जशपुर। लगातार प्रयास के बाद भी हाथी के बच्चे को मां और उसके दल से मिलाया नहीं जा सका है। बच्चे की मां की पहचान करना बेहद कठिन काम है। इसके लिए विशेषज्ञता के साथ अनुभव की भी आवश्यकता होती है। यही कारण है कि वनविभाग प्रदेश भर के जानकारों की सहायता ले रहा है। हाथी के बच्चे को जन्म देने वाली मादा हाथी के शारीरिक संरचना में बदलाव होता है। इसके साथ ही बच्चे के बिछड़ जाने से मादा हाथी के साथ पूरे दल का व्यवहार में बदलाव होने की संभावना जताई जा रही है। तपकरा के आसपास मौजूद हाथियों के दल के बीच इसी आधार पर पहचान करने की कोशिश की जा रही है।

बीते मंगलवार को दो माह का एक हाथी का बच्चा दल से अलग होकर तपकरा रेंज के समडमा गांव की बस्ती में पहुंच गया था। हाथी के बच्चे के साथ खेलते हुए इंटरनेट मीडिया में प्रसारित किए गए फोटो और वीडियो को देख कर वनविभाग के अधिकारी समडमा पहुंचे। इसके बाद हाथी के बच्चे को स्थानीय स्कूल भवन में सुरक्षित किया था। इसी दिन शाम को समडमा के जंगल में डेरा जमाए एक हाथी के दल से इस बच्चे को मिलाने की कोशिश की थी।

लेकिन इस दल ने कई बार के प्रयत्न के बाद भी इस बच्चे को स्वीकार नहीं किया। अंतत: छोटा हाथी को विश्राम गृह में सुरक्षित रखकर उसकी मां की खोज शुरू की गई है। हाथी के बच्चे को मां से मिलाने के इस अभियान में सबसे बड़ी चुनौती मादा हाथी की पहचान सुनिश्चित करना बना हुआ है। जानकारों के अनुसार वनविभाग पहले जिस दल से इस बच्चे को मिलाने की कोशिश कर रहा था, वह अब झारखंड की ओर पलायन कर चुका है। दूसरा बड़ा दल गौतमी बताया जा रहा है। लेकिन हाथी के बच्चे का इस दल के होने की संभावना कम बताई जा रही है। इसलिए हाथी मित्र दल, ट्रैकर और महावत दूसरे दलों के साथ दो और तीन की संख्या में घूम रह हाथियों को ट्रैक करने की जतन में जुटे हुए हैं।

खदेड़े जाने से हो रही है परेशानी

तपकरा रेंज में हाथियों की खोज में दौड़ रहे रेस्क्यू दल को घने जंगल और झाड़ियों से परेशानी हो रही है। जंगल के बीच में झाड़ियों के बीच छिपे हुए हाथियों की शारीरिक संरचना और उनके हावभाव को भांप पाना मुश्किल हो रहा है। इसके लिए बचाव दल के सदस्य हाथियों के बस्ती के समीप आने का इंतजार कर रहे हैं। लेकिन, बस्ती के पास आने पर स्थानीय रहवासियों द्वारा इन्हे खदेड़ दिए जाने से दल का काम पूरा नहीं हो पा रहा है। हाथियों की जानकारी के लिए ट्रैकर स्थानीय ग्रामीणों के साथ सड़क से गुजरने वाले वाहन चालकों से बातचीत करके जानकारी जुटा रहे हैं।

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close