जशपुरनगर। बुखार और हाथ पैर में दर्द की शिकायत लेकर इलाज के लिए भर्ती महिला की देर रात जिला चिकित्सालय में मौत हो गई। महिला के मौत के बाद उनके स्वजनों ने इलाज में लापरवाही का आरोप लगाकर अस्पताल में जमकर बवाल मचाया। पूरे मामले की जांच और पीड़ित परिवार को मुआवजा की मांग को लेकर स्वजनों और स्थानीय लोगो ने नारेबाजी करना शुरू कर दिया।

घटना की सूचना पर तहसीलदार विकास जिंदल,एसडीओपी आरएस परिहार सहित प्रशासनिक अधिकारी अस्पताल पहुंचेे और नारेबाजी कर रहे लोगो को समझाइश देकर उन्हें शांत किया। जानकारी के अनुसार भागलपुर निवासी प्रभा नायक (22) पति अविनाश नायक को बुधवार को सुबह 10 बजे के आसपास जिला अस्पताल के जनरल वार्ड में बुखार की शिकायत में भर्ती किया गया था।जिसमें मलेरिया टायफाइड की जांच में रिपोर्ट नेगेटिव आया।इस दौरान उसका इलाज शुरू हो चुका था। रात्रिकालीन ड्यूटी में पंहुचे डा अग्रवाल के कहने पर नर्स ने इंजेक्शन दिया जिसके बाद महिला की हालत बिगड़ने लगी घबराहट होने लगी और सांस लेने में महिला को दिक्कत होने लगी।परिजनों ने इसकी सूचना तत्काल डा अग्रवाल को दी जिस पर उन्होंने महिला के स्वजनों को डांटकर भगा दिया और मरीज को देखने नहीं पंहुचे। जिसके लगभग आधा घंटे बाद महिला की मौत हो गई। स्वजनों का आरोप है कि महिला की मौत गलत इलाज से हुई है। कलेक्टर रितेश अग्रवाल द्वारा मामले की जांच का आश्वासन दिए जाने पर रात को मामला शांत हुआ। जिला चिकित्सालय में इस समय मृतिका के पोस्टमार्डम की तैयारी की जा रही है। उल्लेखनीय है कि जिले के स्वास्थ्य केंद्रों में इलाज में देरी, स्टाफ की लापरवाही के कारण मरीजों की मौत को लेकर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को कई बार शिकायत की जा चुकी है। इसके बाद भी विभाग के संबंधित अधिकारी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। इसे लेकर लोगों ने कई बार नाराजगी भी जाहिर की है और कलेक्टर के माध्यम से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल व स्वास्थ्य मंत्री को ज्ञापन भेजकर दोषियों पर कार्रवाई की भी मांग की है ।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close