0- विवाद : तू-तू मैं-मैं से शुरू हुए विवाद में गाली गलौज तक की नौबत, किसी तरह शांत कराया गया हंगामा

विवाद की वजह-

0- चारामा जनपद चुनाव को लेकर भाजपा में सामने आ गई गुटबाजी

0- निर्धारित समय पर प्रदर्शन तो शुरू नहीं हुआ, विवाद हो गया

0- जिला महामंत्री आलोक ठाकुर के प्रदर्शन में शामिल होने से शुरू हुआ विवाद

0- कांकेर मंडल अध्यक्ष खटवानी के बीच में कूदने से हाथापाई की स्थिति

कांकेर। नईदुनिया प्रतिनिधि

किसानों के हितों को लेकर धरना-प्रदर्शन कर रहे भाजपा कार्यकर्ता आपस में ही भिड़ गए। धरना स्थल पर तू-तू मैं-मैं से गाली गलौच की नौबत आ गई। बीच बचाव के बीच हंगामे को शांत कराया गया। इसके बाद धरना-प्रदर्शन शुरू हो सका। हालांकि प्रदर्शन के दौरान हुए विवाद से चारामा जनपद चुनाव को लेकर भाजपा में हो रही गुटबाजी सामने आ गई।

धान खरीदी की तारिख बढ़ाने और किसानों का धान खरीदे जाने की मांग लेकर प्रदेशभर में भाजपा के द्वारा प्रदर्शन किया जा रहा है। कांकेर जिला मुख्यालय के पुराने बस स्टैंड में भी शनिवार को सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक भारतीय जनता पार्टी के तत्वाधान में सरकार की किसान विरोधी नीतियों के विरोध में प्रदेश सरकार के खिलाफ एक दिवसीय धरना प्रदर्शन का आयोजन किया गया।

प्रदर्शन निर्धारित समय पर तो शुरू नहीं हो सका, लेकिन विवाद जरूर शुरू हो गया। प्रदर्शन के लिए भाजपाई जुटे ही थे कि भाजपा कार्यकर्ता राजेन्द्र गौर व विजय मंडावी नवनिर्वाचित जनपद सदस्य उड़कुड़ा चारामा प्रदर्शन में शामिल जिला महामंत्री आलोक ठाकुर के प्रदर्शन में शामिल होने का विरोध करने लगे और उन्हें प्रदर्शन में शामिल न करने की मांग करने लगे। इसका जिला महामंत्री आलोक ठाकुर ने विरोध किया और बीच बचाव में कांकेर मंडल अध्यक्ष दीपक खटवानी भी कूद गए और कार्यक्रम में विवाद न करने की बात कही। इसके बाद माहौल गर्म हो गया और दोनों ओर गाली गलौच शुरू हो गया और हाथापाई की स्थिति निर्मित हो गई थी। इस दौरान वहां मौजूद कुछ कार्यकर्ताओं ने दोनों पक्षों को समझाइश देते हुए शांत कराया। दोनों पक्षों के शांत होने के बाद प्रदर्शन फिर से शुरू हुआ। शाम चार बजे तक धरना प्रदर्शन जो निर्धारित समय से 1 घंटे पहले ही समाप्त कर दिया गया।

पार्टी विरोध कार्य करने वालों पर हो कार्रवाईः गौर

धरना प्रदर्शन स्थल पर महामंत्री के साथ हुए विवाद के संबंध में भाजपा कार्यकर्ता राजेन्द्र गौर ने कहा कि जिला महामंत्री आलोक ठाकुर महामंत्री है, लेकिन पिछले लोकसभा व विधानसभा चुनाव में पार्टी विरोधी कार्य करने की शिकायत पर पार्टी की ओर से नोटिस जारी किया गया था। राजेन्द्र गौर ने आरोप लगाया कि चारामा जनपद चुनाव में भी आलोक ठाकुर ने कांग्रेस मिलकर साजिश रचा गया था। इसलिए हमरा मांग था कि नोटिस के संबंध में पहले पार्टी कार्यालय में तलब किया जाए, जिसके बाद उन्हें कार्यक्रम में शामिल किया जाना चाहिए। किसी सदस्य के द्वारा पार्टी विरोधी कार्य किया जाना पार्टी के हित में नहीं है।

नहीं मिला कोई नोटिस, आरोप निराधारः आलोक

धरना प्रदर्शन स्थल पर हुए विवाद और उन पर लगाए जा रहे पार्टी विरोधी कार्य करने के आरोप के संबंध में पूछे जाने पर आलोक ठाकुर ने कहा कि उन्हें किसी प्रकार का कोई नोटिस नहीं मिला है। जनपद का चुनाव पार्टागत चुनाव नहीं था और न ही उन्हें पार्टी के द्वारा अधिकृत किया गया था। इन चुनाव में जोड़तोड़ कर अध्यक्ष-उपाध्यक्ष बनाया जाता है। उन्होंने कहा कि उन पर लगाए जा रहे आरोप गलत हैं, उनके द्वारा किसी प्रकार का पार्टी विरोधी कार्य नहीं किया गया है।

जिला अध्यक्ष ने झाड़ा पल्ला

धरना प्रदर्शन के दौरान हुए विवाद के संबंध में भाजपा जिला अध्यक्ष हलधर साहू से पूछे जाने पर उन्होंने पल्ला झाड़ते हुए इस प्रकार की किसी घटना के होने से इंकार कर दिया। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो के संबंध में पूछे जाने पर भी उन्होंने किसी प्रकार की जानकारी नहीं होने की बात कही।

सरकार की नीति को बताया किसान विरोधी

प्रदेश की कांग्रेस सरकार के खिलाफ भारतीय जनता पार्टी ने शहर के पुराने बस स्टैंड में एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया। भाजपा जिलाध्यक्ष हलधर साहू ने सभा को संबोधित करते हुए भूपेश बघेल सरकार की जमकर आलोचना की। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार की किसान विरोधी नीति पूर्ववर्ती अजित जोगी सरकार की थी, उसी रास्ते पर प्रदेश की कांग्रेस सरकार चल रही है। किसानों से एक एक दाना धान खरीदने का वादा कर सत्ता में आई थी औ आज कांग्रेस किसानों से ही वादाखिलाफी कर प्रदेश के कई किसानों का धान खरीदने से इनकार कर रही है।

मछुआ कल्याण बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष भरत मटियारा ने कहा कि अपना धान बेचने आंदोलन कर रहे किसानों पर प्रदेश की कांग्रेस सरकार लाठीचार्ज कर रही है उन्हें दौड़ा दौड़ा कर मार रही है। चुनाव से पहले इन्होंने बड़े बड़े वादे करते हुए हाथ मे गंगा जल लेकर किसान हितैषी होने की कसम खाई थी, पर सत्ता मिलते ही किसानों पर जुल्म ढाना चालू कर दिए। जिला महामंत्री आलोक ठाकुर ने प्रदेश सरकार को कोसते हुए कहा कि भूपेश बघेल एक साल में ही शासन चलाने में नाकाम हो चुके है। एक एक दाना धान खरीदने की कसम खाने वालों ने धान खरीदी से बचने किसानों का रकबा ही कम कर दिया। महेश जैन ने कहा कि भूपेश सरकार न केवल किसानों के मुद्दे पर बल्कि हर जगह नाकाम हो चुकी है। कांग्रेस सरकार से किसान, बेरोजगार, छात्र, सरकारी कर्मचारी, आम जन सब त्रस्त हो चुके है। सभा को अन्य वक्ताओं ने भी सम्बोधित करते हुए प्रदेश सरकार की नाकामी को गिनाया।

प्रदर्शन में शालिनी राजपूत, रवि तिवारी, दिलीप जायसवाल, सालिक राम साहू, निपेन्द्र पटेल, दीपक खटवानी, नारायण पोटाई, पंचू राम नायक, यशवंत सुरोजिया, बृजेश चौहान, रामचरण कोर्राम, अशोक वलेचा, दिनेश रजक, नीलू तिवारी, सुनील जायसवाल, राकेश शर्मा, जीवन नेताम, डोमार रवानी, परमेश्र्‌वर जैन, हीरा मरकाम, आशा राम नेताम, मनीष जैन, राजेंद्र गौर, देवेंद्र भाऊ, देवेंद्र साहू, संजय सिन्हा, विजय मण्डावी, अविनाश ठाकुर, अन्नपूर्णा ठाकुर, तारा ठाकुर, सुभाष गजेंद्र, पुष्पा मण्डावी, मीना साहू, उषा ठाकुर, दशरथ साहू, लोकेश्वर सेन, उत्तम जैन, जागेश्वरी साहू, शैलेंद्र सोरी, संजू गोपाल साहू, कृष्णा साहू, मोती राम नाग, अजय पप्पू मोटवानी, श्रद्धेश चौहान, महावीर धनेलिया, रेशमा केशरी, दिनेश नागदौने, प्रकाश निषाद, राजहंस मटियारा, कन्हैया साहू, अरुण कौशिक, विजय लक्ष्मी कौशिक, आसिफ शेखानी सहित बड़ी संख्या में भाजपा पदाधिकारी व कार्यकर्ता शामिल हुए।

Posted By: Nai Dunia News Network