चारामा। स्वतंत्रता के 75वें वर्ष हीरक जयंती के अवसर पर कांग्रेस द्वारा आयोजित भारत जोड़ो तिरंगा पदयात्रा निकाली गई। विधायक मनोज मंडावी के नेतृत्व में भानुप्रतापपुर विधानसभा स्तरीय आजादी का गौरव पदयात्रा का दूसरा दिन ग्राम भेजरीटोला से प्रारंभ होकर खरथा गोलकुंहड़ा रतेसरा होकर जैसाकर्रा में समापन हुआ। रक्षाबंधन होने के कारण जगह-जगह महिलाओं ने मंडावी को राखी बांधी और बहुत उत्साह के साथ ग्रामीणों ने भी इस तिरंगा पदयात्रा में शामिल होकर कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का उत्साह बढ़ाया।

इस अवसर पर मनोज मंडावी ने ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी सरकार के आठ वर्ष के शासनकाल में देश विकट स्थिति में है। महंगाई चरम पर है बेरोजगारी दर सर्वाधिक है चारों और जाति धर्म भाषा और क्षेत्र के नाम पर लोगों को बांटने का काम किया जा रहा है, सभी सरकारी संपत्तियां बिकने को है। हर चीज में टैक्स लगने से लोगों को कमरतोड़ महंगाई से दो चार होना पड़ रहा है। पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस के दाम आसमान छू रहे है। खाद्य पदार्थों के दाम आम आदमी की पहुंच से दूर हो गए है। वहीं दूसरी ओर छत्तीसगढ़ के भूपेश सरकार लोगों को राहत देने की काम कर रही है।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना गोधन न्याय योजना ग्रामीण भूमिहीन मजदूर न्याय योजना जैसे बहुत सारी योजनाओं के माध्यम से डायरेक्ट पैसा हितग्राहियों को देकर आम आदमी के जीवन स्तर में सुधार ला रही रही है। इस अवसर पर लोक सेवा आयोग के सदस्य नरेन्द्र यादव, जिला पंचायत सदस्य मिथलेश शोरी, नवली मीना मंडावी, ऊषा वट्टी, हीरवेद साहू, महेंद्र नायक, कृष्णा नायक, रवि नायक, अमृत देवांगन, विनोद साहू, शिव सोनकर, सत्तार खान, सत्यजीत यादव, कुंजलाल जैन, जीवधर कावड़े, श्यामलाल बाल्मीकि आदि उपस्थित थे।

टेकाढोड़ा की बिसाहिन मछली पालन कर बनी आत्मनिर्भर

जिले के किसानों के लिए मछली पालन अतिरिक्त आमदनी का जरिए अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत कर रहे हैं। भानुप्रतापपुर विकासखंड के ग्राम टेकाढोड़ा के महिला कृषक बिसाहिन बाई सलाम ने मछली पालन विभाग से संपर्क कर जानकारी प्राप्त किया और अपने 0.04 हेक्टेयर भूमि में तालाब बनवाकर मछली पालन से उन्हे एक लाख रुपये की आमदनी हुई। महिला कृषक ने बताया कि मत्स्य पालन विभाग द्वारा संचालित योजनाओं से उन्हे लाभांवित कर एक लाख 36 हजार रुपये की अनुदान सहायता प्रदान किया गया।

उस पैसे से अपने 0.40 हेक्टेयर भूमि में तालाब निर्माण करने के पश्चात कृषक बिसाहिन बाई सलाम ने विभागीय प्रशिक्षण लेकर मछली पालन करने लगी दस हजार मोनोसेक्स तिलपिया मछली बीज तालाब में डालकर पालन करना प्रारंभ कर दिया, छह माह पश्चात मछलियां बढ़ गई उस मछली को बेचकर 64 हजार रुपये की आमदनी प्राप्त हुआ। इसी प्रकार रोहू, कतला और मृगल मछली बीज तालाब में डालकर उत्पादन करती रही छह माह बाद मछलियों को बेचकर लगभग एक लाख रुपये का अतिरिक्त आमदनी प्राप्त होने से वे बहुत खुश है। कृषक बिसाहिन बाई राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी नीलक्रांति योजना से लाभान्वित होने पर जिला प्रशासन को धन्यवाद ज्ञापित किये हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close