कांकेर। जिला बाल संरक्षण इकाई श्रम विभाग, पुलिस विभाग, चाईल्ड लाईन व सी तीन संस्था के सयुक्त टीम ने बस से जा रहे नाबालिक बच्चों को ले जाने वाले व्यक्ति को कांकेर के नवीन बस स्टैंड में बस से उतार कर पूछताछ की गई, जिससे पता चला कि उत्तर प्रदेश उन्नााव का रहने वाला शिव बोधन नामक व्यक्ति, बच्चों को नकुलनार दंतेवाड़ा छोड़ने जा रहा था।

उसने बताया कि बच्चों को नकुलनार के होटल में कार्य करवाना है। बच्चों से बातचीत करने पर जानकारी प्राप्त हुई कि सभी बच्चें उत्तर प्रदेश से है, जिसमे से दो बच्चें उन्नााव जिले व दो बच्चें बरेली जिले के है, जिसकी आयु 15 से 17 वर्ष के बीच है, जो काम करने नकुलनार दंतेवाडा जा रहे थे। सूत्रों से जानकारी प्राप्त हुई कि शिव बोधन, मां दुर्गा होटल नकुलनार दंतेवाड़ा में पहले और कार्य कर चुका है।

वहा कार्य करने वाले व्यक्ति की और आवश्कता को देखते हुए उसने अपने साथ इन बच्चों को भी कार्य करने के लिए ले जा रहा था। होटल का मालिक विनोद कुमार गावरिया नकुलनार कुवाकुण्डा दंतेवाड़ा निवासी है जिनसे शिव बोधन लगातार संपर्क में था। उक्त टीम द्वारा बच्चों को संरक्षण में लेकर बाल गृह धमतरी भेजा गया है। टीम में जिला बाल संरक्षण अधिकारी रीना लारिया, श्रम निरीक्षक तोषण कुमार तिवारी, सी तीन संस्था से कोमल लहरे, चाईल्ड लाईन से अमित बधेल, महेश साहू, भुपेन्द्र सहित पेट्रोलिंग टीम के सदस्य शामिल थे।

ग्रामीणों को मिला भूमि अधिग्रहण का मुआवजा

भानुप्रतापपुर के ग्राम मेड़ो के सात ग्रामीणों को भूमि अधिग्रहण के खिलाफ लंबित राशि प्रदान की गई। ग्राम कोदापाखा में वर्ष 2021 में पुल निर्माण केलिए लोक निर्माण विभाग द्वारा सात ग्रामीणों की भूमि अधिग्रहित की गई थी। जिसके लिए उन्हें आठ लाख 80 हजार रुपये की राशि शासन द्वारा प्रदान की जानी थी। लंबे समय के बाद भी उन्हें यह राशि प्रदान नहीं की गई। जिसके बाद मुख्यमंत्री के जन चौपाल में पीड़ितों में से एक ने यह आवाज उठाई और उसके बाद तत्काल कार्रवाई हुई और जिन किसानों की भूमि अधिग्रहित की गई थी उन्हें मुआवजा राशि प्रदान की गई। भानुप्रतापपुर के एसडीएम आईएएस जितेंद्र यादव ने ग्रामीणों को इस राशि का चेक प्रदान किया। न नईदुनिया

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close