जशपुरनगर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। वैश्विक महामारी में पूरे देश से लोग जरूरतमंदों की मदद करने के लिए आगे आ रहे हैं। ऐसे में टीवी में देख रहे समाचार व अपने पिता के कायोर् से प्रभावित जशपुर की दो नन्ही बेटी वदानिया मिरी और अक्सप्रणालिक मिरी ( डेजी और पीहू) अपनी सहेली अलाइका के साथ सम्वेदना के कार्यक्रम में शामिल हुईं। उन्होंने ने देखा कि सम्वेदना सदस्यों के द्वारा कोरवा जनजाति परिवारों को राशन, कपड़े बांटे जा रहे हैं, तो दोनों ने पहाड़ी कोरवा ग्राम बिरलाकोना में कोरवा बच्चों को अपने गुल्लक में जमा सारे पैसे बांट दिए। बच्चियों ने स्वयं इच्छा जताई जिसके बाद चाइल्ड लाइन कार्यकर्ताओं के साथ उन्होंने कोरवा बच्चों को पैसे बांट दिए। दोनों के गुल्लक में 5 हजार से अधिक रूपए थे। वहीं बच्चों ने कोरवा बच्चों से यह निवेदन भी किया कि इस पैसे का उपयोग अपने खास जरूरत के लिये करें। दोनों बच्चों ने अपनी सहेली के साथ सभी बच्चे को दो से तीन सौ रुपए बांटे। साथी बच्चों को चकलेट बिस्किट भी वितरण किया गया। कार्यक्रम में चाइल्ड लाइन की टीम भी बच्चों के साथ थी। वहीं संवेदना समूह के कार्यक्रम में तहसीलदार कमलेश मिरी, सूबेदार सौरभ चंद्राकर, सामाजिक कार्यकर्ता रामनिवास अग्रवाल , भावेश गुप्ता, शिवनारायण सोनी, संजय पाठक, सीमा गुप्ता, रविन्द्र कंसारी, शशि साहू, विकास प्रधान, विकास अग्रवाल सहित सम्वेदना, चाइल्ड लाइन के सदस्य भी मौके पर उपस्थित थे। सभी ने बच्चों के इस पहल पर तालियों की गड़गड़ाहट के साथ बच्चों का सम्मान किया।

-------------

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना