पत्थलगांव(नईदुनिया न्यूज)। श्रावण माह में किलकिलेश्वर धाम आस्था के साथ ही जागरूकता का केंद्र भी बन गया है। पत्थलगांव पुलिस ने श्रावण माह के तीसरे सोमवार को यहां विश्वास अभियान चलाया। दूसरे सावन सोमवार को भी पुलिस ने यहां विशेष अभियान चलाकर महिलाओं और बालिकाओं को उनकी सुरक्षा के लिए छग पुलिस द्वारा बनाए गए अभिव्यक्ति एप के बारे में जानकारी दी गई वहीं लोगों को विभिन्ना कानूनी विषयों की जानकारी देते हुए यातायात नियमों से भी अवगत कराया। पुलिस अधीक्षक जशपुर डी रविशंकर,अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमती प्रतिभा पांडेय व अनुविभागीय अधिकारी पुलिस पत्थलगांव मयंक तिवारी के निर्देशानुसार पत्थलगांव थाना प्रभारी श्रीमती मल्लिका तिवारी द्वारा विश्वास अभियान एवं अभिव्यक्ति एप के तहत विशेष अभियान चलाया जा रहा है। जिसमें लोगों को अलग-अलग कानूनों के बारे में जानकारी देने के साथ ही आम जनता और पुलिस के बीच दूरी कम करने और दोनों के बीच संवाद स्थापित करने का प्रयास किया जा रहा है। श्रावण के महीने में पुलिस ने किलकिलेश्वर धाम को इसके लिए चुना है। पुलिस की इस पहल से किलकिलेश्वर मंदिर परिसर धार्मिक आस्था के साथ ही जागरूकता अभियान का केंद्र भी बन गया है। दूसरे सावन सोमवार के बाद तीसरे सोमवार को भी पुलिस ने थाना प्रभारी मल्लिका तिवारी के मार्गदर्शन में यहां विशेष अभियान चलाया। इसमें थाना प्रभारी ने एटीएम ठगी और साइबर क्राइम के बढ़ते मामलों के बारे में बताते हुए इस पर रोक लगाने के लिए लोगों के जागरूक होने पर जोर दिया। उन्होंने अपराधियों द्वारा अपनाई जाने वाली गतिविधियों की ओर ध्यानाकर्षण कराते हुए लोगों से ठगों की मानसिकता को समझने और उससे बचने के उपाय भी बताए। थाना प्रभारी श्रीमती मल्लिका तिवारी ने मंदिर आने वाली महिलाओं को कानून में मिले विशेष सुरक्षा प्रावधानों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए कानून में कई प्रावधान किए गए हैं परंतु जानकारी के अभाव में महिलाएं इनका लाभ नहीं ले पाती हैं वहीं कई महिलाएं ऐसी भी हैं जो झिझक के कारण सामने नहीं आ पातीं और उनके साथ होने वाले अपराधों को सहन करती रहती हैं। श्रीमती तिवारी ने बताया कि महिलाओं की खामोशी की परिणति कभी-कभी गंभीर अपराधों के रूप में भी सामने आती है। ऐसे में महिलाओं को उनके साथ होने वाले अपराधों पर बिना किसी हिचक के सामने आकर कानूनी उपाय हासिल करने चाहिए। उन्होंने कहा कि महिलाएं बिना किसी हिचक के उनके पास आ सकती हैं। उन्हें समुचित कानूनी उपायों के साथ ही संरक्षण भी प्रदान किया जाएगा। उन्होंने महिलाओं को छग पुलिस द्वारा तैयार किए गए अभिव्यक्ति एप के बारे में बताते हुए इसे अपने मोबाइल में डाउनलोड करने के लिए भी प्रेरित किया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close