बांदे। ग्राम पानावर के कृषि केंद्र व्यापारी द्वारा किसानों को नकली खाद बेचने का मामला सामने आया है। जिससे क्षेत्र के किसानों में आक्रोश है, वहीं किसानों को इफको कंपनी के बोरी में नकली डीएपी खाद बेचकर किसानों के साथ धोखाधड़ी की। अब धान की फसल पूरी तरह बर्बाद होने की कागार पर है। किसानों को अब पता चला कि एक माह पूर्व धान लगाने के बाद भी धान की फसल जस का तस

बना हुआ है। खाद की जांच करने पर नकली पाया गया है। दुकानदार ग्राम पंचायत विष्णुपुर के ग्राम 99 के नीलकंठ बिस्वास का बताया जा रहा है, दुकानदार ने क्षेत्र में कई हजार बोरी खाद किसानों के पास बेचा है।

इससे अंदाजा लगा सकते है कि सैकड़ों किसानों की फसल बर्बाद हो गई होगी। अब किसानों के फसलों की मुआवजा की मांग के लिए बांदे के मुख्य सड़क पर भाजपा के पूर्व अध्यक्ष विक्रम सिंह उसेंडी ने अपने कार्यकर्ताओं के साथ सड़कजाम कर आंदोलन कर दुकानदार के ऊपर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। पिछले वर्ष बांदे क्षेत्र में नकली कीटनाशक बेचने का मामला भी इसी दुकानदार का हाथ था और दो वर्ष पूर्व में भी इसी दुकानदार के द्वारा नकली खाद बेचा गया था, तब भी कृषि विभाग मामूली कार्रवाई करके छोड़ दिए थे। उक्त मामले को गंभीरता से लेकर कार्रवाई की जाती।

तो आज इन गरीब किसानों का फसल बर्बाद नहीं होता और न किसानों के ऊपर कर्ज का दोहरी मार पड़ता, दुकान संचालक द्वारा प्रति वर्ष इस प्रकार कृत एवं किसानों से ठगी कर मालामाल होते जा रहे है तो वहीं कृषि विभाग मुख दर्शक बने बैठे है। जब बीते वर्ष अमानक दवाई किसानों को खपाया गया था उस वक्त विभाग द्वारा छापामारी कार्रवाई करते हुए दुकान को सील भी किया गया था, विभाग की मेहरबानी देखिये कुछ दिन बाद वही दुकान का सील खोल दिया जाता है, पूरा मामले को देखकर विभाग पर सवाल उठना लाजमी हैं। ग्राम पंचायत विष्णुपुर में उपसरपंच में रहते हुए मनरेगा के तहत तालाब निर्माण, सड़क निर्माण तथा उनके पत्नी के नाम से फर्जी बिल लगाकर 22 लाख रुपये हड़पने का मामला सामने आया था।

तब भी संबंधित विभाग जांच के दौरान के कार्य में घोटाला पाया गया था विभाग द्वारा तत्कालीन सरपंच रहे चुके नीलकंठ बिस्वास को 22 लाख का रिकवरी किया जाना था, पर अब तक रिकवरी करने में असमर्थ रहे विभाग। नकली खाद के कारोबार से कारोबारी मालामाल हो रहे हैं, वहीं इससे सीधे तौर पर किसान हलाल हो रहे हैं। उनकी गाढ़ी कमाई पानी में डूब रही है। नकली खाद के फेर में बीज के साथ-साथ फसलों की अन्य लागत भी बर्बाद हो रही है।

जांच की जाएगीः सुनील ध्रुव

इस मामले में नायाब तहसीलदार सुनील ध्रुव ने कहा कि मामला बहुत गंभीर है, इसे उच्च अधिकारी को अवगत कराया जाएगा। अधिकारियों के निर्देशनुसार ही जो जांच किया जाएगा, और जांच उपरांत दोषी पाए जाते है तो नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close