है। मौके के लिए वनविभाग की टीम रवाना की गई है। टीम से रिपोर्ट ना आने के कारण, इस घटना का विवरण फिलहाल विभाग के पास उपलब्ध नहीं। हादसों के संबंध में जानकारी देते हुए डीएफओ जाधव ने बताया कि पहली घटना जिले के तपकरा वन परिक्षेत्र के ग्राम दाइजबहार की है।

इस गांव की निवासी 60 वर्षीय वृद्धा इग्नेशिया तिग्गा जंगल में दातुन और पुटु लेने के लिए गई हुई थी। इसी दौरान क्षेत्र में डेरा जमाए हाथियों ने उस पर हमला कर दिया। बताया जा रहा है कि हादसे के वक्त वृद्धा के साथ उसका बेटा भी था। हाथियों के झुंड द्वारा हमला करने पर उसने किसी तरह अपनी जान बचा ली। हाथियों ने वृद्वा को सूंड में लपेट कर जमीन में पटक दिया। हादसे में गंभीर रूप से घायल हुई वृद्धा को ग्रामीणों की मदद से कुनकुरी के हॉली क्रॉस अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

यहां ईलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। इसी प्रकार दूसरी घटना कुनकुरी वनपरिक्षेत्र के धूमाडांड की है। जानकारी के मुताबिक यहां बितनाथ राम पिता मस्तूराम भी शुक्रवार की सुबह गांव के नजदीकी जंगल में पुटु बिनने के लिए गया हुआ था। इसी दौरान जंगल में दल से अलग हो कर डेरा जमाए हाथी ने उस पर हमला कर दिया। हाथी ने बितना राम को सूंड से उठा कर जमीन में पटकने के साथ ही उसे पैर से कुचल दिया। इससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। दुलदुला रेंज में एक महिला की हाथी के हमले में मौत की खबर आ रही है। फिलहाल इसका विवरण नहीं मिल पाया है।

जिले में चौबिस हाथी मौजूद

डीएफओ एसके जाधव ने बताया कि जिले के तपकरा, कुनकुरी और दुलदुला वन परिक्षेत्र में ​शुक्रवार सुबह की स्थिति में 24 हाथी अलग- अलग दल में मौजूद हैं। इनमें सबसे अधिक 8 हाथी तपकरा वन परिक्षेत्र में है। कुनकुरी रेंज में बोड़ोकछार और गिनाबहार पंचायत में 5 हाथी डेरा जमाए हुए हैं। उन्होने ग्रामीणों से हाथियों के नजदीक ना जाने और लॉकडाउन का पालन करते हुए घर में ही रहने की अपील की है।

सायरन बजने के बाद भी ग्रामीण जा रहे हैं जंगल

आबादी क्षेत्र के नजदीक हाथियों की आमद की सूचना देने के लिए वनविभाग ने जिले के कुनकुरी और तपकरा वनपरिक्षेत्र में सजग मोबाइल एप से कनेक्टेड हूटर सिस्टम स्थापित किया है। डीएफओ जाधव ने बताया कि कुनकुरी में जिस गांव में शुक्रवार को हादसा हुआ है, वहां सायरन के माध्यम से स्थानीय रहवासियों को हाथियों की मौजूदगी की सूचना दी गई थी। बावजूद इसके ग्रामीण चेतावनी और लॉकडाउन को दरकिनार करते हुए जंगल में घुस गए। इसके परिणाम स्वरूप यह हादसा हुआ।

जिले के तपकरा और कुनकुरी वनपरिक्षेत्र में हाथियों के हमले में अलग- अलग घटनाओं में दो की मौत की पुष्टि हो चुकी है। तीसरी घटना दुलदुला वनपरिक्षेत्र की बताई जा रही है। मौके पर टीम भेजी गई है। टीम से रिपोर्ट मिलने पर ही मामले में कुछ कहा जा सकता है। पीड़ित परिवाारों के लिए अंतरिम राहत राशि की व्यवस्था की जा रही है।

- एसके जाधव, डीएफओ, जशपुर

Posted By: Himanshu Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020