जशपुर नगर। जंगल से लौट रहे दो ग्रामीणों के सामने अचानक एक भालू आ गया। भालू ने उन पर हमला कर दिया। जान बचाने के लिए ग्रामीण भालू से भिड़ गया। करीब आधे घण्टे तक दोनों के बीच जोर आजमाइश चलती रही। इस बीच ग्रामीण की चीख पुकार सुन कर दूसरा ग्रामीण भी मदद के लिए आ पहुंचा। लेकिन जान लेने पर उतारू भालू भागने के लिए राजी नही हुआ। वह दोनों से जूझते रहा।

लगभग एक घटने तक चले मानव और भालू के इस संघर्ष में,थक कर भालू,घने जंगल की ओर भाग कर लुप्त हो गया। लोमहर्षक घटना जिले के बादलखोल अभ्यारण्य के नारायणपुर रेंज के कलियां गांव की है। इस गांव के दो ग्रामीण दीपक मिंज 32 वर्ष और दयाल लकड़ा सोमवार की सुबह चार बीनने के लिए जंगल गए हुए थे। घर लौटने के दौरान भालू ने सबसे पहले दयाल लकड़ा को निशाना बनाया। इसके बाद उसकी सहायता के लिए आये दीपक को भी घायल कर दिया। दोनों घायलों को कलियां के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया। यहां उनका प्राथमिक उपचार किया जा रहा है।

जानकारी के लिए बता दें कि बादलखोल अभयारण्य को एलिफेंट कॉरिडोर के रूप में विकसित किया जा रहा है। इसका उद्देश्य हाथियों के आने जाने और विचरण करने के लिए सुरक्षित रास्ता उपलब्ध कराना है। ताकि,हाथी,आबादी वाले क्षेत्र में न घुसे। हालांकि,इस महत्वाकांक्षी योजना की प्रगति बेहद सुस्त रफ्तार से हो रही है। इस बीच,इस अभ्यारण्य क्षेत्र में अवैध कटाई को लेकर विवाद की स्थिति बनती रही है। बीते दिनों जनजातीय सुरक्षा मंच ने इस मुद्दे को लेकर धरना प्रदर्शन भी किया था। हाथी और भालू के अलावा इस अभयारण्य में हिरण,मोर,बंदर जैसे वन्य जीव पाए जाते है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close