जशपुर नगर,नईदुनिय प्रतिनिधि। दिव्यांग केन्द्र में दुष्कर्म,छेड़छाड़ और मारपीट के मामले में रायगढ़ लोकसभा क्षेत्र की सांसद श्रीमती गोमती साय ने प्रदेश सरकार पर बड़ा हमला बोला है। उन्होनें इस घृणित,शर्मनाक और अमानवीय घटना के लिए सीधे प्रदेश सरकार को जिम्मेदार बताते हुए कहा कि प्रदेश् में पूर्व में हुई इस तरह की घटनाओं से भी प्रदेश सरकार ने कोई सबक नहीं लिया। खनिज न्यास निधि से संचालित दिव्यांग केन्द्र पूरी तरह से भगवान के भरोसे चल रहा था। यहां शासन और प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारियों को झांकने तक की फुर्सत नहीं थी। नतीजा,चार साल गुजर जाने के बाद छात्रावास अधीक्ष्‌क की नियुक्ति नहीं हो पाई थी,अगस्त माह में छात्रावास शुरू होने के बाद से नदारद महिला केयर टेकर के संबंध में किसी को जानकारी नहीं थी। केन्द्र के संचालन की जिम्मेदारी सम्हालने वाले राजीव गांधी शिक्षा मिशन के डीएमसी अव्यवस्था से पूरी तरह से अनभिज्ञ थे। उन्होनें कहा कि प्रदेश सरकार की यह अक्षम्य अपराध है। मानवता को शर्मसार कर देने वाली इस घटना में सिर्फ आरोपितों के जेल भेजने और जूनियर कर्मचारियों पर कार्रवाई से काम नहीं चलेगा। दिव्यांग केन्द्र को इस बदतर स्थिति में पहुंचाने वाले बड़े अधिकारियों की जिम्मेदारी तय कर,उनके विरूद्व एफआईआर दर्ज करने की कार्रवाई होनी चाहिए।शासकीय संस्थान में दिव्यांग बेटियां सुरक्षित नही है तो सरकार की व्यवस्था कैसी है इसे समझा जा सकता है। सांसद श्रीमती गोमती साय ने जशपुर सहित प्रदेश के सभी बालिका छात्रावास में तैनात पुरूष कर्मचारियों को हटा,महिला कर्मचारियोयं की नियुक्ति करने के साथ सीसीटीवी कैमरा लगाएं जाने की मांग की है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local