कांकेर। भाजपा मंडल चारामा के अध्यक्ष प्रकाश जोतवानी ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए बयान जारी कर कहा कि पूरे देश में मात्र दो राज्यों में सिमटी कांग्रेस की सरकार का सफाया होना तय देखकर बौखलाहट में अनर्गल बयानबाजी की जा रही हैं। वहीं इनके मंत्री खुद कलेक्टर के खिलाफ मोर्चा खोल कर रख दिया, जिससे स्पष्ट हो गया हैं कि कांग्रेस की सरकार किस कदर भ्रष्टाचार में लिप्त होने का प्रमाण है। प्रदेश की भूपेश सरकार अपने वादों से मुकर रही है, जिससे जनता जवाब स्वरूप आंदोलन न कर पाए इसलिए अनुमति पूर्व की बाध्यता कर दमन की राजनीति कर रही है। कांग्रेस सरकार अपने आपको जनता का हितैषी का ढकोसला कर रही है।

आगे जोतवानी ने कहा कि इनके कई काले कारनामे उजागर न हों इसलिए मुझ पर झूठे प्रकरण बनाकर जिला बदर की कार्रवाई के लिए दमनकारी रवैया अपनाया गया। जिस पर उच्च न्यायालय से रोक लगने के बाद इन्हें करारा झटका लगा। कांग्रेसी नेताओं की मंशा थी कि प्रदेश सरकार के खिलाफ किसी प्रकार का जन आंदोलन न खड़ा हो सके, जिसके लिए इस प्रकार का षड़यंत्र पूर्वक फंसाने का प्रयास किया गया। जिसे जनता भली-भांति देख रही है।

भाजपा के बढ़ते जनाधार को कांग्रेस पचा नहीं पा रही है। स्थानीय कांग्रेस के नेता ने दबाव पूर्वक अपने चहेते पार्षद को प्रधानमंत्री आवास एक ही परिवार, एक ही छत के नीचे निवासरत को तीन -तीन पीएम आवास गलत ढंग से लाभ पहुंचाया गया। जब भाजपा पार्षद की शिकायत पर कार्यवाही के लिए जांच शुरु की गई तो सत्ता का दुरूपयोग कर जांच को प्रभावित किया जा रहा है। कांग्रेस का चाल चरित्र उजागर हो रहा है, जनता देख रही है। एक ओर कांग्रेसियों द्वारा प्रधानमंत्री की योजनाओं को ढकोसला बताते हैं और दूसरी तरफ एक कांग्रेस पार्षद के परिवार को अनैतिक लाभ पहुंचाया जाता है।

देश के प्रधानमंत्री व्दारा कच्चे मकान में निवासरत ग़रीबों को पीएम आवास का लाभ दिया जा रहा है। जिसे प्रदेश की कांग्रेस सरकार केंद्रीय योजनाओं को अपना बताकर ढकोसला कर रही है। छत्तीसगढ़ में केन्द्रीय योजनाओं में लगातार गड़बड़ी हो रही है और इसमें सत्तापक्ष के लोगों व्दारा जमकर भ्रष्टाचार किया जा रहा है। केंद्रीय योजनाओं को अपनी योजना बताकर कांग्रेस के लोग ढिंढोरा पीट रहे हैं। प्रदेश के विभिन्ना विभाग के अधिकारी-कर्मचारी आए दिन अपनी मांगों को लेकर आन्दोलन कर रहें हैं, जिसे प्रदेश की सरकार तानाशाही रवैया अपनाते हुए सुनने को तैयार नही है।

इसी तरह खाद के नाम पर मिट्टी और रेत मिलावट कर अमानक खाद को किसानों को थोपने का काम किया जा रहा है। किसानों को समर्थन मूल्य के उपर घोषणा की गई अंतर की अंतिम राशि का भुगतान अपने आकाओं के न्याय योजना के नाम पर तरसा-तरसा कर किश्तों में अदायगी कर रही है, जिसे भी किसान अपने आप को ठगा महसूस कर भली-भांति समझ रहे हैं। छत्तीसगढ़ की जनता आने वाले चुनाव में जरुर कांग्रेस को सबक सिखाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close